aurangabad

  • Nov 12 2018 7:52AM
Advertisement

औरंगाबाद : देव में 10 लाख से अधिक श्रद्धालु देंगे अर्घ, नहाय-खाय के साथ चार दिवसीय छठ पर्व शुरू, खरना आज

औरंगाबाद : देव में 10 लाख से अधिक श्रद्धालु देंगे अर्घ, नहाय-खाय के साथ चार दिवसीय छठ पर्व शुरू, खरना आज

औरंगाबाद नगर : भगवान भास्कर की नगरी देव समेत पूरे जिले में नहाय-खाय के साथ चार दिवसीय  महापर्व छठ का आरंभ हो चुका है. देव में छठ का अनुष्ठान करने के लिए  झारखंड, उत्तरप्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ व पश्चिम बंगाल समेत अन्य  राज्यों के कोने-कोने से श्रद्धालु पहुंचने लगे हैं. रविवार की शाम तक करीब  दो लाख श्रद्धालु देव पहुंच चुके थे, जबकि छठव्रतियों के आने का सिलसिला  जारी है. सूर्य मंदिर न्यास समिति द्वारा देव स्थित सूर्य कुंड व सूर्य  मंदिर परिसर में की गयी आकर्षक सजावट व प्रकाश की व्यवस्था से सूर्य नगरी  रोशन दिख रही है व सूर्य मंदिर की सजावट देखते ही बन रही है. 

कार्तिक छठ  व्रत के प्रथम दिन देव समेत पूरे जिले में श्रद्धालुओं एवं छठ व्रतियों ने  पवित्र सूर्यकुंड के अलावा जिले के विभिन्न हिस्सों में स्थित पवित्र  नदियों व सरोवरों में स्नान किया. स्नान के बाद महिलाओं ने नदी व कुओं के  शुद्ध जल से कद्दू-भात बनाया और इसे परिजनों, बंधु-बांधवों व इष्ट मित्रों  के साथ ग्रहण किया. 

नहाय-खाय के बाद छठव्रती सोमवार की शाम खरना करेंगे,  जिसके बाद छठव्रतियों के 24 घंटे का निर्जला उपवास आरंभ हो जायेगा, जो  उदयगामी सूर्य को अर्घ दिये जाने के साथ समाप्त होगा.

छठ मेले का उद्घाटन आज : देव  में आयोजित चार दिवसीय कार्तिक छठ मेले का उद्घाटन आज सूबे के पर्यटन  मंत्री प्रमोद कुमार करेंगे, जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता बिहार सरकार के  पिछड़ा व अति पिछड़ा कल्याण विभाग के मंत्री सह जिले के प्रभारी मंत्री  बृजकिशोर बिंद करेंगे.

कल्पवासियों के पर्णकुटीर में छठपूजा की धूम

बीहट (बेगूसराय) : सिमरिया धाम में पर्णकुटीरों में छठ के गीत गाये जा रहे हैं. पर्णकुटिरों की छोटी-सी जगह में खाना बनाने व सोने के लिए अलग-अलग स्थान बनाया गया है. साथ ही आंगन में तुलसी का पौधा लगा कल्पवासी पूरे मनोयोग से मां गंगा की भक्ति में लीन हैं. दरभंगा मनीगाछी से आये कल्पवासी रंजना देवी बताती हैं कि हमलोग कई सालों से मां गंगा की सेवा के लिए यहां आ रहे हैं. इसी पर्णकुटीर में छठ पूजा के दिन घर के सभी सदस्यों के अलावा सगे-संबंधी भी पहुंचते हैं. उन्होंने कहा कि मां गंगा के आंगन में छठ पूजा करने का बड़ा ही सुखद एहसास होता है.

 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement