महिलाओं की मांग पर बिहार में शराबबंदी लागू, शराब से दूर रहने में ही भलाई : नीतीश कुमार

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

खगड़िया/गोगरी : जल-जीवन-हरियाली यात्रा के छठे चरण में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शनिवार को खगड़िया जिले के बेलदौर प्रखंड के तेलिहार पंचायत स्थित वार्ड छह में जल जीवन हरियाली अभियान के तहत जागरूकता सम्मेलन को संबोधित किया. जागरूकता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने उपस्थित लोगों को सर्दी के बावजूद सभा में आने के लिये आभार जताया. उन्होंने कहा कि अस्पताल में डॉक्टरों की व्यवस्था जल्द होगी.

सीएम ने कहा कि हमारा सपना और उद्देश्य न्याय के साथ विकास करना है. हमने समाज के सभी तबकों का विकास किया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि साइकिल योजना से लड़कियां स्कूलों से जुड़ीं. स्कूलों में अब लड़के-लड़कियों की संख्या बराबर हो गयी हैं. पंचायती राज में महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण दिया. बिहार पुलिस में 35 फीसदी महिलाओं को आरक्षण दिया. हर घर के बाद अब किसानों को बिजली कनेक्शन देने पर काम हो रहा है.दिसंबर के अंत तक वादा के अनुसार बिजली के जर्जर तार बदल दिये गये और जहां बचा है इस पर तेजी से काम किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि इस साल तक हर घर में नल का जल पहुंच जायेगा. आने वाले समय में हर टोले तक पक्की सड़क हो जायेगी. हम विकास के साथ-साथ समाज सुधार का भी काम करते हैं. सभी पंचायतों में 9वीं क्लास तक की पढ़ाई होगी. उन्होंने कहा कि महिलाओं की मांग पर बिहार में शराबबंदी लागू की. मुख्यमंत्री ने कहा कि जल-जीवन-हरियाली मिशन मोड पर लागू किया जा रहा है. इस अभियान में 24500 करोड़ रुपये खर्च किये जायेंगे.

शराब से दूर रहने में ही भलाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में की गयी शराबबंदी से दूसरे राज्य भी प्रभावित हैं. राजस्थान की एक टीम शराबबंदी के बाद की स्थिति का जायजा लेने बिहार पहुंची थी. वे सभी प्रभावित हुए थे. सीएम ने कहा कि 2018 में डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक, 5.3 प्रतिशत लोग शराब से मरते हैं.वहीं 13 प्रतिशत युवा शराब पीने के कारण मौत के शिकार हो जाते हैं. उन्होंने लोगों से शराब से परहेज करने की अपील की.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें