1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. latehar
  5. irctcindian railway jharkhand latehar chandawa the all india national freedom fighter policy tanabhagat stop the train tory level crossings sitting on the railway track for nearly 40 hours gur

IRCTC/Indian Railway : 40 घंटे से लातेहार के टोरी रेलवे ट्रैक पर डटे हैं टानाभगत, आवागमन पूरी तरह ठप

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
IRCTC/Indian Railway : 40 घंटे से लातेहार के टोरी रेलवे ट्रैक पर डटे हैं टानाभगत, मनाने का हो रहा प्रयास
IRCTC/Indian Railway : 40 घंटे से लातेहार के टोरी रेलवे ट्रैक पर डटे हैं टानाभगत, मनाने का हो रहा प्रयास
प्रभात खबर

चंदवा (सुमित कुमार) : लातेहार जिले के चंदवा प्रखंड में अखिल भारतीय राष्ट्रीय स्वतंत्रता सेनानी नीति टानाभगत समुदाय द्वारा विभिन्न मांगों को लेकर टोरी लेवल क्रॉसिंग पर रेल मालगाड़ी रोको कार्यक्रम आज शुक्रवार को तीसरे दिन भी जारी है. करीब 40 घंटे से रेलवे ट्रैक पर सैकड़ों टानाभगत समुदाय के पुरुष-महिला ट्रैक पर बैठे हैं. इन 40 घंटों में अब तक एक भी ट्रेन इस रेल पथ से नहीं गुजरी है.

आपको बता दें कि प्रशासन की पूरी मुस्तैदी के बावजूद टानाभगत समुदाय के लोग बुधवार की शाम सवा पांच बजे से रेलवे ट्रैक तक पहुंच गये थे. दो रात टानाभगत समुदाय के लोगों ने रेलवे ट्रैक पर बितायी है. गुरुवार की शाम लातेहार के विधायक बैद्यनाथ राम, उपायुक्त जीशान कमर एवं पुलिस अधीक्षक प्रशांत आनंद मौके पर पहुंचे और टानाभगत समुदाय के लोगों से वार्ता करने का प्रयास किया.

उपायुक्त ने कहा कि टानाभगत समुदाय का भारतीय इतिहास में बहुमूल्य योगदान है. वे कभी भी इन्हें तकलीफ देने की मंशा नहीं रखते हैं. आपका एक प्रतिनिधिमंडल साथ चले, सरकार से वार्ता के लिए मैं खुद पहल करूंगा. विधायक वैद्यनाथ राम ने कहा कि वे सरकार के दूत बनकर उनके पास पहुंचे हैं. उनकी बातों को वे सरकार तक पहुंचाएंगे. भीड़ से आई आवाज पर विधायक ने कहा कि खनिज है, तो जमीन से निकलेगा ही. अपनी राजनीति के लिए भोले-भाले टानाभगत समुदाय के लोगों को ना भरमाएं.

पुलिस कप्तान प्रशांत आनंद ने कहा कि वह पढ़ाई के दौरान टानाभगत का इतिहास पढ़े थे. आपके आंदोलन को दबाना या किसी को नुकसान पहुंचाना कभी हमारा लक्ष्य नहीं रहा था. इनके अलावा अन्य अधिकारियों व स्थानीय लोगों ने भी टानाभगत समुदाय के लोगों को समझाने व साथ रांची ले चलने की काफी कोशिश की. बावजूद वे नहीं माने.

टानाभगतों ने कहा कि जो उनकी मांगों को पूरा करने के लिए सक्षम अधिकारी या नेता है, वे ही हमारे पास आवें. अन्यथा खुद का समय खराब नहीं करें. अपनी मांगों को पूरी कर राज्यपाल के हस्ताक्षर युक्त प्रति की मांग कर रहे थे. इससे पूर्व गुरुवार के पूरे दिन जिला प्रशासन के तमाम अधिकारियों की टीम टाना भगत समुदाय के लोगों को हरसंभव समझाने का यत्न कर रहे थे. खबर लिखे जाने तक भी टाना भगत रेलवे ट्रैक पर बैठे हैं. आंदोलन जारी है.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें