चीन से लौटी छपरा की छात्रा में कोरोना वायरस का संदेह, पीएमसीएच में भर्ती, जानें क्या है कोरोना वायरस और उसके लक्षण

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
पटना/छपरा : राज्य में कोरोना वायरस की आशंका वाला पहला मामला सामने आया है. चीन में पढ़ाई करने वाली छपरा की एक छात्रा को सोमवार को पीएमसीएच में भर्ती कराया गया. उसके कोरोना वायरस से पीड़ित होने का संदेह है. वह 22 जनवरी को चीन से लौटी है. घर लौटने के बाद उसकी तबीयत खराब हो गयी थी. परिजनों से उसे छपरा सदर अस्पताल में भर्ती कराया था.
यहां कोरोना वायरस के लक्षण दिखने पर डॉक्टरों ने उसे पीएमसीएच रेफर कर दिया था. सोमवार की सुबह 11 बजे छात्रा को पीएमसीएच लाया गया. यहां इमरजेंसी में इस तरह के मरीजों के लिए विशेष तरह का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है. इस वार्ड में उसे दूसरे मरीजों से अलग रखकर इलाज किया जा रहा है. मेडिसिन विभाग के डॉ आरडी सिंह के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम लगातार उसके स्वास्थ्य पर नजर रख रही है. उसके ब्लड और स्वाब के सैंपल लेकर जांच के लिए पुणे स्थित एनआइवी (नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलॉजी) लैब में भेजा गया है. उम्मीद है कि दो दिन बाद जांच रिपोर्ट आ जायेगी. इसके बाद ही पुष्टि होगी कि वह कोरोना वायरस से पीड़ित है कि नहीं.
इधर, पीएमसीएच आयी छात्रा ने बताया कि वह चीन में न्यूरो साइंस में पीएचडी की पढ़ाई कर रही है. उसका दावा है कि मुझे कुछ नहीं हुआ है. कोलकाता एयरपोर्ट पर अधिकारियों ने मुझे बाहर आने दिया. मेरे शरीर का तापमान अभी 98 डिग्री फारेनहाइट है और मुझे कफ भी नहीं है. परिजनों ने बताया कि छात्रा फ्लाइट से कोलकाता आयी थी. कोलकाता से वह अपने घर छपरा ट्रेन से आयी. यहां उसे बुखार हो गया था.
छात्रा बिल्कुल ठीक है : अधीक्षक
पीएमसीएच के अधीक्षक डॉ विमल कारक ने बताया कि चीन से लौटी छात्रा में कोरोनावायरस से मिलते-जुलते कुछ लक्षण पाये गये हैं. लेकिन इलाज कर रहे डॉक्टरों से बातचीत और अपने लंबे अनुभव के आधार पर मैं कह सकता हूं कि छात्रा में कोरोनावायरस का संक्रमण नहीं है. हालांकि एहतियात के तौर पर हम काफी सावधानी बरत रहे हैं और मरीज के स्वास्थ्य पर पल-पल नजर रखे हुए हैं. फिलहाल छात्रा बिल्कुल ठीक है और चिंता की कोई बात नहीं है.
उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस में लक्षण के आधार पर इलाज होता है. हालांकि हम डब्लूएचओ की गाइडलाइन का इंतजार कर रहे हैं. गाइडलाइन आने के बाद अगर कोई मरीज इस बीमारी का आता है तो उसके मुताबिक उसका इलाज चलेगा. अधीक्षक ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग का निर्देश मिलने के बाद ही छात्रा को पीएमसीएच से छुट्टी दी जायेगी. इमरजेंसी के फर्स्ट फ्लोर पर अाइसोलेशन वार्ड बनाया गया है. इस तरह के और भी मरीज अगर आते हैं तो उनका इलाज हम करेंगे.
चीन में 80 लोगों की हो चुकी है मौत
कोरोना वायरस से चीन में अब तक 80 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें हुबेई प्रांत में सबसे ज्यादा 76 लोग मारे गये हैं. वहीं, चीन के वुहान में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे राजस्थान के एक छात्र के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की आशंका के बाद जयपुर में भर्ती कराया गया है.
क्या है कोरोना वायरस और उसके लक्षण
कोरोना एक वायरस का है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक यह सी-फूड से जुड़ा है. इसके मरीजों में सामान्य जुकाम से लेकर सांस की गंभीर समस्या तक होती है. मरीजों में जुकाम, खांसी, गले में दर्द, सांस लेने में दिक्कत, बुखार जैसे शुरुआती लक्षण दिखते हैं. बाद में ये लक्षण निमोनिया में बदल जाते हैं व किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं. फेफड़े में गंभीर संक्रमण हो जाता है. इस वायरस का कोई विशेष इलाज नहीं है. लक्षणों के आधार पर इलाज होता है.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें