1. home Hindi News
  2. national
  3. water minister satyendra jain said that purified water will be used in other works including gardening in delhi apart from drinking vwt

दिल्ली में अब पीने के अलावा बागवानी समेत दूसरे कामों में भी हो सकेगा शोधित पानी का इस्तेमाल

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का दौरा करते दिल्ली के जल मंत्री सत्येंद्र जैन.
वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का दौरा करते दिल्ली के जल मंत्री सत्येंद्र जैन.

नयी दिल्ली : देश की राजधानी दिल्ली में अब जलबोर्ड के शोधित पानी का इस्तेमाल पीने के साथ ही बागवानी समेत अन्य कामों में किया जा सकेगा. शनिवार को दिल्ली जल बोर्ड के अध्यक्ष और जल मंत्री सतेंद्र जैन ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट प्लांट्स का दौरा करने के बाद ये बात कही है. उन्होंने रोहिणी (15 एमजीडी), रिठाला (60 एमजीडी), कोरोनेशन पिलर (30 एमजीडी) में वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट प्लांट्स (अपशिष्ट उपचार संयंत्रों) का दौरा किया. साथ ही, उन्होंने तिमारपुर स्थित ऑक्सीडेशन तालाब और भलस्वा झील साइट का भी स्थलीय निरीक्षण किया.

जल संसाधन के नए विकल्प तलाशने की जरूरत

कैबिनेट मंत्री सतेंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में तेजी से बढ़ती आबादी के कारण आने वाले दिनों में बहुत ज्यादा पानी की आवश्यकता होगी. इसलिए हम सभी को पानी का उपयोग बहुत ही समझदारी के साथ करने की जरूरत है. पहले से उपलब्ध पानी के संसाधनों पर बोझ कम करने और जहां भी संभव हो, पानी के संसाधन के नए विकल्प स्थापित किए जाने की आवश्यकता है.

इन कामों में किया जा रहा है ट्रीटेड वाटर का इस्तेमाल

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार, यमुना को स्वच्छ बनाने और दिल्ली में कम होते भूजल स्तर को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है. इसी उद्देश्य से दिल्ली जल बोर्ड ने शोधित पानी का उपयोग पीने के अलावा अन्य गतिविधियों, जैसे- बागवानी कार्यों और विभिन्न एजेंसियों/संगठनों को देने या बसों और ट्रेनों को धोने के लिए प्रयोग करना शुरू किया है.

पूरी क्षमता के साथ नहीं हो रहा ट्रीडेट वाटर का उपयोग

उन्होंने आगे बताया कि हाल के दिनों में इस शोधित पानी का उपयोग अपनी पूरी क्षमता के साथ नहीं किया जा रहा है. अभी हमारे पास 20 दूषित जल शोधित संयंत्र (वेस्ट वाटर ट्रीमटमेंट प्लांट) हैं, जिसमें 500 एमजीडी दूषित जल को साफ किया जाता है और उसमें से 90-95 एमजीडी जल का उपयोग किया जा रहा है. दिल्ली जल बोर्ड का उद्देश्य है कि वो शोधित जल को पीने के पानी के अलावा दूसरे कामों में ज्यादा ज्यादा से उपयोग किया जाए.

जल मंत्री ने दिए निर्देश

मंत्री सतेंद्र जैन ने अधिकारियों को अब एसटीपी से निकलने वाले 100 एमजीडी शोधित पानी का उपयोग करने का निर्देश दिया है. उन्होंने कहा कि उक्त एसटीपी में और उसके आसपास उपलब्ध लगभग 500 एकड़ के ग्रीन बेल्ट और वन क्षेत्रों में रिठाला, रोहिणी और कोरोनेशन पिलर के शोधित जल प्रवाह का उपयोग चरणबद्ध तरीके से किया जाना चाहिए.

जल मंत्री ने दिए निर्देश

  • संबंधित एसटीपी से वनों और हरित क्षेत्रों में शोधित जल का उपयोग होना चाहिए.

  • मौजूदा एसटीपी के 100 प्रतिशत क्षमता को सुनिश्चित करने के लिए अधिक से अधिक ध्यान दिया जाए.

  • सभी रक्षात्मक ई एंड एम उपकरणों और बायोगैस संयंत्रों को तत्काल आधार पर ठीक किए जाने की आवश्यकता है.

  • रोहिणी एसटीपी में 80 एकड़ खाली भूमि, रिठाला एसटीपी में 60 एकड़ वन, कोरोनेशन पिलर एसटीपी के पास 250 एकड़ वन का उपयोग शोधित अपशिष्ट के आवेदन के माध्यम से भूजल स्तर में सुधार के लिए किया जाना चाहिए.

  • एसटीपी के पास बिना शोधित अपशिष्ट जल का उपयोग किया जाना चाहिए और एसटीपी में शोधित जल उपयोग किया जाना चाहिए, ताकि उपलब्ध बुनियादी ढांचे का शत-प्रतिशत उपयोग किया जा सके.

  • निगम का दूषित पानी किसी भी हाल में बारिश में एकत्रित हुए के पानी से न मिले.

Posted By : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें