Advertisement

ranchi

  • Aug 17 2016 2:01AM

डॉ बीपी केसरी की राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि

डॉ बीपी केसरी की राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि
रांची: झारखंड आंदोलन के बौद्धिक अगुवा व साहित्यकार डॉ बीपी केसरी का मंगलवार को मुख्यमंत्री रघुवर दास के आदेश के बाद राजकीय सम्मान के साथ पिठौरिया स्थित किसान घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया. मुखाग्नि उनके पुत्र डॉ संजय केसरी ने दी. दिन के करीब 10.45 बजे नागपुरी संस्थान से अंतिम यात्रा शुरू हुई.  

तिरंगे में लिपटा उनका पार्थिव शरीर जब किसान घाट पहुंचा, तो वहां मौजूद सैकड़ों लोगों  की आंखें भर आयी. अंतिम यात्रा में भी भारी भीड़ थी. लोग डॉ बीपी केसरी अमर रहे, झारखंड की पहचान बीपी केसरी का  नारा लगाते चल रहे थे. सबसे आगे नगाड़ा वादक थे. रास्ते में स्थित घरों की छत से महिलाएं, पुरुष अौर बच्चें फूलों की  पंखुड़ियां बिखेर रहे थे. किसान घाट पर पुलिस के जवानों ने डॉ केसरी को मातमी धुन के साथ अंतिम सलामी दी. 
 
सैकड़ों लोग पहुंचे श्रद्धांजलि देने  : इससे पूर्व सोमवार की शाम मुख्यमंत्री रघुवर दास ने स्व बीपी केसरी के आवास में जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दिया. मंगलवार की सुबह उनका पार्थिव शरीर पिठौरिया स्थित नागपुरी संस्थान में लोगों के दर्शनार्थ रखा गया. इस दौरान पेयजल स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी, पूर्व मंत्री सुदेश महतो, विधायक रामकुमार पाहन, गंगोत्री कुजूर, डॉ जीतू चरण राम, रांची विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ रमेश कुमार पांडे, आजसू के संस्थापक सूर्य सिंह बेसरा, देवशरण भगत, स्व डॉ रामदयाल मुंडा की पत्नी अमिता मुंडा, फिल्मकार श्रीप्रकाश, मेघनाथ, वंदना टेटे, महुआ माजी,  डॉ त्रिदिव घोष, वासवी किड़ो, मुकुंद नायक, नौशाद खान, डॉ मीनाक्षी मुंडा, अभय मिंज, सुशांतो मुखर्जी सहित बड़ी संख्या में लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी.


डॉ बीपी केसरी : मेरा सखा, मेरा रहबर
डॉ बिसेश्वर प्रसाद केसरी (बीपी केसरी) अब हमारे बीच नहीं हैं. झारखंड अलग राज्य गठन के साथ-साथ झारखंडी भाषा और संस्कृति को अलग पहचान दिलाने के लिए जितनी त्याग और तपस्या उन्होंने की, उसके लिए राज्य उनका सदैव आभारी रहेगा. झारखंडी भाषा, साहित्य और संस्कृति को एक सूत्र में पिरोना उनका एक मात्र  लक्ष्य था, जिसके लिए उन्होंने अपने जीवन की पूरी पूंजी लगाकर पिठोरिया  गांव में नागपुरी संस्थान (शोध एवं प्रशिक्षण केंद्र) की स्थापना की. अपने आप में एक संस्था बन चुके डॉ केसरी को कभी अपने खास होने का गुमान नहीं रहा. अपने सहज और सर्वसुलभ व्यक्तित्व की वजह से शिक्षा, साहित्य, पत्रकारिता, रंगमंच और राजनीति आदि के क्षेत्र के कई लोग उनसे जुड़े रहे. एक आम झारखंडी के लिए भी उनके दिल में वही स्नेह रहा. तभी तो उनका जाना सभी को खल रहा है.
बनखंडी मिश्र 
 
15 अगस्त 2016, आजादी की 70वीं वर्षगांठ की यह सुबह मेरे लिए व्यथित करने वाला समाचार लाएगा, यह मैंने कभी कल्पना नहीं की थी. हर दिन की भांति अलसुबह अपने झरिया स्थित आवास पर समाचार–पत्रें की प्रतीक्षा कर रहा था और मन में 15 अगस्त 1947 के दिन की स्मृतियां तैर रही थीं. लेकिन, यह क्या! अखबार हाथों में आते ही, पहली खबर, जिस पर नजर गई–स्तब्ध करने वाली थी. विगत आधी सदी का मेरा यार और हमराही बिसेश्वर (डॉ बीपी केसरी) नहीं रहा. 
     
वैसे, रांची की खास खबरों को पढ़कर (जिनमें बिसेश्वर की चर्चा होती थी) तुरंत मैं अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करता था, उसकी भी सुनता था. दोनों की आयु 80 पार कर चुकी थी. मेरा फोन जब भी उसको जाता या उसका फोन जब भी मुझे आता, हेलौ! की जगह ‘कहो बुड्ढे’ का संबोधन हुआ करता था और फिर लंबी बातचीत चलती थी, जिसमें हाल–चाल से लेकर हंसी–मजाक, पुरानी बातें, बच्चों का समाचार, लेखन व पठन संबंधी दोनों की नई योजनाएं भाामिल हुआ करती थीं. 
   
लेकिन, आज? प्रतिक्रियाओं का आदान–प्रदान हो, तो कैसे? आमने–सामने मिल–बैठकर घंटों चली आखिरी बातचीत सिंतबर 2010 में धनबाद में हुई थी. भारत कोकिंग कोल लिमिटेड द्वारा राष्ट्रभाषा समारोह आयोजित हुआ था, जिसमें मुख्य अतिथि विख्यात आलोचक डॉ. नामवर सिंह, बिसेश्वर और मुझे सम्मानित किया गया था. उसी समारोह में, झारखंड के एक प्रसिद्ध साहित्यकार एवं रांची विश्वविद्यालय के जनजातीय भाषा विभाग के डॉ. गिरधारी राम ‘गौंझू’ एवं डॉ अशोक ‘पागल’ से भी मेरा परिचय हुआ था. 
   
यों, मैं और बिसेश्वर हमउम्र थे, दोनों का जन्म बिहार के अलग–अलग क्षेत्र में हुआ था. वह था, झारखंड का भावी अग्रदूत और मैं ठहरा बिहार का घसीटाराम. हमदोनों की प्रथम भेंट सन 1956 ई. में हुई थी–वह भी अध्ययन–अध्यापन के क्रम में. रांची जिला स्कूल में शिक्षक–प्रशिक्षण (बीएड) का एक लघु कार्यक्रम शुरू हुआ था. जिला स्कूल के प्रधानाध्यापक स्व. गुणानन्द झा (हमारे ग्रामीण एवं संबंध में चाचा) उस कार्यक्रम के प्रभारी थे. छोटानागपुर के शिक्षा निदेशक स्व. ज्वाला पांडेय थे, उन्होंने यह प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाने की स्वीकृति दी थी. कारण, उन दिनों झारखंड के पुराने एवं प्रस्तावित उच्च विद्यालयों में प्रशिक्षित शिक्षकों का घोर अभाव था. 
   
जिला स्कूल के कार्यालय में ही चाचाजी ने हमारा परिचय बिसेश्वर से कराया था. मुझे याद है, उन्होंने कहा था, ‘एक प्यारे शिष्य तुम हो बिसेश्वर और तुम्हारे साथ एक पारिवारिक बालक को जोड़ रहा हूं.’ और उसी दिन से हम दोनों उस कार्यक्रम के प्रमुख (सहपाठियों की राय में) जोड़ा बैल बन गए थे. 
   
डेढ़ महीने की दोस्ती–हर कार्यक्रम में अंगरेजी सिनेमा के ‘लॉरेल–हार्डी’ की तरह हंसते–खेलते शैक्षणिक गहराइयों को हम दोनों नापते रहे. ट्रेनिंग कोर्स से संबंधित हर कार्यक्रम में वस्तुत: जोड़ा बैल की तरह जुते रहे-शिक्षा की फसल तैयार करने में लगे रहे. उसी बैच में खूंटी स्कूल के एक अप्रशिक्षित शिक्षक जगदीश त्रिगुणायत नामक एक कवि–शिक्षक भी थे, जो उस समय अपना ‘बांसरी बज रही’ नामक काव्य–संकलन की तैयारी में लगे हुए थे (बाद में, यह पुस्तक बिहार राष्ट्रभाषा परिषद् द्वारा सन 1957 में प्रकाषित हुई थी). त्रिगुणायतजी, वयस में, हमदोनों से बीस पड़ते थे. लेकिन, समापन समारोह में– बिसेश्वर का मांदर बजाते नृत्य और मेरे द्वारा प्र्रस्तुत ‘खऐर कका’ नामक प्रहसन (स्व. प्रो. हरिमोहन झा द्वारा रचित) ने चमत्कार किया था– ऐसा अभिमत हमारे निदेशक पांडेय साहब का था. फलत:, परीक्षा का रिजल्ट निकलने के पहले ही हमदोनों को, सरायकेला–खरसांवा के दो प्रस्तावित उच्च विद्यालयों का प्रधानाध्यापक नियुक्ति का आदेश उन्होंने दे दिया था. लेकिन, मैं था ‘घरमुंहा’ (धनबाद के प्रति एकाग्र) और बिसेश्वर तो रांची छोड़ना नहीं चाहता था. इसलिए हमलोगों ने उस नौकरी को स्वीकार नहीं की.
   
पिछले पचास साल तक हमदोनों यार बने रहे। उसने झारखंडी साहित्य–संस्कृति के संरक्षण और उन्नयन का जो बीड़ा उठाया, उसका सफलतापूर्वक निर्वाह किया, यह जगत विदित है. उसने जो विपुल साहित्य का सृजन–संकलन किया, उस पर अगली सदी के शोधार्थियों का पथ–प्रदर्शन होता रहेगा. स्व. डॉ. रामदयाल मुंडा जैसी अंरराष्ट्रीय विभूति, बिसेश्वर की देन थे– ऐसा मैं मानता हूं. पिछले पचास वर्षों में, बिसेश्वर ने झारखंडी भाषा, साहित्य व संस्कृति को विश्व के सामने उतारने का, जो भगीरथ प्रयत्न किया, वह आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रकाश–पुंज का काम करता रहेगा. उसके वैचारिक महासागर में, मेरे ऐसा सदा भटकने वाला व्यक्ति, तिनके के रूप में बहता रहा है. अपने पेशागत यायावरी में जब कभी, रांची जाता रहा हूं, मैं उससे मिलने का, वैचारिक आदान–प्रदान का अवसर निकाल लेता था. यह मेरा दुर्भाग्य है कि बढ़ती उम्र और शारीरिक रुग्णता के कारण इधर एक साथ बैठकर विचार–विमर्श नहीं कर पाते थे. यों, दूरभाष के माध्यम से बिसेश्वर से प्राय: बातें होती रही थी. उससे दिशा–निर्देश पाता रहा. लेकिन, अब तो मेरे सामने अंधकार–ही–अंधकार है. मुझे फिर भी विश्वास है कि मेरा वो वैचारिक प्र्रकाश–स्तंभ सदा बना रहेगा. मैं महाप्रभु से प्रार्थना करता हूं कि मेरे सखा को, स्वर्ग में उचित स्थान देंगे, जहां से वह न केवल झारखंडी समुदाय को, बल्कि पूरे मानव–समाज का मार्गदर्शन करता रहेगा. बिसेश्वार कॉलेज/विश्वविद्यालय में अध्यापकीय करते हुए देश–दुनिया की यात्रओं का भी अवसर निकालता रहा. सांस्कृतिक यायावरी में उसकी उपलब्धियों की तुलना महान घुमक्कड़ राहुल सांस्कृत्यान से की जा सकती है. बिसेश्वर द्वारा रचित साहित्य में से कुछ का उल्लेख करना अत्यावश्यक प्रतीत होता है.
 
1. नेरूआ लोटा और सांस्कृतिक अवधारणा
2. छोटानागपुर का इतिहास: कुछ सूत्र, कुछ संदर्भ 
3. झारखंड के सदान 
4. झारखंडी गीतों का वृृहद्  संकलन 
5. मैं झारखंड हूं 
   देश-विदेश की विभिन्न पत्र–पत्रिकाओं में प्रकाशित डॉ बिसेश्वर के सारगर्भित असंख्य लेखों का संकलन, न केवल विश्व–कोष का काम करेगा, बल्कि भावी पीढ़ी के शोधार्थियों का उचित मार्गदर्शन भी करता रहेगा. 
   
झारखंडी संस्कृति की मूल भावना को जन–जन तक पहुंचाने की उसकी ‘मेला योजना’ देश के प्रसिद्ध चिंतक और समाजवादी नेता डॉ राममनोहर लोहिया (रामायण मेला के प्रायोजक) की कोटि में बिसेश्वर को रखता है. मर्यादा पुरुषोत्तम राम के सद्गुणों को आमजनों में प्रचारित–प्रसारित करने का जो अथक प्रयास डॉ लोहिया ने किया, मेरा यार भी उन्हीं की श्रेणी में आता है. वैचारिक दृष्टि से मैं, डॉ लोहिया का मुरीद होने के गर्व का अनुभव करता हूं. दूसरी ओर, बिसेश्वर की उपलब्धियों को मैं क्या अगली पीढ़ी सदा याद रखेगी.
   
हमलोगों की यायावरी की एक घटना का उल्लेख करने का लोभ संवरण मैं नहीं कर पा रहा हूं. बिसेश्वर अपने सखा एवं शिष्य  डॉ. रामदयाल मुंडा के साथ दिल्ली में था और जेएनयू के गेस्ट हाउस में ठहरा हुआ था. मैं भी अपने ज्येष्ठ दौहित्र चिरंजीवी पुलपुल के साथ उसी गेस्ट हाउस में टिका था. संयोगवश, भोजन के समय हमलोगों की मुलाकात डायनिंग हॉल में हो गई. फिर क्या था, एक ही टेबुल पर सभी बैठे. भोजन के मेनू भले अलग थे, लेकिन हमलोगों के ठहाकों से पूरा हॉल गूंजने लगा था. कर्मचारी सब चकित हो गए कि ये बूढ़े लोग भी अपने अंत:करण में कैसा उल्लास छिपाकर रखते हैं.    
   
और आज गह्वलित मन से बिसेश्वर का एक व्यंग्य (जो उसने मुझपर किया था) नहीं भूल सकता हूं. वह इस प्रकार था कि, यार! तुम्हारा नाम बनखंडी कैसे पड़ गया? हो तो तुम मिथिलांचल के!’ उस समय मैंने उत्तर दिया, ‘मेरा एक भाई है, जो झारखंडी है और मैं बनखंडी हूं.’ वह भले उस वक्त निरुत्तर हो गया हो, लेकिन दो सगे भाई के स्नेह–सूत्र के अटूट बंधन को आजीवन उसने बनाए रखा. आज मैं अपने भ्राता ‘झारखंडी’ को कहां खोजूंगा? मेरा हृदय पूर्णरूप से द्रवित हो रहा है. मैं अपने मन की ‘बिथा’ पाठकों के सम्मुख भावावेष में उपस्थित कर रहा हूं, न जाने मेरा बिसेश्वर, मेरे इस आचरण को किस रूप में स्वीकारेगा?
बस.....अलविदा! मेरा सखा... मेरा रहबर!  
 
 
 
भुलाये नहीं जा सकते बाबा केसरी
बीरेंद्र कुमार महतो
'मिलना इत्तिफाक था, बिछड़ना नसीब था,
वो उतना ही दूर चला गया जितना वो करीब था,
हम उसको देखने के लिए तरसते रहे,
जिस शख्स की हथेली पे हमारा नसीब था...'

हमें डहर दिखलाने वाले, हमारे दु:ख-सुख में परछाई की तरह चलने वाले बाबा केसरी का जाना पूरे झारखंडी समाज के लिए एक अपूरणीय क्षति है, जिसकी भरपाई कभी नहीं की सकती है. झारखंड आंदोलन के बौद्धिक अगुआ, चिंतक, साहित्यकार, एक्टिविस्ट डॉ बीपी केसरी, जिसने अपना पूरा जीवन झारखंडियों के दु:ख-दर्द को समझने और उसके निदान में खपा दिया. झारखंड के सामाजिक, सांस्कृतिक व राजनीतिक मंच पर उन्हें बेहद सम्मानीय स्थान प्राप्त रहा. 
     
मई माह में बाबा ने मुझे अपने शोध संस्थान में बुलाया और कहा कि 'युवामन के एकजुट कर, आपन हक अधिकार खातिर, आपन मान सनमान खातिर अपने के तैयार कर, जे भटकाव समाज में आय जा हे उके डहर देखायक परयास कर बाबू...' इसके लिए उन्होंने बंद पड़ी नवरंग पत्रिका को फिर से शुरू करने की बात कही, जिसमें झारखंड की नौ भाषाओं में रचनाएं छपती थी. साहित्यिक रचनाएं, खासकर के नागपुरी भाषा में रचनाकर्म के लिए बराबर अपने पास बैठाकर समझाते व उस पर पहल करने की बात दोहराते रहते. नागपुरी पत्रिका गोतिया के संपादकीय सलाहकार के रूप में बाबा ने हमेशा मार्गदर्शन किया. मार्गदर्शन के साथ-साथ पत्रिका को आर्थिक मदद भी करते रहे. हमेशा अच्छा करने के लिए प्रेरित करने वाले डॉ केसरी का पूरा जीवन संघर्षों से भरा रहा. झारखंड राज्य बनने के बाद भी वे खुश नहीं थे. वे अक्सर मुझसे कहा करते थे 'बाबू राइज तो बनलक लगिन केकर खातिर...? हामरे के पहचान करेक होवी सासक आउर सोसक कर, उमनकर खिलाफ फिन से उलगुलान कर मसाल बारेक कर दरकार हय बुचु...', समाज के प्रति समर्पित बाबा ने कभी आदिवासी-मूलवासियों को अलग नहीं समझा. दोनों ही समुदाय को साथ लेकर चले. सच कहा जाय तो झारखंड के इतिहास में मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा व गोमके डॉ रामदयाल मुंडा को जो दर्जा हासिल है, वही दर्जा डॉ. केसरी काे प्राप्त है. झारखंड की अलग अस्मिता व पहचान की जो लड़ाई आदिवासी महासभा के नेतृत्व में छेड़ी गई थी, उसे झारखंड आंदोलन के चरम में बौद्धिक आधार देने का काम बाबा केसरी ने ही किया था. इतना ही नहीं कमोबेश झारखंड आंदोलन के वक्त जितने भी संगठन सक्रिय थे, उन्हें केसरीजी का सानिध्य प्राप्त था. वास्तव में वे झारखंड के केसरी थे. उन्हें झारखंड की आबो हवा, वन, पहाड़, भाषा-साहित्य-संस्कृति से बेहद गहरा लगाव था. वे जानते थे कि झारखंड की पहचान के लिए इसकी भाषा-संस्कृति को वैज्ञानिक आधार देना जरूरी है. इसी के मद्देनजर उन्होंने कई पत्रिकाओं के साथ साथ शोध संस्थान की भी स्थापना की. डॉ केसरी मूलत: साहित्यकार थे, उन्होंने कई अमूल्य साहित्यिक ग्रंथों की रचना तो की ही, देश-प्रदेश के विभिन्न भागों में रहने वाले, वर्षों से बिसरा दिए गए झारखंडी रचनाकारों को ढूंढ कर उनकी रचनाओं को संग्रहित कर उन्होंने एक ऐतिहासिक काम किया. अपने जीवन के अंतिम समय तक उनकी कलम बिना थके चलती रही. समाज में बाबा के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता.
(लेखक जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा विभाग, रांची विश्वविद्यालय से जुड़े हैं)
 
 
डॉ बीपी केसरी की अनूठी देन है नागपुरी संस्थान
रांची. यदि आपको झारखंडी सभ्यता-संस्कृति, भाषा-साहित्य, रीति-रिवाज, इतिहास-भूगोल, आचार-विचार और अस्तित्व-अस्मिता से जुड़े किसी भी झारखंडी प्रश्नों का जवाब चाहिए तो झारखंड की राजधानी रांची से 17 किमी दूर रांची-पतरातू-रामगढ़ स्टेट हाइवे में स्थित पिठोरिया गांव के नागपुरी संस्थान (शोध एवं प्रशिक्षण केंद्र) में आना होगा. 17 फरवरी 2002 को संस्थान की स्थापना डॉ बीपी केसरी और उनकी पत्नी शांति केसरी के द्वारा की गयी. कार्यारंभ एक जुलाई 2003  से हुआ.

झारखंडवासियों को नागपुरी संस्थान की अनन्यतम देन संस्थान का पुस्तकालय है. यहां जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषाओं की 520 पुस्तकें, अंगरेजी साहित्य की 515 पुस्तकें और 192 पत्रिकाएं, हिंदी साहित्य की 1556 पुस्तकें और हिंदी व नागपुरी भाषा के 3392 पत्रिकाएं उपलब्ध हैं. इसके अलावे 67 नागपुरी कवियों द्वारा रचित 117 कविता और गीत की पुस्तकें, 645 नागपुरी कवियों का जीवनवृत्त और उनके द्वारा रचित 35000 शिष्ट गीत और लगभग 4 हजार लोकगीतों का संग्रह है. समग्र रूप से पुस्तकालय की किताबों को मूल पांडुलिपि, प्रतिलिखित, प्रकाशित और अप्रकाशित वर्ग में रखा जा सकता है. 
 
डॉ बीपी केसरी  व्यक्तित्व एवं कृतित्व
सुजीत केसरी
डॉ बिसेश्वर प्रसाद (बीपी) केसरी का जन्म एक जुलाई 1933 को हुआ. जीवन यात्रा पिता शिवनारायण साहू और माता लगन देवी की छत्रछाया में शुरू हुई. मां की ममता से पढ़ने की जिद पैदा हुई. प्राथमिक शिक्षा गांव में प्राप्त कर रांची विश्वविद्यालय से एमए और पीएचडी की. वे ख्याति प्राप्त झारखंडी आंदोलनकारी, साहित्यकार, शिक्षाविद्, इतिहासकार एवं पत्रकार थे. 
     
इनकी प्रमुख कृतियों में नागपुरी भाषा और साहित्य, साहित्य के तत्त्व और आयाम, झारखंडी भाषाओं की समस्याएं और संभावनाएं, छोटानागपुर का इतिहास, झारखंड आंदोलन की वास्तविकता, चरित्र-निर्माण, झारखंड के सदान, मैं झारखंड में हूं, ऊँ विश्वविद्यालय नम:, कवि रत्न शारदा प्रसाद शर्मा-एक अंतरंग आकलन, नागपुरी गीतों में शृंगार रस, सिर्फ सोलह सफे, शेष सारे सफे (दोनों हिंदी कविता), सत्यार्चन, ठाकुर विश्वनाथ शाही, नेरूआ लोटा उर्फ सांस्कृतिक अवधारणा, कल्चरल झारखंड : प्रोब्लम्स एंड प्रोस्पेक्ट्स, नागपुरी भाषा उद्गम और विकास, झारखंड के इतिहास की कुछ जरूरी बातें, रेडियो ले दूठो नागपुरी नाटक, नागपुरी लोक गीत वृहद् संग्रह और नागपुरी कवि और उनका काव्य प्रमुख है. इसके अलावे इनके द्वारा अनेक पुस्तकों का संपादन भी किया गया है.
     
इन्हें अंतरराष्ट्रीय सेमिनारों में साउथ एशियन कांफ्रेन्स विंसकौन्सिन, यूएसए (1985), इंस्टिट्यूट ऑफ डेवलपिंग इकोनोमी, टोकियो और यूनिवर्सिटी ऑफ क्योटो, जापान (1988) एवं कैंब्रिज यूनिवर्सिटी इंगलैंड (1996) में भाग लेने का अवसर मिला.
   
 इन्हें अनेक सम्मानों से नवाजा गया है. इन सम्मानों में विक्रमशिला विद्यापीठ, भागलपुर के द्वारा ‘विद्या-सागर’ (1982), लोक सेवा समिति द्वारा ‘झारखंड रत्न’ (1999), झारखंड साहित्य परिषद्, डालटनगंज द्वारा ‘साहित्य-शिरोमणि’ (2002), वैश्य सम्मेलन रांची द्वारा ‘भारतेंदु हरिश्चंद्र साहित्य सम्मान’ (2003), प्रभात खबर द्वारा ‘झारखंड गौरव सम्मान’ (2009), राजभाषा सम्मान, धनबाद, झारखंड (2010), रांची दूरदर्शन केंद्र द्वारा ‘रांची दूरदर्शन केंद्र सम्मान’(2010), दैनिक जागरण रांची द्वारा ‘दैनिक जागरण सम्मान’ (2012), कला-संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग, झारखंड सरकार के द्वारा ‘लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड’ (2011-2012), झारखंड भाषा साहित्य संस्कृति, अखड़ा रांची द्वारा ‘अखाड़ा सम्मान’ (2013) और ब्रजेंद्र मोहन चक्रवर्ती स्मृति साहित्य सम्मान (2014) शामिल हैं.
   
 झारखंडी समाज और नागपुरी भाषा को इनकी अनूठी देन है-नागपुरी संस्थान (शोध एवं प्रशिक्षण केंद्र) पिठोरिया. इनसे प्रशिक्षित सैकड़ों शोधार्थी झारखंडी सभ्यता-संस्कृति, भाषा-साहित्य एवं रीति रिवाजों के संरक्षण-संवर्द्धन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं. 14 अगस्त 2016 को इनका देहावसान हो गया.
 
 
डॉ बीपी केसरी ने निधन पर पूरे राज्य में शोक की लहर, सबने कहा झारखंड को सदैव प्रेरित करते रहेंगे
 
डॉ बीपी केसरी ने झारखंड के लाखों लोगों को अपने विचारों अौर काम से प्रेरित किया था. झारखंड आंदोलन को उन्होंने डॉ रामदयाल मुंडा के साथ बौद्धिक नेतृत्व दिया था. उनके अंतिम संस्कार में आये लोगों ने कहा कि डॉ केसरी का नहीं होना एक कभी न भरने वाला शून्य है. लोगों ने यह भी कहा कि डॉ केसरी आज हमारे बीच नहीं हैं, पर उनके विचार झारखंड को प्रेरित करते रहेंगे. 
योगदान नहीं भूल सकते
झारखंड के नवनिर्माण अौर सुंदर झारखंड की परिकल्पना में डॉ बीपी केसरी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता. जीवन के अंतिम समय तक काम करने की उनकी सहज प्रवृत्ति, जुझारू व्यक्तित्व हमेशा प्रेरित करता रहेगा. झारखंड के साहित्य, मानव अौर प्राकृतिक संपदाअों को समेट कर वे लगातार लेखन करते रहे. वे झारखंड की पहचान थे. 
डॉ कमल बोस, संत जेवियर्स कॉलेज
 
झारखंड के पुरोधा थे
डॉ बीपी केसरी सही मायने में झारखंड के पुरोधा थे. जब मैंने होश संभाला तब झारखंड आंदोलन चल रहा था. उस समय बैठकों अौर आंदोलन में उनका बराबर नाम आता था. उस समय उन्हें देखने-सुनने का मौका मिला था. हमारी संस्था अखड़ा का जब नामकरण हो रहा था, उस बैठक में भी वे थे. डॉ रामदयाल मुंडा के बाद अब डॉ बीपी केसरी का न होना  बहुत बड़ा झटका है. 
 
वंदना टेटे
सांस्कृतिक अस्मिता के स्वर थे डॉ केसरी
झारखंड जन संस्कृति मंच ने डॉ बीपी केसरी के निधन पर शोक जताया. मंच के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ रविभूषण, उपाध्यक्ष शंभू बादल, मेघनाथ, कालेश्वर, जेवियर कुजूर, अनिल अंशुमन आदि ने कहा कि डॉ बीपी केसरी देशज व सांस्कृतिक अस्मिता के मुखर स्वर थे. उन्होंने झारखंड राज्य के गठन में वैचारिक व सांस्कृतिक नायक की भूमिका निभायी. अॉल इंडिया पीपुल्स फोरम के सदस्य पूर्व विधायक विनोद कुमार आदि ने दुख जताया.  
 
काफी प्रभावित िकया
मेरे छात्र जीवन से लेकर राजनीतिक जीवन को डॉ बीपी केसरी ने काफी प्रभावित किया है. डॉ केसरी अौर डॉ मुंडा ने मिल कर झारखंड आंदोलन को बौद्धिक रूप से परिपक्व किया था. वर्ष 1987 में अलग झारखंड राज्य के गठन को लेकर तत्कालीन राष्ट्रपति आर वेंकटरमण से डॉ रामदयाल मुंडा, डॉ बीपी केसरी, प्रभाकर तिर्की अौर मैं मिलने गया था. 
 
सूर्य सिंह बेसरा, पूर्व विधायक
 
दस्तावेज खत्म होने जैसा
डॉ बीपी केसरी झारखंड आंदोलन को बौद्धिक अौर वैचारिक आधार देनेवाले शीर्ष नेतृत्वकर्ता थे. वे पूरे झारखंडी जनमानस को जोड़नेवाली कड़ी भी थे. 1987 में डॉ केसरी ने झारखंड कोआर्डिनेशन कमेटी के मुख्य संयोजक के रूप में काम किया था. उसमें 53 संगठन थे. उनका देहांत झारखंड के एक दस्तावेज के खत्म होने जैसा है.
देवशरण भगत, झारखंड वनांचल आंदोलनकारी चिह्नितीकरण आयोग के सदस्य 
 
आजीवन संघर्षशील रहे
शिक्षाविद व झारखंड आंदोलन के पुरोधा बीपी केसरी के निधन पर भाकपा माले श्रद्धांजलि दी है. माले नेताओं ने कहा कि वह झारखंडी  अस्मिता, भाषा, पहचान और परंपरा के लिए आजीवन संघर्षशील रहे.  स्व केसरी के  घर जाकर शोक संतप्त परिवार को ढांढस बंधाया. इसमें माले राज्य सचिव जर्नादन  प्रसाद ,शुभेंदू सेन, भुवनेश्वर केवट आदि शामिल थे. जन संस्कृति मंच  के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डाॅ रविभूषण, उपाध्यक्ष  डाॅ  शंभू बदल व  बलभद्र, मेघनाथ, कथाकार कालेश्वर, राष्ट्रीय सचिव जेवियर कुजूर, सह  सचिव सोनी तिरिया, रूपक राग, गौतम सिंह मुंडा, जयबीर हांसदा व प्रदेश  सचिव अनिल अंशुमान ने श्रद्धांजलि दी. 
 
डॉ केसरी का योगदान अहम : ताला
भाजपा नेताओं ने डॉ बीपी केसरी के निधन पर शोक जताया है. प्रदेश अध्यक्ष ताला मरांडी ने कहा कि डॉ केसरी झारखंड की मिट्टी के लाल थे. उन्होंने राज्य की भाषा, संस्कृति और पहचान के लिए आवाज बुलंद की. साहित्यिक और सांस्कृतिक क्षेत्र में उनका योगदान अमूल्य है.  डॉ केसरी के निधन से जो शून्य पैदा हुआ है, उसे भरा नहीं जा सकता. शोक जतानेवालों में सांसद महेश पोद्दार, दीपक प्रकाश, सीमा शर्मा, आशा लकड़ा, मंजु रानी, रागिनी सिन्हा, मधुराम साहू, कमला खां, अनु लकड़ा, सुमन कच्छप, प्रतिभा पांडेय, मनोज मिश्रा, पुनीता राय, प्रमोद मिश्रा, रंजना जायसवाल, लक्ष्मी कुमारी समेत कई नेता शामिल हैं.
 
नागपुरी भाषा परिषद ने जताया शोक
नागपुरी भाषा परिषद के तत्वावधान में मंगलवार को आयोजित शोक सभा में डॉ बीपी केसरी को श्रद्धांजलि दी गयी. इस अवसर पर परिषद के अध्यक्ष डॉ भुवनेश्वर अनुज ने कहा कि नागपुरी साहित्य में डॉ बीपी केसरी का महत्वपूर्ण योगदान है. डॉ केसरी आजीवन सक्रिय रहे. उनके नहीं होने पर जो रिक्तता उत्पन्न हुई है, उसे भरना असंभव है. सभा में डॉ त्रिवेणीनाथ साहू, शकुंतला मिश्रा, डॉ खालिद अहमद, डॉ उमेश तिवारी, एम इलियास सहित अन्य उपस्थित थे.
 
 
 
 

Advertisement

Comments

Advertisement