वैलेंटाइन पर उच्च शुक्र लायेगा आपके रिश्तों में गर्माहट, ...जानें कैसा बीतेगा आपका वैलेंटाइन?

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : जीवन में सुख सुविधा प्रदान करनेवाला मुख्य ग्रह शुक्र को माना गया है. शुक्र के प्रभाव से जीवन में अनेक प्रकार की सुख-सुविधाओं की बढ़ोतरी होती है और व्यक्ति अपने जीवन में राज योग भोगता है. प्रेमियों के लिए भी शुक्र देव बेहद अहम भूमिका निभाते हैं. ऐसे में शुक्र का अपनी उच्च राशि मीन में गोचर करना कई जातकों के लिए वरदान साबित होनेवाला है. इसके चलते वैलेंटाइन डे पर कई राशि के जातक अपने प्रियतम संग प्रेम के इस दिवस का आनंद लेते दिखायी देंगे. आपकी सभी सुंदर परियोजनाएं सही कर्म में होंगी. ऐसे में आप अपने साथी या प्रेमी को खुश करने के लिए उन्हें खाने के लिए बाहर लेकर जा सकते हैं, क्योंकि आपका साथी आपको इस विशेष दिन बेहद खास अनुभव करायेगा. इस समय अगर आपको उनके हर वक्त फोन में लगे रहने से दिक्कत महसूस होती थी, तो आपकी ये शिकायत भी इस दौरान दूर होगी. कुल मिलाकर कहें, तो शुक्र का मीन में गोचर प्रेमियों के लिए सोने में सुगंध का कार्य करेगा.

वैलेंटाइन पर उच्च शुक्र लायेगा आपके रिश्तों में गर्माहट, ...जानें कैसा बीतेगा आपका वैलेंटाइन?

शुक्र गोचर का समयजीवन में सुखों का प्रदाता और प्रेम को बढ़ाने वाला शुक्र ग्रह तीन फरवरी, सोमवार की सुबह 02:13 बजे कुंभ राशि से निकल कर देव गुरु बृहस्पति के स्वामित्व वाली मीन राशि में प्रवेश करेगा. वैदिक ज्योतिष के अनुसार, शुक्र के गोचर की अवधि काफी महत्वपूर्ण होती है, क्योंकि इसके शुभ प्रभाव से अनेक प्रकार के शुभ कार्य संपन्न होते हैं. मीन राशि में शुक्र के गोचर का प्रभाव सभी बारह राशियों पर देखने को मिलेगा, क्योंकि यह शुक्र की उच्च राशि है.शुक्र के मीन राशि में गोचर का सभी राशि के जातकों पर कैसा प्रभाव पड़ने की संभावना है,यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है.

मेष : आपके लिए शुक्र दूसरे और सातवें भाव के स्वामी हैं और इस गोचर की अवधि में आपके बारहवें भाव में विराजमान हो जायेंगे. इसके परिणाम स्वरूप आपके खर्चों में अचानक वृद्धि होने लगेगी, लेकिन खर्चे आपकी सुख सुविधाओं को बढ़ानेवाले होंगे और आपको खुशी देंगे. आपकी आमदनी भी बढ़ेगी. कुछ ऐसे लोग, जिनके विवाह होनेवाले हैं, उन्हें विवाह के बाद विदेश जाने की संभावना बनेगी.

उपाय : प्रत्येक शुक्रवार के दिन किसी धार्मिक स्थान पर मिश्री का दान करें.

वृष : शुक्र देव आपकी राशि के स्वामी हैं. यानी, आपके पहले भाव के स्वामी होने के साथ-साथ आप के छठे भाव के स्वामी भी हैं. मीन राशि में शुक्र देव के इस गोचर की अवधि में वे आप के ग्यारहवें भाव में जायेंगे. इसकी वजह से आपकी मनोनुकूल इच्छाएं पूरी होंगी और आपको खुशी मिलेगी. स्वास्थ्य में सुधार होगा और पुरानी चली आ रही किसी बीमारी से मुक्ति मिलेगी. प्रेम संबंध के मामलों में यह गोचर काफी अनुकूल साबित होगा और आपके प्रेम जीवन को प्रेम से सराबोर कर देगा. आप अपने प्रियतम के साथ बेहतरीन पलों का आनंद लेंगे और आपको खुशी का एहसास होगा.

उपाय : आपको शुक्रवार के दिन अरंड मूल धारण करनी चाहिए.

मिथुन : आपके स्वामी बुध शुक्र के परम मित्र हैं. आपकी राशि के लिए शुक्र देव पांचवें और बारहवें भाव के स्वामी हैं तथा गोचर की इस अवधि में आपके दशम भाव में प्रवेश करेंगे. इस गोचर के प्रभाव से आपके परिवार में सुख शांति की बयार बहेगी. परिवार में खुशियां आयेंगी. लोगों के बीच प्रेम बढ़ेगा. आपकी वाणी में मिठास बढ़ेगी और लोग आपके प्रति आकर्षित होंगे, जिससे आपका दबदबा बढ़ेगा. बेवजह की बातों से अपना मन अलग रखें, नहीं तो समस्या का सामना करना पड़ सकता है.

उपाय : श्री दुर्गा सप्तशती का नियमित पाठ करें.

कर्क : आपकी राशि के लिए शुक्र देव चौथे भाव और ग्यारहवें भाव के स्वामी होकर गोचर की इस अवधि में आपके नौवें भाव में प्रवेश करेंगे. इस गोचर के परिणाम स्वरूप आपको लंबी यात्राओं पर जाने का मौका मिलेगा. यह यात्राएं आपके सुख और आनंद में वृद्धि करेंगी. आप पिकनिक पर अच्छे रमणीक स्थान पर घूमने जा सकते हैं. आपके मान और सम्मान में बढ़ोतरी होगी. आपकी आमदनी भी बढ़ेगी और लोगों के बीच आपकी पूछ बढ़ेगी.

उपाय : शुक्रवार के दिन चीनी दान में दें.

सिंह : आपकी राशि के लिए शुक्र देव तीसरे और दसवें भाव के स्वामी हैं और मीन राशि में गोचर करते हुए आपके आठवें भाव में प्रवेश करेंगे, जिसकी वजह से आपको कार्यक्षेत्र में उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है. गुप्त सुखों को भोगने की लालसा जागेगी, जिसकी वजह से आप काफी धन भी खर्च करेंगे. हालांकि, मर्यादित आचरण करना ही बेहतर रहेगा. अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान आपको इस दौरान रखना चाहिए.

उपाय : आप को शुक्रवार के दिन गौमाता को आटे की लोई अपने हाथ से खिलानी चाहिए.

कन्या : राशि के जातकों के लिए शुक्र देव आपके दूसरे और नौवें भाव के स्वामी होने के बाद गोचर की इस अवधि में आप के सातवें भाव में प्रवेश करेंगे. इस गोचर के परिणाम स्वरूप आपको अपने दांपत्य जीवन में अनेक सुखों का लाभ मिलेगा. आप उत्तम दांपत्य जीवन का सुख भोगेंगे. आपका जीवन साथी आपके लिए लाभ का माध्यम भी बनेगा और आपको इच्छित सुख प्रदान करेगा. आप दोनों के बीच संबंध बेहतर बनेंगे और परिवार को आगे बढ़ाने की दिशा में प्रयत्न करेंगे. मान-सम्मान की बढ़ोतरी होगी और आपकी छवि बेहतर बनेगी. मानसिक रूप से आप काफी मजबूत रहेंगे.

उपाय : शुक्रवार के दिन माता महालक्ष्मी की उपासना करनी चाहिए.

तुला : आपकी राशि के स्वामी शुक्र देव हैं. अर्थात् आपके प्रथम भाव के साथ-साथ आपके अष्टम भाव के स्वामी शुक्र देव अपने मीन राशि में गोचर की समय अवधि में आपके छठे भाव में प्रवेश करेंगे, जिसकी वजह से आपकी जेब पर असर पड़ सकता है. स्वास्थ्य के मामले में समय बेहतर नहीं रहेगा. असंतुलित दिनचर्या या व्यर्थ खान-पान स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न कर सकती हैं. धन हानि की संभावना रहेगी.

उपाय : आपको उत्तम गुणवत्ता का ओपल रत्न शुक्रवार के दिन चांदी की अंगूठी में अनामिका उंगली में धारण करना चाहिए.

वृश्चिक : आपकी राशि के लिए शुक्र देव सातवें और बारहवें भाव के स्वामी हैं तथा गोचर की इस अवधि में आप के पांचवे भाव में गोचर करेंगे, जिसकी वजह से आपके प्रेम संबंधों में खुशबू बिखर जायेगी और आपका प्रेम जीवन काफी मजबूती से आगे बढ़ेगा. आप और आपके प्रियतम के बीच की सभी गलतफहमियां दूर हो जायेंगी और आप प्रेम के बंधन में बंध कर अपने जीवन को एक खुशनुमा राह पर आगे बढ़ायेंगे. अपनी क्रिएटिविटी के कारण सब की प्रशंसा मिलेगी. दोस्तों और विपरीत लिंगी जातकों में आप खासे लोकप्रिय हो जायेंगे और आपके सोशल सर्किल में इजाफा होगा. इस समय में आप कोई क्रिएटिव काम करेंगे, जिससे आपको प्रसिद्धि भी प्राप्त होगी. कुछ भाग्यशाली लोगों को इस दौरान संतान प्राप्ति के योग भी बनेंगे.

उपाय : शुक्रवार को लौंग वाला पान माता महालक्ष्मी को अर्पित करें.

धनु : राशि के जातकों के लिए शुक्र महाराज छठे भाव के साथ-साथ ग्यारहवें भाव के स्वामी भी होते हैं और गोचर की इस अवधि में वे आप के चौथे भाव में प्रवेश करेंगे, जिससे परिवार में खुशियां आयेंगी. कोई समारोह या शुभ कार्य आपके घर में संपन्न होगा. अतिथियों के आगमन से हर्ष और उल्लास की स्थिति बनेगी. मेहमानों के आगमन से एक-दूसरे के प्रति स्नेह की भावना बढ़ेगी. आपकी सुख भोगने की प्रवृत्ति बढ़ जायेगी. आपको अनेक प्रकार के सुख मिलेंगे.

उपाय : शुक्रवार के दिन किसी महिला पुजारी को शृंगार की सामग्री भेंट करें.

मकर : आपकी राशि के लिए शुक्र देव पांचवें और दसवें भाव के स्वामी हैं और इस प्रकार आपके लिए ये एक योगकारक ग्रह हैं. गोचर की इस अवधि में यह आपके तीसरे भाव में प्रवेश करेंगे, जिसकी वजह से आपको सुखद यात्राओं पर जाना पड़ेगा. गोचर की इस अवधि में आप मौज मस्ती के लिए या मित्रों के साथ घूमने करने के प्लान बनायेंगे, जिससे आपको खूब खुशी का अनुभव होगा और आप खुद को ऊर्जावान महसूस करेंगे. इस दौरान कुछ नये संपर्क जुड़ेंगे, जो भविष्य में आपके काम आयेंगे. प्रेम जीवन में वृद्धि होगी. यदि आप अभी तक सिंगल हैं, तो आपके जीवन में कोई खास व्यक्ति आ सकता है, जिससे आपको प्रेम हो जायेगा. यदि आप विवाहित हैं, तो आपकी संतान को इस दौरान प्रगति मिलेगी.

उपाय : भगवान श्री गणेश जी की पूजा करें और उन्हें दूर्वांकुर (दूब घास) चढ़ाएं.

कुंभ : आपकी राशि के लिए शुक्र देव आपके चौथे और नौवें भाव के स्वामी होकर योगकारक ग्रह हैं और आपके दूसरे भाव में गोचर की अवधि में विराजमान होंगे. इस गोचर के फल स्वरूप आपको अनेक अच्छे नतीजे मिलेंगे. कोई सुख शांति पूर्ण काम होगा. आपको भाग्य का पूरा साथ मिलेगा और आपकी योजनाएं आपको धन प्रदान करेंगी. यह समय आपको सामाजिक और आर्थिक तौर पर काफी समृद्ध बनायेगा. आपकी भाग्य वृद्धि के साथ-साथ मान-सम्मान में भी बढ़ोतरी होगी.

उपाय : आपको शुक्रवार के दिन घर की स्त्रियों को कोई सफेद मिठाई खिलानी चाहिए.

मीन : आपकी राशि के लिए शुक्र देव तीसरे और आठवें भाव के स्वामी हैं और गोचर की इस अवधि में आप के प्रथम भाव में विराजमान होंगे. इन दोनों ही भावों के स्वामी होने से आपको शारीरिक तौर पर कुछ परेशानियां झेलनी पड़ेंगी. वहीं, अचानक से धन लाभ के योग भी बनेंगे. आपका मन किसी प्रकार के शोध या छिपी बातों को जानने में होगा. दांपत्य जीवन के लिहाज से यह समय काफी अनुकूल रहेगा और आप और आपके जीवनसाथी के मध्य प्रेम बढ़ेगा, जिससे आपको दांपत्य सुख की प्राप्ति होगी. इसका सबसे अच्छा लाभ यह होगा कि आपके व्यक्तित्व में आकर्षण बढ़ेगा और लोग आपके प्रति आकर्षित होंगे.

उपाय : आपको दुर्गा चालीसा का पाठ करना चाहिए और मां दुर्गा को लाल पुष्प अर्पित करने चाहिए.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें