18.7 C
Ranchi
Tuesday, February 27, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

बिहार में बुखार का मौसम, 15 दिनों के अंदर मोतिहारी में पारासिटामोल की बिक्री में 30 प्रतिशत तक का इजाफा

दवा व्यवसायियों के अनुसार इन दिनों दर्द, बुखार, सर्दी-खांसी को ले पिछले 15 दिनों के अपेक्षा इन दिनों बिक्री में 20 से 30 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. कफ सीरप व पेन कीलर की मांग को देखे तो डेढ़ गुणा इजाफा हुआ है.

मोतिहारी. मौसम परिवर्तन के साथ वायरल डेंगू व मलेरिया, टायफाइड बुखार, सर्दी का सीजन चल रहा है. इसके मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, जिसके कारण मोतिहारी शहर से लेकर गंवई बाजारों तक एंटीबायोटिक व पारासिटामोल दवा की बिक्री बढ़ गयी है. दवा व्यवसायियों के अनुसार इन दिनों दर्द, बुखार, सर्दी-खांसी को ले पिछले 15 दिनों के अपेक्षा इन दिनों बिक्री में 20 से 30 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. कफ सीरप व पेन कीलर की मांग को देखे तो डेढ़ गुणा इजाफा हुआ है.

कोमबिथर फोर्ट टैबलेट की मांग बढ़ी

जिले में इन दिनों डेंगू का प्रकोप तेजी से फैल रहा है. मलेरिया भी कम नहीं है, जिसको ले कोमबिथर फोर्ट टैबलेट की मांग बढ़ी है. डेंगू व बुखार के कारण सबसे अधिक पारासिटामोल व एंटीबायोटिक की बिक्री बढ़ी है. दवा मंडी के अनुसार शहरी क्षेत्र में 40 से 50 हजार से लेकर एक लाख तक की इन दवाओं की बिक्री बढ़ी है. दुकानदारों के अनुसार अगर दिन में 100 ग्राहक आते है तो उसमें 30 से 40 ग्राहक बुखार, सर्दी-खांसी व पेन कीलर की दवा लेते है.

डेंगू के रोज बन रहे हैं नये रिकॉर्ड

शहर के साथ देहाती क्षेत्रों में डेंगू मरीजों के रोज नये रिकॉर्ड बन रहे हैं. पिछले वर्ष 193 की जगह एक रोज पहले तक रिकॉर्ड तोड़ मरीजों की संख्या 283 थी, जो अब 300 के करीब पहुंच गयी है. शहरी क्षेत्र में मरीजों की संख्या 90 के पार है. इसमें बच्चे, बुजुर्ग भी शामिल है. सदर अस्पताल में मरीजों के देखने व जांच की नि:शुल्क व्यवस्था है. वहीं गांव स्तर पर बुखार से पीड़ित लोग सामान्य दवा लेकर बुखार को ठीक कर ले रहे है, लेकिन डेंगू के कारण घट रहे प्लेटलेटस को कंट्रोल नहीं कर पाने की स्थिति में प्रतिदिन 30 से 40 मरीज रोज गांव से शहर पहुंच रहे है, जिन्हें डेंगू की शंका रहती है, जिसमें से आधे से अधिक मरीज डेंगू के निकल ही जाते हैं.

क्या कहते हैं दवा विक्रेता संघ के पदाधिकारी

पूर्वी चंपारण ड्रग्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अशफाक करीम ने बताया कि इन दिनों मौसम परिवर्तन के साथ सर्दी, बुखार, जुकाम के साथ एंटीबायोटिक दवा की बिक्री बढ़ गयी है. एंटीबायोटिक व पैरासिटामोल के साथ कफ सिरप व पेन कीलर की मांग रोज बढ़ रही है. आंकड़ों पर गौर करे तो पहले की अपेक्षा 20 से 30 प्रतिशत इन दवाओं की बिक्री बढ़ी है.

Also Read: संजय झा ने फिर उठाया दरभंगा एयरपोर्ट का मुद्दा, बोले- मिथिला के लोग कब तक खरीदेंगे महंगी टिकट

अस्पताल में बढ़े सर्दी, खांसी, बुखार के मरीज

दूसरी ओर जमुई जिले के गिद्धौर से मिली जानकारी के अनुसार इन दिनों मौसम के बदलते मिजाज से वायरल फीवर के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ी है. सर्दी, खांसी, बुखार, बदन दर्द, सिर दर्द की शिकायत को लेकर रोजाना 200 से अधिक मरीज दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के ओपीडी पहुंच रहे हैं. वायरल फीवर से ग्रसित मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. दरअसल सुबह व रात के समय होने वाले सर्द-गर्म के कारण लोग बीमार हो रहे हैं. यह बुखार बच्चे, जवान, बुजुर्ग, सबको प्रभावित कर रहा है.

ओपीडी खुलने से पहले ही अस्पताल पहुंच जाते हैं लोग

दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के ओपीडी में मरीजों की कतार लगी रहती है. ओपीडी खुलने से पहले ही लोग अस्पताल पहुंच जाते हैं. ओपीडी खुलने का इंतजार करते रहते हैं. प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अजीमा निशात ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से ओपीडी के माध्यम से स्वास्थ्य जांच करवाने आये मरीजों की संख्या बढ़ी है. इनमें वायरल फीवर व मौसमी बुखार के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है. रोजाना ओपीडी में 80 फीसदी फीवर से ग्रसित मरीज इलाज हेतु पहुंच रहे हैं. चिकित्सक द्वारा मरीजों का उपचार कर दवा दी जा रही है. मौसम में बदलाव दौरान परहेज करने की जरूरत है. सुबह-शाम ठंड से बचना चाहिए.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें