1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. genealogy certificate process online in bihar revenue department announced know vanshavali kaise banta hai avh

Bihar News: जानिए वंशावली और उसके उपयोग के बारे में, बिहार में अब होगा इसका ऑनलाइन समर्पण

जानकारी के अनुसार राजस्वा विभाग के नए निर्देश के बाद अब रैयत अपने घर से ही ऑनलाइन माध्यम से वंशावली समर्पण के लिए अप्लाई कर सकेंगे. हालांकि इस दौरान उन्हें अपने कागजात का पीडीएफ बनाना होगा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Bihar News
Bihar News
Website

बिहार में वंशावली और स्वघोषणा के समर्पण का काम आसान हो गया है. रैयत आसानी से घर बैठे इसके लिए अप्लाई कर सकते हैं. राजस्व विभाग की ओर से इसकी जानकारी दी गई है. बिहार में वंशावली का उपयोग जमीन मापन, पीएम किसान योजना सहित कई योजनाओं में किया जाता है.

जानकारी के अनुसार राजस्वा विभाग के नए निर्देश के बाद अब रैयत अपने घर से ही ऑनलाइन माध्यम से वंशावली समर्पण के लिए अप्लाई कर सकेंगे. हालांकि इस दौरान उन्हें अपने कागजात का पीडीएफ बनाना होगा. बिहार में पिछले दिनों दाखिल खारिज का काम भी ऑनलाइन कर दिया गया था.

बताते चलें कि पहले रैयतों को अपने स्वामित्व वाली धारित भूमि के बारे में एक फाॅर्म भरकर अपने मौजा से संबंधित शिविर में जाकर जमा करना होता था. कई बार प्रपत्र के खो जाने का खतरा भी पैदा हो जाता था. इतना ही नहीं, उसमें किसी अन्य की तरफ से फेरबदल किये जाने की आशंका रहती थी. लेकिन, अब ऐसा नहीं हो सकेगा.

क्या होता है वंशावली- वंशावली मतलब होता है कि जमीन जिसके नाम से है उसके उत्तराधिकारी की जानकारी. पैतृक सम्पत्ति पर अधिकार के लिए वंशावली बनाना जरूरी होता है. इससे पैतृक सम्पत्ति ऑटोमेटिक रैयत के पास ट्रांसफर हो जाता है.

क्या होगा लाभ- वंशावली के ऑनलाइन कराने से भूमि मापन की प्रक्रिया में आपका जमीन के बारे में सरकार को जानकारी रहेगी. इसके अलावा, कभी भी वंशावली खराब होने की स्थिति में आप उसे ऑनलाइन निकाल सकते हैं. सरकार के पास इसका डेटा रहता है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें