1. home Home
  2. sports
  3. tokyo olympics 2020 six time world champion mc mary kom surprised after being asked to change jersey anurag thakur rkt

Tokyo Olympics: मैच से पहले अपना ड्रेस बदलने पर हैरान हैं मैरीकॉम, खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से पूछा बड़ा सवाल

मैच के बाद मैरीकॉम ने निराशा जतायी है और ट्वीट कर मैच के पहले अपने ड्रेस बदलने पर बड़ा सवाल उठाया है. शुक्रवार मैरीकॉम ने ट्वीट कर कहा कि हैरानी की बात है..क्या कोई समझा सकता है कि रिंग में जाने से पहले पोशाक क्यों बदली गयी.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Supermom Mary Kom
Supermom Mary Kom
फोटो - ट्वीटर

Tokyo Olympics 2020: 'सुपरमॉम' मैरीकॉम (Supermom Mary Kom) जब गुरुवार को रिंग में उतरीं तो उनके कंधे पर करोड़ों भारतीयों की उम्मदों का बोझ था. रेकॉर्ड 6 बार वर्ल्ड चैंपियन बनीं मेरी कॉम टोक्यो ओलिंपिक में पदक जीतने का सपना उस समय टूटा गया, जब उन्हें कल खेले गए मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा. गुरूवार को एमसी मैरीकॉम (51 किग्रा) को महिला बॉक्सिंग के प्री-क्वॉर्टर फाइनल में कोलंबिया की तीसरी वरीयता प्राप्त इंग्रिट वालेंसिया से 2-3 से हार का सामना करना पड़ा. हालांकि अब मुकाबले पर सवाल उठाया जा रहा है. बताया जा रहा है कि मैरी कॉम 3 में से 2 राउंड जीत ली थीं, उसके बावजूद उन्हें हार घोषित कर दिया गया.

वहीं इस मैच के बाद मैरीकॉम ने निराशा जतायी है और ट्वीट कर मैच के पहले अपने ड्रेस बदलने पर बड़ा सवाल उठाया है. शुक्रवार मैरीकॉम ने ट्वीट कर कहा कि हैरानी की बात है..क्या कोई समझा सकता है कि रिंग में जाने से पहले पोशाक क्यों बदली गयी. मुझसे प्री क्वार्टर मुकाबले से ठीक एक मिनट पहले अपनी ड्रेस बदलने के लिए कहा गया था, क्या कोई समझा सकता है? इस ट्वीट में उन्होंने खेल मंत्री अनुराग ठाकुर, पूर्व खेल मंत्री किरेण रिजजू और साथ में प्रधानमंत्री कार्यलय को भी टैग किया है.

बता दें कि मैरीकॉम ने गुरूवार को अपने फ्लाईवेट (51 किग्रा) प्री क्वार्टरफाइनल में ‘खराब फैसलों’ के लिये अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के मुक्केबाजी कार्यबल को जिम्मेदार ठहराया जिसमें तीन में से दो राउंड जीतने के बावजूद उन्हें हार का सामना करना पड़ा. उन्होंने कहा, ‘‘मैं रिंग के अंदर भी खुश थी, जब मैं बाहर आयी, मैं खुश थी क्योंकि मेरे दिमाग में था कि मैं जानती थी कि मैं जीत गयी थी. मैरीकॉम ने कहा, ‘‘मैंने पहले इस मुक्केबाज को दो बार हराया है. मैं विश्वास ही नहीं कर सकी कि रैफरी ने उसका हाथ उठाया था.

वहीं भारतीय मुक्केबाज के निजी ट्रेनर छोटे लाल यादव ने कहा, पता नहीं यह स्कोरिंग प्रणाली कैसी है, मुझे यह समझ नहीं आती. वह पहले राउंउ में 1-4 से पीछे कैसे हो सकती है जब दोनों में कुछ भी चीज अलग नहीं थी. उन्होंने कहा, यह निराशाजनक है लेकिन मुझे लगता है कि यही भाग्य है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें