1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. hazaribagh
  5. the landless surrounded the residence of barhi mla uma shankar akela of hazaribagh demanding a land lease and government housing the main gate was locked smj

भूमि पट्टा और सरकारी आवास की मांग को लेकर भूमिहीनों ने हजारीबाग के बरही विधायक उमा शंकर अकेला के आवास का किया घेराव, मुख्य गेट पर जड़ा ताला

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
अपनी मांगों को लेकर भूमिहीनों ने बरही विधायक उमाशंकर अकेला के आवास का किया घेराव.
अपनी मांगों को लेकर भूमिहीनों ने बरही विधायक उमाशंकर अकेला के आवास का किया घेराव.
प्रभात खबर.

Jharkhand News (अजय ठाकुर, चौपारण, हजारीबाग) : झारखंड के हजारीबाग जिला अंतर्गत चौपारण प्रखंड के चतरा रोड स्थित बरही विधायक उमा शंकर अकेला यादव के आवास को रविवार को दर्जनों गांव से आये भूमिहीन दलित परिवार के लोगों ने घेराव किया. साथ ही आवास के मुख्य गेट में ताला जड़कर वहीं धरना पर बैठ गये. जिससे कुछ देर के लिए अपने ही घर में विधायक अकेला बंधक बन गये. आवास का घेराव कर रही भूमिहीन घर बनाने के लिए जमीन का पट्टा एवं रहने के लिए सरकारी आवास का मांग कर रहे थे. इस दौरान एसडीओ के समझाने के बाद भूमिहीन शांत हुए.

Jharkhand news : विधायक आवास का घेराव करने आये क्षेत्र के भूमिहीनों को समझाते बरही विधायक उमा शंकर अकेला व अन्य प्रशासनिक पदाधिकारी.
Jharkhand news : विधायक आवास का घेराव करने आये क्षेत्र के भूमिहीनों को समझाते बरही विधायक उमा शंकर अकेला व अन्य प्रशासनिक पदाधिकारी.
प्रभात खबर.

अहले सुबह विधायक आवास पहुंचे भूमिहीन

अति उग्रवाद पंचायत दैहर पंचायत के भदान, कैरी पिपराही, लालकिसुन चक इचाक सहित दर्जन भर गांव के लोग अपनी मांग को लेकर अहले सुबहे विधायक आवास के पास पहुंच गये थे. भूमिहीन ग्रामीणों ने बताया कि 5 पीढ़ी से उनका परिवार जमीन के अभाव में वन भूमि पर झोपड़ी व मिट्टी का मकान बना कर रहते आ रहे हैं.

वन भूमि पर होने के कारण विभाग द्वारा कई बार उनके घर को ध्वस्त कर उन्हें बेघर कर दिया. 4 साल पूर्व कई मकानों को अवैध घोषित करते हुए ढाह दिया गया था. जंगल में होने कारण कई बार उन्हें जंगली जानवरों के आतंक का भी सामना करना पड़ा है. ग्रामीणों ने बताया कि उनके पास अपनी जमीन नहीं रहने के कारण सरकार की जन कल्याणकारी योजना का लाभ नहीं मिल पाता है.

पीढ़ी दर पीढ़ी गरीबी का झेल रहे हैं मार

ग्रामीण पूरन भुइयां ने बताया कि हमारे पीढ़ी दर पीढ़ी गरीबी एवं लाचारी में जीते आ रहे हैं. कभी जंगली जानवर हाथी घर गिरा देता है, तो कभी वन विभाग और कभी प्राकृतिक घटनाएं जैसे- आंधी- तूफान से घर क्षतिग्रस्त हो जाता है. उन्होंने कहा कि आजादी के 75 साल गुजर रहा है. फिर भी हमलोग आश्वासनों पर ही जी रहे हैं. मजबूर होकर विधायक आवास का घेराव किया. आखिर कितनी पीढ़ियों को इसी तरह जीना पड़ेगा.

वन विभाग जमीन का पट्टा अनुमंडल द्वारा नहीं दिया जा सकता

विधायक आवास घेराव की जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंचे एसडीओ ने कहा 200 से ज्यादा भूमिहीनों को जमीन का पट्टा दिया जा चुका है. वन विभाग की जमीन का पट्टा अनुमंडल से नहीं मिल सकता. इसके लिए कई प्रोसेस से गुजरना पड़ेगा. आपकी मांग पर नियम संगत जमीन का पट्टा दिया जायेगा. एसडीओ ने समझा-बुझाकर लोगों को शांत कराया. उनके साथ डीएसपी नाजीर अख्तर, सीओ गौरी शंकर प्रसाद, सर्किल इंस्पेक्टर रोहित सिंह, थाना प्रभारी विनोद तिर्की सहित काफी संख्या में पुलिस बल के जवान शामिल थे.

भूमिहीनों का मामला विधानसभा में उठाया : विधायक

इस संबंध में विधायक उमा शंकर अकेला ने कहा कि विधानसभा सत्र 2010 एवं 2020- 21 में कई बार भूमिहीनों को जमीन का पट्टा देने की मांग उठाया है. दो साल से कोरोना काल में लॉकडाउन के कारण मुख्यमंत्री से बात नहीं हो सकी है. उनसे मिल कर इनकी मांगों को गंभीरता से रखेंगे.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें