1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. bokaro
  5. babulal marandi and deepak prakash say on jharkhand language dispute and local policy grj

झारखंड के भाषा विवाद और स्थानीय नीति आंदोलन पर क्या बोले बीजेपी नेता बाबूलाल मरांडी व दीपक प्रकाश

भाजपा विधायक दल के नेता व पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी ने कहा कि सरकार बने 26 महीने हो गये, लेकिन चुनाव के पहले का एक भी वादा पूरा नहीं हुआ. सवालों के डर से जानबूझ कर भाषा व स्थानीय नीति का मामला खड़ा कराया गया.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News: बाबूलाल मरांडी व दीपक प्रकाश समेत अन्य
Jharkhand News: बाबूलाल मरांडी व दीपक प्रकाश समेत अन्य
प्रभात खबर

Jharkhand News: भाजपा विधायक दल के नेता व पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी ने शनिवार को बोकारो जिले के फुसरो में कहा कि वर्तमान में भाषा विवाद और स्थानीय नीति को लेकर चल रहा आंदोलन सरकार द्वारा प्रायोजित है. आंदोलन को लीड करने वाले लोगों का संबंध प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से सरकार से है. भाजपा सरकार के समय कोई नयी नीति नहीं लायी गयी थी. बिहार में 1982 से चली आ रही नीति को उनकी पार्टी की सरकार लायी थी. गिरिडीह के पूर्व सांसद रवींद्र कुमार पांडेय के फुसरो स्थित कार्यालय में श्री मरांडी ने कहा कि सरकार बने 26 महीने हो गये, लेकिन चुनाव के पहले का एक भी वादा पूरा नहीं हुआ. सवालों के डर से जानबूझ कर भाषा व स्थानीय नीति का मामला खड़ा कराया गया.

बाबूलाल मरांडी का गंभीर आरोप

कोरोना काल में केंद्र सरकार ने राज्य को जितना चाहा, उतना पैसा दिया, लेकिन सरकार उन पैसों को खर्च नहीं कर पायी और गरीबों के लिए आए अनाज भी ठीक से नहीं दिया गया. पांच माह से सरकार पेंशन भी गरीबों को नहीं दे पा रही है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सरकार से कहा था जितना योजना बनाकर भेजना है भेजें, राशि की कोई कमी नही होने देंगे, लेकिन सरकार कोई भी योजना नहीं भेज पायी है. राज्य की हेमंत सरकार के संरक्षण में कोयला, लोहा, बालू, पत्थर की चोरी पूरे राज्य में हो रही है. यह लूट खुलेआम हो रही है और सभी प्रकार की एजेंसी मिले हैं. पुलिस कोयला, लोहा, बालू, पत्थर को पार करवा रही है.

सरकार ने बढ़ाया भाषा विवाद

बीजेपी प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश ने पूर्व सांसद रवींद्र कुमार पांडेय के आवास पर पत्रकारों से कहा कि भाजपा सभी भाषाओं का आदर व सम्मान करती है और क्षेत्रीय भाषाओं को आत्मसात करती है. भाषा नीति बनाने का काम राज्य का है, इसलिए सरकार भाषा नीति अविलंब बनाने का काम करें. सरकार ने न्यू एजुकेशन पॉलिसी को लागू नहीं किया है. राज्य सरकार ने भाषा विवाद बढ़ाकर आपस में तनाव पैदा किया है और सामाजिक समरसता को तोड़ना चाहती है. खतियान आधारित 1932 स्थानीय नीति व नियोजन नीति आदि समाज में समरसता तोड़ने का विषय है.

रिपोर्ट: राकेश वर्मा

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें