1. home Hindi News
  2. national
  3. squirrel infected with bubonic plague another dangerous disease reached america from china increased risk of spreading infection

चीन से अमेरिका पहुंची इस खतरनाक बीमारी से बढ़ा संक्रमण का खतरा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
मेरिका के कोलोराडो में एक गिलहरी को ब्यूबोनिक प्लेग से संक्रमित पाया गया
मेरिका के कोलोराडो में एक गिलहरी को ब्यूबोनिक प्लेग से संक्रमित पाया गया
twitter

नयी दिल्ली : कोरोना वायरस से जूझ रही दुनिया के लिए एक बुरी खबर है. बताया जा रहा है कि चीन से एक और बीमारी अमेरिका पहुंची है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका के कोलोराडो में एक गिलहरी को ब्यूबोनिक प्लेग से संक्रमित पाया गया है. जिसके बाद अब विशेषज्ञों को यह डर सताने लगा है कि कोरोना वायरस की ही तरह ब्यूबोनिक प्लेग भी न फैलने लग जाए.

मालूम हो कि कुछ दिनों पहले ही चीन से खबर आयी थी कि चीन के मंगोलिया में ब्यूबोनिक प्लेग फैल रही है. अब चीन से बाहर निकलकर अगर यह बीमारी अमेरिका पहुंची है तो यह खतरे की घंटी है. गौरतलब है कि ब्यूबोनिक प्लेग दुनिया में तीन बार फैल चुका है, पहली बार इस बीमारी से 5 करोड़ लोगों की मौत हुई थी, दूसरी बार पूरे यूरोप की एक तिहाई आबादी और तीसरी बार 80 हजार लोगों की जान चली गयी थी. अमेरिका ने हमेशा कोरोना वायरस के प्रसार के लिए चीन को ही जिम्मेदार माना है. चीन के साथ-साथ विश्व स्वास्थ्य संगठन को भी अमेरिका ने कोरोना के लिए जिम्मेदार ठहराया और उससे नाता भी तोड़ लिया.

11 जुलाई को अमेरिका के कोलोराडो के मॉरिसन में आया था पहला मामला

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका के कोलोराडो के मॉरिसन में 11 जुलाई को पहली बार यह मामला सामने आया था. वहां एक गिलहरी ब्यूबोनिक प्लेग से संक्रमित पायी गई है. मामला सामने आने के बाद वहां के प्रशासन ने लोगों को सतर्क रहने को कहा है. साथ ही चूहों, गिलहरियों और नेवलों से दूर रहने को कहा है.

कितना घातक है यह बीमारी

बता दें कि ब्यूबोनिक प्लेग चूहों में पाए जाने वाली बैक्टीरिया से फैलता है. यह बैक्टीरिया खून और फेफड़ों पर हमला करता है. इससे उंगलियां काली पड़कर सड़ने लगती हैं और नाक में भी संक्रमण के कारण ऐसा ही होता है.

विशेषज्ञों के अनुसार बीमारी होने से शरीर में असहनीय दर्द, तेज बुखार होता है. नब्ज तेज चलने लगती है. बताया जाता है कि ब्यूबोनिक ब्लेग सबसे पहले चूहों को होता है. चूहों के मरने के बाद इस प्लेग का बैक्टीरिया मानव शरीर में प्रवेश कर जाता है और धीरे-धीरे लोगों को अपनी चपेट में लेने लगता है.

Posted By - Arbind kumar mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें