1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. bokaro
  5. jharkhand news the beneficiary of the chief minister kanyadan yojana accuses the servant of embezzlement of 30 thousand rupees in bokaro smj

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की 30 हजार की राशि गबन का मामला, बोकारो के लाभुक ने सेविका पर लगाया आरोप

बोकारो के बेरमो ब्लॉक में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में राशि गबन का मामला सामने आया है. पीड़ित लाभुक ममता कुमारी ने सेविका सोनी देवी पर राशि गबन का आरोप लगाकर न्याय की गुहार लगायी है. वहीं, सेविका अपने ऊपर लगे आरोपों को सिरे से खारिज कर रही है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
प्रशासन और बैंक अधिकारी को लिखी आवेदन को दिखाती पीड़ित लाभुक ममता कुमारी.
प्रशासन और बैंक अधिकारी को लिखी आवेदन को दिखाती पीड़ित लाभुक ममता कुमारी.
प्रभात खबर.

Jharkhand News (आकाश कर्मकार, फुसरो, बोकारो) : झारखंड के बोकारो जिला अंतर्गत बेरमो प्रखंड के बाल विकास परियोजना कार्यालय से मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की 30 हजार रुपये राशि गबन का मामला प्रकाश में आया है. राशि गबन का आरोप लाभुक की ओर से सेविका पर लगाया गया है. पीड़िता ने बैंक अधिकारी समेत जिला प्रशासन को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगायी है.

लाभुक ने आरोप लगाते हुए बताया कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के लिए उन्होंने वर्ष 2017 में आवेदन दिया था और 2018 में योजना की राशि बैंक अकाउंट में आयी. लेकिन, उसके पास बैंक का पासबुक नहीं होने के कारण अकाउंट में राशि आने की जानकारी नहीं मिल पायी और अकाउंट से पूरे 30 हजार रुपये की निकासी भी हो गयी. अब 2021 में तीन साल बीत जाने के बाद मामला उजागर हुआ है. पूरा मामला बेरमो प्रखंड अंतर्गत फुसरो नप क्षेत्र के घुटियाटांड बस्ती निवासी दिलीप उरांव की पुत्री ममता कुमारी से जुड़ा हुआ है. इस संबंध में लाभुक ममता कुमारी ने बेरमो एसडीएम, बेरमो सीडीपीओ व ऐक्सिस बैंक फुसरो शाखा प्रबंधक को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगायी है.

क्या है पूरा मामला

पीड़िता ममता कुमारी ने बताया कि स्थानीय सेविका सोनी देवी को उसे मुख्यमंत्री कन्यादान योजना का लाभ दिलाने के लिए वर्ष 2017 में आवेदन दिया था. इस दौरान नया अकाउंट ऐक्सिस बैंक, फुसरो में खुलवाने के नाम पर सेविका ने 2000 रुपये भी उससे लिया था. जबकि मेरे पास पहले से ही बैंक ऑफ इंडिया का खाता था, लेकिन सेविका सोनी देवी ने कहा था कि ऐक्सिस बैंक में ही उक्त योजना की राशि आ सकती है. इसके बाद में जब हमने अपने बैंक खाता तथा योजना की राशि की मांग किया, तो सेविका ने कन्यादान योजना पास नहीं होने की बात बतायी. जबकि 23 जनवरी, 2018 को ही योजना की राशि उसके ऐक्सिस बैंक अकाउंट में आ चुका था. ऐक्सिस बैंक में सेविका सोनी देवी ने अपने पति का मोबाइल नंबर लिंक करा दिया था. जिस कारण मेरा एटीएम तथा खाता सेविका के पास चला गया. इसके बाद सेविका ने आये हुए 30 हजार रुपये की निकासी कर ली.

इस दौरान वर्ष 2017 में पीड़िता ममता कुमारी की शादी हो गयी. जिसके बाद हजारीबाग अपने ससुराल चली गयी. मेरा खाता ऐक्सिस बैंक, फुसरो में खुलवाया गया था. इस कारण राशि निकासी की सूचना हमें नहीं मिल पायी, जबकि बैंक से हमने एटीएम रिसिव भी नहीं किया है. इसके बावजूद हमारे एटीएम से 30 जनवरी 2018 को 15 हजार रुपये, एक फरवरी 2018 को 5000 रुपये और 13 फरवरी 2018 को दो बार पांच-पांच हजार रुपये की निकासी की गयी है.

वहीं, पीड़िता ममता ने कहा कि सेविका से कई बार बैंक पासबुक व योजना की राशि के संबंध में जानकारी लेती रही, लेकिन सेविका हर बार टालमटोल करती रही. अंत में ऐक्सिस बैंक आने पर एक सप्ताह पूर्व योजना की राशि आने व निकासी होने की जानकारी मिली. इसके बाद भी सेविका इनकार करती रही. आखिरकार न्याय के लिए व दोषी पर कार्रवाई के लिए अधिकारियों व बैंक प्रबंधक को पत्राचार किया.

उन्होंने कहा कि बैंक पासबुक मांगने पर सेविका लगभग तीन साल तक टाल-मटोल करती रही. कभी कहा सुपरवाइजर के पास खाता है, तो कभी कहा सुपरवाइजर बदल गयी है. इस तरह का बराबर बहाना बनाती रही. आखिरकार बैंक में जानकारी लेने पर बैंक अकाउंट नंबर मिला. फिर नया खाता मांग किये, तो बैंक से अपडेट किया हुआ खाता मिला, जिससे पैसा आने तथा पैसा निकासी की बात उजागर हुई. इसकी जानकारी मिलते ही पीड़िता तत्काल CDPO के पास गयी. लेकिन, उसे यहां भी न्याय नहीं मिला. फिर बैंक गयी, तो वहां भी सहयोग नहीं मिला, तो आखिरकार एसडीओ से न्याय की गुहार लगायी है.

ममता ने बैंक को पत्र लिखकर मांगा सीसीटीवी फुटेज

भुक्तभोगी ममता कुमारी ने ऐक्सिस बैंक, फुसरो शाखा को पत्र लिखकर 30 जनवरी, 2018 का सीसीटीवी फुटेज की मांग की है. साथ ही वह बैंक प्रबंधक को पत्र में लिखी है कि ऐक्सिस बैंक में कन्यादान योजना की लाभ के लिए खाता खुलवाया था. लेकिन, हमें ना तो खाता मिला और न ही एटीएम. फिर भी मेरे एटीएम से दो बार में पैसे की निकासी की गयी है. इसलिए मामले की गहनता से जांच कर फर्जीवाड़ा करने वालों पर कार्रवाई की जाये.

ममता को योजना का लाभ मिलने से पहल हो चुकी शादी

ममता कुमार ने वर्ष 2017 में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के लिए आवेदन भरा था. इस दौरान वर्ष 2017 में ही शादी होकर हजारीबाग ससुराल चली गयी. इसके पिता दिलीप उरांव दिहाडी मजदूरी करने के कारण इस योजना के लिए आवेदन भरा था कि पिता को उसकी राशि में कुछ सहयोग मिल जायेगी. लेकिन, शादी के दौरान उसे योजना का लाभ मिल नहीं पाया. शादी होकर ससुराल जाने के एक साल बाद उसे योजना के लिए अकाउंट में राशि आयी. लेकिन, वह राशि भी उसे नसीब नहीं हो सका. फिलहाल ममता कुमारी का एक वर्ष की पुत्री भी है.

दोषी पर जरूर होगी कार्रवाई : CDPO

इस पूरे मामले पर बेरमो बीडीओ सह प्रभारी सीडीपीओ मधु कुमारी ने कहा कि ऐक्सिस बैंक मैनेजर से इस मामले की डिटेल्स मांगी गयी है. साथ ही ऐक्सिस बैंक के ATM से किसने पैसों की निकासी की है, उसका सीसीटीवी फुटेज मांगा गया है. साक्ष्य प्राप्त होने के बाद दोषी पर कार्रवाई जरूर होगी. साथ ही लाभुक को न्याय दिलाया जायेगा.

बैंक में तीन महीने से अधिक का नहीं रहता है CCTV फुटेज : बैंक मैनेजर

वहीं, ऐक्सिस बैंक फुसरो शाखा के बैंक मैनेजर फारूख शेख ने कहा कि यह मामला हमारे कार्यकाल में नहीं हुआ है. दो माह ही हुए है हमें यहां मैनेजर बने. इस मामले में लाभुक व बीडीओ की ओर से मामले की पड़ताल के लिए आवेदन मिला है. बैंक में 90 दिनों का ही सीसीटीवी फुटेज रहता है. मामला तीन साल पुराना होने के कारण सीसीटीवी फुटेज के लिए वरीय अधिकारियों को पत्र भेज कर मांग किया गया है. जैसे ही सीसीटीवी फुटेज मिलेगा मामले का उजागर हो जायेगा. साथ ही इसकी जानकारी बीडीओ व लाभुक को उपलब्ध करवा दी जायेगी.

मेरे ऊपर लगे आरोप निराधार : सेविका सोनी देवी

इस मामले पर सेविका सोनी देवी ने कहा कि मेरे ऊपर लगाये गये आरोप निराधार है. हमने ममता कुमारी का बैंक पासबुक नहीं रखा है. पैसा कैसे निकासी हुआ है यह जांच का विषय है. मुझपर झूठा आरोप लग रहा है. इससे बचने के लिए हम लाभुक को अपने जेब से वह राशि देने को भी तैयार है. हमने कभी भी इस तरह का गलत कार्य करने के लिए सोचा भी नहीं है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें