1. home Hindi News
  2. religion
  3. anant chaturdashi 2020 kab hai anant chaturdashi puja anant chaturdashi auspicious timing auspicious coincidence being made on anant chaturdashi know this time you will get special benefit from worshiping rdy

Aaj Ka Panchang: अनंत चतुर्दशी पर बन रहा शुभ संयोग, जानें इस समय पूजा करने पर मिलेगा विशेष लाभ

By Prabhat khabar Digital
Updated Date

Aaj Ka Panchang, Anant Chaturdashi 2020 Kab Hai, PujaTiming : आज भाद्रपद शुक्लपक्ष त्रयोदशी दिन-08:30 उपरांत चतुर्दशी हो जाएगा. भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि के दिन अनंत चतुर्दशी मनाई जाती है. इस साल अनंत चतुर्दशी के दिन कई शुभ संयोग बन रहे हैं. जिनमें अनंत चतुर्दशी की पूजा का कई गुना लाभ प्राप्त कर सकते हैं. इस दिन सबसे पहला शुभ संयोग सुबह 9 बजकर 10 मिनट से दोपहर 1 बजकर 56 मिनट तक रहेगा, जिसमें आप अनंत चतुर्दशी की पूजा कर सकते हैं. यदि आप इस मुहूर्त में अनंत चतुर्दशी की पूजा नहीं कर पाए तो आप दिन में दोपहर 3 बजकर 32 मिनट से शाम 5 बजकर 07 मिनट पर पूजा कर सकते हैं. आइये जानते हैं ज्योतिर्विद दैवज्ञ डॉ श्रीपति त्रिपाठी से आज 31 अगस्त के पंचांग के जरिए आज की तिथि का हर एक शुभ मुहूर्त व अशुभ समय...

31 अगस्त सोमवार

भाद्रपद शुक्लपक्ष त्रयोदशी दिन-08:30 उपरांत चतुर्दशी

श्रीशुभसंवत-2077,शाके-1942,हिजरीसन-1442-43

सूर्यास्त-06:17

सूर्योदय-05:43

सूर्योदयकालीन नक्षत्र- श्रवण उपरांत धनिष्ठा,शोभन-योग,तै.-करण

सुर्योदयकालीन ग्रह-विचार-

सूर्य-सिंह,चन्द्रमा-मकर,मंगल-मीन,बुध-सिंह,गुरु-धनु,शुक्र-मिथुन,शनि-धनु,राहु-मिथुन,केतु-धनु

चौघड़िया

प्रात: 6 बजे से 7.30 तक उद्वेग

प्रात: 7.30 बजे से 9 बजे तक चर

प्रात: 9 बजे से 10.30 बजे तक लाभ

प्रात: 10.30 बजे से 12 बजे तक अमृत

दोपहर 12 बजे से 1.30 बजे तक काल

दोप. 1.30 बजे से 3 बजे तक शुभ

दोप. 3 बजे से 4.30 बजे तक रोग

शाम 4.30 बजे से 6 बजे तक उद्वेग

उपाय

तांबे के लोटे में जल लें.थोड़ा लाल चंदन मिला दें।उसको सिरहाने रखकर रात को सो जाएं।प्रात: उठकर जल को तुलसी के पौधे में चढ़ा दें। ऐसा करने से धीरे-धीरे आपकी परेशानी दूर होती जाएगी।

आराधनाःॐआदित्याय विद्महे प्रभाकराय धीमहि तन्नःसूर्यःप्रचोदयात्॥

खरीदारी के लिए शुभ समयःदोपहर:

दोपहरः 01:30 से 03:00 तक

शुभराहु काल:16:30से 18:00

दिशाशूल-

नैऋत्य एवं पश्चिम

।।अथ राशि फलम्।।

दैवज्ञ डॉ श्रीपति त्रिपाठी

ज्योतिर्विद

संपर्क सूत्र न.-

9430669031

News posted by : Radheshyam kushwaha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें