1. home Hindi News
  2. national
  3. rafale news india rafael missile rafaels strength increased hammer missile is expert in killing on the ground hammer missile range pkj

हैमर मिसाइल ने बढ़ा दी राफेल की ताकत, और खतरनाक हुआ विमान

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
राफेल विमान
राफेल विमान
फाइल फोटो

राफेल विमान के आने के बाद भारत अपनी सैन्य ताकत और मजबूत कर रहा है. भारत को लगातार अपने पड़ोसी देश जिनमें पाकिस्तान और चीन जैसे देश शामिल हैं उनसे खतरा है. ऐसे में भारत अपनी सैन्य ताकत और मजबूत करके दुश्मनों को सीधा सकेंत दे रहा है.

भारत ने दुश्मनों को धूल चटाने के लिए राफेल विमान खरीदा है. इस विमान के भारतीय वायु सेना में शामिल होने से हमारी ताकत में काफी बढोत्तरी हुई है.

अब राफेल और खतरनाक और घातक हो गया है. भारतीय राफेल की क्षमता इसलिए और बढ़ रही है क्योंकि इसमें हैमल मिलाइल भी जोड़ा जा रहा है. आसमान पर अब राफेल दुश्मनों के लिए काल बनकर मंडरायेंगा.

राफेल में जुड़ा हैमर मिसाइल बेहद खास है. क्योंकि इसमें हैमर यानी कि हाइली एजाइल एंड मैनोवरेबल म्यूनिशन एक्टेंडेड रेंज (Hammer) जो हवा से ही जमीन पर सटीक निशाना लगाने और दुश्मनों के बंकर हवाई जहाज मारने में कारगर है. इस मिसाइल को 70 किमी की दूरी से भी दागा जा सकता है औऱ यह बिल्कुल सटीक निशाना लगाती है.

हैमर मिसाइल का उपयोग कई टारगेट को एक साथ निशाना बनाने के लिए भी किया जाता है.इसमें डाटा लिंक की क्षमता भी है जो इसे और मारक बनाती है. यह मिसाइल स्मार्ट है जो युद्ध जैसे माहौल में और चुपचाप निशाना लगाने में माहिर है.

हैमर मिसाइल भारतीय वायुसेना में एक साल बाद शामिल होने वाला था लेकिन फ्रांस की सरकार ने देश की स्थिति को देखते हुए अपने सूची में सीमित हथियार की जरूरत को पूरा कर दिया है. अब इस मिसाइल के आने से भारत की ताकत में और इजाफा हो गया है.

राफेल विमानों की दूसरी खेप भी आज भारत पहुंच गयी. भारत के पास अबतक दो बार में आठ राफेल लड़ाकू विमान पहुंचे हैं. भारतीय वायुसेना ने इस संबंध में ट्वीट कर जानकारी दी है कि ‘‘राफेल विमानों की दूसरी खेप चार नवंबर, 2020 को फ्रांस से उड़ान भरने के बाद सीधे शाम शाम 8:14 बजे भारत पहुंच गयी है.

दूसरी खेप में तीन राफेल विमान हैं. वायुसेना में शामिल राफेल विमान पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में ड्यूटी पर लगाया गया है. भारतीय वायुसेना के प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर. के. एस. भदौरिया ने पांच अक्टूबर को कहा था, सभी 36 राफेल विमानों को 2023 तक सेना में शामिल कर लिया जायेगा.

क्या खास है राफेल में

अधिकतम 1400 किमी प्रति घंटा की रफ्तार

50,000 की ऊंचाई तक उड़ान भरने में सक्षम

अत्याधुनिक और ताकतवर हथियारों से लैस

इंधन खत्म होने पर वापस बेस पर लौटने की जरूरत नहीं

हवा में ही उड़ते हुए भर सकता है ईंधन

एयरक्राफ्ट बियोंड विजुअल रेंज एयर टू एयर मिसाइल मिटियोर से लैस

120 किलोमीटर दूर तक दुश्मनों पर लगा सकता है निशाना

दुश्मन की सीमा में घुसे बिना गिरा सकता है 100 किमी दूर दुश्मन के एयरक्राफ्ट

600 किलोमीटर दूर से टार्गेट को हिट करती है क्रूज मिसाइल

100 किमी के दायरे में एक साथ 40 टार्गेट को ढ़ूंढ़ कर बना सकता है निशाना

टोही विमान की भूमिका में भी बेमिसाल

रियलटाइम में हासिल करता है क्षेत्र का नक्शा

खराब मौसम में जेनरेट कर सकता है रियल टाइम थ्रीडी मैप

विमान में लगे सेंसर्स की मदद से जमीन के खतरे से हो जाता है सचेत

Posted By - Pankaj Kumar Pathak

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें