1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bihar corona update night curfew in bihar bjp and rjd congress raises questions on cm nitish kumar govt decision sanjay jaiswal said how covid control from night curfew upl

बिहार में नाइट कर्फ्यू पर विपक्ष के बाद भाजपा ने भी उठाए सवाल, संजय जायसवाल बोले- इससे कैसे थमेगा कोरोना?

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल
File

Bihar Corona Update: बिहार में कोरोना (Bihar Me Corona) के खतरनाक हो रहे कहर को देखते हुए रविवार शाम मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने पूरे राज्य में रात नौ से सुबह पांच बजे तक नाइट कर्फ्यू (Night Curfew in Bihar) सहित अन्य बंदिशों का एलान किया. अन्य बंदिशों पर तो नहीं लेकिन नाइट कर्फ्यू का फैसला सवालों में आ गया. पूछा जाने लगा कि आखिर इससे कोरोना संक्रमण (Coronavirus In bihar) कैसे थमेगा.

पप्पू यादव ने तो नाइट कर्फ्यू को मजाक बताया तो वहीं कांग्रेस और राजद ने भी इसे गलत बताया. इस क्रम में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने भी सवाल उठाया है. उन्होंने फेसबुक पर एक लंबा चौड़ा पोस्ट लिखा. इस पोस्ट में उन्होंने बिहार सरकार के बहुत सारे फैसलों की तारीख की लेकिन नाइट कर्फ्यू पर सवाल उठाया.

उन्होंने लिखा- 'मैं कोई विशेषज्ञ तो नहीं हूं फिर भी सभी अच्छे निर्णयों में से इस एक निर्णय को समझने में असमर्थ हूं कि रात का कर्फ्यू लगाने से कोरोना वायरस का प्रसार कैसे बंद होगा. अगर कोरोना वायरस के प्रसार को वाकई रोकना है तो हमें हर हालत में शुक्रवार शाम से सोमवार सुबह तक की बंदी करनी होगी. घरों में बंद इन 62 घंटों में लोगों को अपनी बीमारी का पता चल सकेगा और उनके बाहर नहीं निकलने के कारण बीमारी के प्रसार को रोकने में कुछ मदद अवशय मिलेगी."

उन्होंने अपने पोस्ट के अंत में अंदेशा जताया है कि हमारी स्थिति भी महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ जैसी हो सकती है. इससे पहले नाइट कर्फ्यू लगाए जाने के सरकार के फैसले को राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने अजीबोगरीब बताया. कहा कि नाइट कर्फ्यू लगाना समझ से परे है. मृत्युंजय तिवारी ने यह भी कहा कि कोरोना की अनियंत्रित स्थिति को देखते हुए खुद नेता प्रतिपक्ष ने सरकार को वीकेंड लॉकडाउन लगाने की सलाह दी थी. लेकिन उनकी सलाह को नजर अंदाज कर दिया गया.

वहीं कांग्रेस नेता अजित शर्मा ने भी सरकार के इस फैसले को हास्यास्पद बताया. कहा कि नाइट कर्फ्यू मुंबई, दिल्ली जैसे महानगरों में लगाई जाती है जहां लोग रात में घर से बाहर निकलते हैं. लेकिन बिहार में तो लोग रात में घर से बाहर निकलते ही नहीं है. ऐसे में नाइट कर्फ्यू लगाए जाने का फैसला आंख में धुल झोंकने के समान है. इसके साथ उन्होंने यह भी कहा कि यदि इसकी जगह अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन, एम्बुंलेस, सप्ताह में दो दिन कर्फ्यू लगाकर पूरे शहर को सेनेटाइज किया जाता तो वह सही होता. बिहार में नाइट कर्फ्यू पर विपक्ष के बाद भाजपा ने भी उठाए सवाल तथा News in Hindi से अपडेट के लिए बने रहें।

Posted By: Utpal Kant

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें