1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. corona virus 40 corona infected for the first time in ranchi eight police personnel were among the infected

Corona Virus : रांची में पहली बार 40 कोरोना संक्रमित मिले, संक्रमितों में आठ पुलिस कर्मी भी शामिल

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
रांची में पहली बार 40 कोरोना संक्रमित मिले
रांची में पहली बार 40 कोरोना संक्रमित मिले

रांची : राजधानी में सोमवार को कोरोना के 40 नये संक्रमित मिलने की पुष्टि हुई है. संक्रमितों में अाठ पुलिस कर्मी भी हैं. इसमें पुलिस कंट्रोल रूम से पांच व पुलिस लाइन से तीन पुलिस कर्मी पॉजिटिव मिले हैं. सोमवार को मुख्य डाकघर से दो नये कोरोना संक्रमित मिले हैं. दोनों ने पूर्व में कोरोना संक्रमित का लड्डू खाया था.

इसके अलावा बरियातू से तीन, दीपा टोली से एक, रिम्स डॉक्टर्स कॉलोनी से एक, चर्च रोड से एक, चाबियान एरिया से एक, हरमू से एक, हरूडू से एक, इटकी से एक, कडरू पूल से एक, कांके के होचर से एक, खेलगांव के पीछे से एक, मोरहाबादी से दो, ओरमांझी से एक, रांची से एक, रातू रोड से एक, रिम्स के रैनबसेरा से एक, टाटिसिलवे से एक संक्रमित मिले हैं. वहीं एनएचएम का एक सिक्युरिटी गार्ड भी पॉजिटिव मिला है. इसके अलावा राजधानी के तीन निजी अस्पताल में भर्ती आठ मरीजों में कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है.

कोकर स्थित एक निजी अस्पताल से तीन, बरियातू स्थित एक अस्पताल से दो व बूटी मोड़ स्थित एक निजी अस्पताल से तीन मरीज संक्रमित पाये गये हैं. वहीं सदर अस्पताल के ट्रूनेट से भी पांच कोरोना संक्रमित मिले हैं, लेकिन इसकी पुष्टि स्वास्थ्य विभाग द्वारा नहीं की गयी है. इधर, रिम्स में भर्ती एक वीआइपी संक्रमित की बेटी को जिला प्रशासन द्वारा होम कोरेंटिन करने की तैयारी की जा रही है. उनको चार दिन पहले रिम्स के कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वह दोबारा पॉजिटिव पायी गयी है.

कंटेनमेंट व माइक्रो कंटेनमेंट जोन निरीक्षण के लिए टीम का गठन : राजधानी में दिनोंदिन कोरोना मरीजों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हो रही है. मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए प्रतिदिन नये कंटेनमेंट व माइक्रो कंटेनमेंट जोन का निर्माण किया जा रहा है. लेकिन इन नये जोन में प्रशासनिक व्यवस्था कैसी है, इसे देखने के लिए उपायुक्त राय महिमापत रे द्वारा टीम का गठन किया गया है. इसमें जिला सहकारिता पदाधिकारी मनोज कुमार, प्रवि पदाधिकारी खलारी नूतन कुमारी व जिला सांख्यिकी पदाधिकारी विमल कुमार को रखा गया है.

तीनों पदाधिकारियों को क्षेत्रवार कंटेनमेंट व माइक्रो कंटेनमेंट जोन की सूची देते हुए कहा गया है कि वे समय-समय पर यह जांच करें कि कंटनेंमेंट जोन में सब कुछ सही है या नहीं. तीन निजी अस्पताल में भर्ती आठ मरीजों में संक्रमण की पुष्टि, वीआइपी की बेटी होम कोरेंिटन में रहेगी

पेयजल मंत्री मिथलेश ठाकुर दोबारा पॉजिटिव

रिम्स के कोविड-19 अस्पताल में भर्ती पेयजल मंत्री िमथलेश ठाकुर दोबारा पॉजिटिव पाये गये हैं. सोमवार को रिम्स के ट्रूनेट से उनके सैंपल की जांच की गयी, जिसमें वह पॉजिटिव पाये गये.

मेकनकर्मी पॉजिटिव मिला, ऑफिस सील

राजधानी में मिले कोरोना संक्रमित में मेकन का एक कर्मचारी भी शामिल है. उसके कोरोना पॉजिटिव होने की सूचना पर मेकन ऑफिस में हड़कंप मच गया. दोपहर के बाद सबको अगले दो दिन के लिए छुट्टी दी गयी है. मंगलवार व बुधवार को ऑफिस को सैनिटाइज किया जायेगा.

वहीं कर्मचारी क सीधे संपर्क में आनेवाले कर्मचारियोंं व अधिकारियों को चिह्नित कर जांच के लिए जिला प्रशासन से आग्रह किया जायेगा.

िरम्स डीसीएच है, गंभीर संक्रमित ही रखे जायें

रिम्स द्वारा एसिम्टोमैटिक संक्रमितों के भर्ती नहीं लिये जाने पर सोमवार को जिला प्रशासन के साथ बैठक का आयोजन किया गया, जिसमेें रिम्स टास्क फोर्स के सदस्य शामिल हुए. टास्क फोर्स के डॉक्टर सदस्यों ने प्रशासन के अधिकारियों को बताया कि एसिम्टोमैटिक (बिना लक्षण) वाले संक्रमिताें को रखा नहीं जा सकता है. रिम्स डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल (डीसीएच) है, जहां गंभीर संक्रमिताें को रखना चाहिए.

बिना लक्षण वाले संक्रमितों को कोरोना केयर हॉस्पिटल (सीसीएच) में रखा जाये. इस पर जिला प्रशासन ने टास्क फोर्स से कहा कि बिना सूचना के तथा बिना लक्षण वाला कोरोना का मरीज यदि रिम्स कोविड अस्पताल पहुंच जाता है, ताे उसे लौटाया नहीं जाये. कोविड अस्पताल में एक वेटिंग हॉल बनाया जाये, जहां उन्हें रखा जाये. इसके बाद इसकी सूचना जिला प्रशासन को दें. ताकि मरीज इधर-उधर भटके नहीं. जिला प्रशासन की टीम आकर उसे सीसीएच अस्पताल में भर्ती करायेगी.

66 पुलिसकर्मी संक्रमित, चार स्वस्थ

रांची. काेरोना से राज्य में 66 पुलिसकर्मी संक्रमित हुए हैं. इनमें एक डीएसपी, एक इंस्पेक्टर, पांच दारोगा, नौ एएसआइ, छह हवलदार, 32 आरक्षी/चालक, एक चतुर्थवर्गीय कर्मचारी और सात गृहरक्षक शामिल हैं. हालांकि चार पुलिसकर्मी स्वस्थ हो चुके हैं. सोमवार को पुलिस मुख्यालय ने यह जानकारी दी. आइजी प्रोविजन सह पुलिस प्रवक्ता सुमन गुप्ता ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए आमजनों को जागरूक करने के साथ विधि-व्यवस्था बनाये रखने की जिम्मेदारी पुलिस की है.

अपराधियों के अतिरिक्त कोरोना पॉजिटिव के भी संपर्क में पुलिसकर्मी आते है, जिससे संक्रमित होने से इंकार नहीं किया जा सकता है. सरकार के स्तर से सभी जिलों के एसपी को कोरोना से बचाव व उपकरण की खरीद के लिए 33 लाख रुपये आवंटित किये गये हैं. आम जनता की शिकायतों के लिए सिटीजन पोर्टल व व्हाटसऐप के माध्यम से शिकायत सुनकर निराकरण करने की कार्रवाई की जा रही है.

14 दिनों का होगा कोरेंटिन

पुलिस मुख्यालय की ओर से निर्देश दिया गया है कि अवकाश से लौटे पुलिस अफसरों और कर्मियों को 14 दिनों तक कोरेंटिन में रहना होगा. इसके बाद उनकी कोरोना जांच कराकर स्वस्थ होने की स्थिति में ही ड्यूटी लिये जाने का निर्देश दिया गया है. वहीं ड्यूटी के दौरान सोशल डिस्टैसिंग, मास्क, सैनिटाइजर हैंड ग्लब्स व सर्जिकल कैप का उपयोग करने को कहा गया है.

इसके अलावा समय-समय पर कार्यालय, आवासीय स्थल व वाहनों को सैनिटाइज करने व अनावश्यक रूप से चेहरा छूने से बचने की सलाह भी दी गयी है. वहीं अभियुक्तों की गिरफ्तारी व जेल ले जाते वक्त भी सावधानी बरतने का निर्देश दिया गया है. Post by ; Pritish Sahay

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें