1. home Home
  2. religion
  3. chandra grahan 2021 will negatively impact on these zodiac sign timing and details last lunar eclipse of the year sry

Chandra Grahan 2021 Effects: लगने वाला है साल का आखिरी चंद्र ग्रहण, इन राशियों को रहना होगा सावधान

19 नवंबर को साल 2021 का आखिरी चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है.जो उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा. चंद्र ग्रहण का प्रभाव लगभग एक माह तक रहेगा. इस दौरान कुछ राशियों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Chandra Grahan 2021 Effects
Chandra Grahan 2021 Effects
Prabhata Khabar Graphics

Chandra Grahan 2021 Effects: इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण 19 नवंबर की सुबह साढ़े ग्यारह बजे से छह घंटे तक लगने जा रहा है. ये आंशिक चंद्र ग्रहण होगा, जो भारत समेत यूरोप और एशिया के अधिकांश हिस्सों में दिखाई देगा.

चंद्र ग्रहण का प्रभाव राशियों पर

चंद्र ग्रहण का प्रभाव लगभग एक माह तक रहेगा. इस दौरान कुछ राशियों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है, ये राशियों कौन सी हैं, जानते हैं-

वृषभ राशिफल (Taurus Horoscope)

चंद्र ग्रहण आपकी ही राशि में लगने जा रहा है इसलिए सबसे अधिक प्रभाव आपकी ही राशि पर देखा जाएगा. वृषभ राशि में पाप ग्रह राहु विराजमान होने के कारण भ्रम की स्थितियां बन सकती है, इसलिए लेनदेन और बड़े फैसले लेने में किसी भी प्रकार की जल्दबाजी हानि का कारण बन सकती है.

सिंह राशिफल (Leo Horoscope)

सिंह राशि के स्‍वामी सूर्य हैं, लिहाजा इस राशि के जातकों को इस दौरान बहुत बातचीत में बहुत ध्‍यान रखना होगा. वरना छोटी सी बात बड़ी बहस में बदल सकती है और मामला बिगड़ सकता है. खासतौर पर कार्यक्षेत्र में सतर्क रहें. शत्रु हावी रह सकते हैं. सेहत का भी ख्‍याल रखें.

अन्य राशियों को भी सावधान रहना होगा

इन राशियों के साथ अन्य राशियों को भी ध्यान देने की जरूरत है. चंद्रमा को मन को कारक माना गया है. ग्रहण के दौरान चंद्रमा पीड़ित हो जाता है. चंद्रमा के क्षीण होने से सभी राशियों को चंद्रमा प्रभावित करता है. इस दौरान गलत संगत, गलत आदतों से दूर रहना चाहिए.

चंद्रग्रहण में करें इन मंत्रों का उच्चारण

चंद्र ग्रहण के दौरान लोग राहु-केतु से संबंधित मंत्रों का उच्चारण कर सकते हैं। क्योंकि मान्यता है कि चंद्र को ग्रहण राहु-केतु के कारण लगता है. इसके अलावा ग्रहण के दौरान हनुमान चालीसा, दुर्गा चालीसा, विष्ण सहस्त्रनाम, श्रीमदभागवत गीता आदि का पाठ करना चाहिए.

Posted By: Shaurya Punj

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें