25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

कर्नाटक: सिद्धरमैया के सामने चुनावी वादों को पूरा करने की चुनौती

कर्नाटक के मुख्यमंत्री का फैसला हो चुका है. सिद्धारमैया एक बार फिर सीएम के पद पर आसीन होंगे. कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार को डिप्टी सीएम बनाया जाएगा जिसके लिए वे राजी हो गये हैं.

Undefined
कर्नाटक: सिद्धरमैया के सामने चुनावी वादों को पूरा करने की चुनौती 8

कर्नाटक का मुख्यमंत्री बनने जा रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धरमैया के सामने कई चुनौतियां रहेंगी, जिनमें मंत्रिमंडल गठन, विभागों का बंटवारा और पांच ‘गारंटी’ के वादे को पूरा करना प्रमुख हैं.

Undefined
कर्नाटक: सिद्धरमैया के सामने चुनावी वादों को पूरा करने की चुनौती 9

सिद्धरमैया को पार्टी सहयोगी और उपमुख्यमंत्री बनने जा रहे डी.के. शिवकुमार को भी साथ लेकर चलना होगा. शपथ लेने के बाद सिद्धरमैया के सामने जो पहली चुनौती है, वह एक ऐसा मंत्रिमंडल गठित करना है, जिसमें सभी समुदायों, क्षेत्रों और गुटों के अलावा नए और पुरानी पीढ़ी के विधायकों को साधा जा सके.

Undefined
कर्नाटक: सिद्धरमैया के सामने चुनावी वादों को पूरा करने की चुनौती 10

कर्नाटक मंत्रिमंडल में अधिकतम 34 मंत्री हो सकते हैं और ऐसे में कई विधायक मंत्री बनने के इच्छुक हैं, जिसके चलते सिद्धरमैया के हाथ में एक कठिन कार्य होगा.

Undefined
कर्नाटक: सिद्धरमैया के सामने चुनावी वादों को पूरा करने की चुनौती 11

पार्टी सूत्रों के अनुसार, 10 मई को हुए विधानसभा चुनावों में सभी प्रमुख समुदायों ने बड़े पैमाने पर पार्टी का समर्थन किया है, ऐसे में स्वाभाविक रूप से हर एक की आकांक्षाएं होंगी और सिद्धरमैया को सभी को साथ लेकर चलने की चुनौती होगी.

Undefined
कर्नाटक: सिद्धरमैया के सामने चुनावी वादों को पूरा करने की चुनौती 12

उपमुख्यमंत्री पद के लिए कई दावेदार थे. हालांकि, कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व ने साफ कर दिया है कि शिवकुमार ही उपमुख्यमंत्री होंगे. इससे पार्टी के कई वरिष्ठ नेता नाराज हैं.

Undefined
कर्नाटक: सिद्धरमैया के सामने चुनावी वादों को पूरा करने की चुनौती 13

वरिष्ठ कांग्रेस नेता जी परमेश्वर ने पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को आगाह किया कि यदि उपमुख्यमंत्री पद किसी दलित को नहीं दिया गया तो उसकी प्रतिकूल प्रतिक्रिया होगी और पार्टी के लिए मुश्किल खड़ी होगी.

Undefined
कर्नाटक: सिद्धरमैया के सामने चुनावी वादों को पूरा करने की चुनौती 14

उन्होंने कहा कि मैं मुख्यमंत्री एवं उपमुख्यमंत्री दोनों ही पदों का आकांक्षी था लेकिन अब हमें आलाकमान के फैसले का पालन करना है, इसलिए यह देखना है कि वे आने वाले दिनों में क्या करेंगे. फिलहाल उन्होंने दो के लिए घोषणा की है और हमें यह देखना एवं इंतजार करना होगा कि वे कैसे मंत्रिमंडल विस्तार के दौरान न्याय करेंगे.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें