1. home Home
  2. national
  3. pm narendra modi speeches updates corona vaccine 100 crore diwali chhath puja vaccinationa vaccine dose child vaccine vwt

पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र से कहा- त्योहार मनाएं लेकिन सावधानियों के साथ, कोरोना अभी गया नहीं है

गुरुवार 21 अक्टूबर 2021 को 100 करोड़ से अधिक कोरोना डोज देकर भारत ने टीकाकरण अभियान में एक नया इतिहास रच दिया है. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के चिकित्सकों, चिकित्साकर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स, शोधकर्ताओं, वैज्ञानिकों और दवा निर्माता को बधाई और धन्यवाद ज्ञापित किया

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
फोटो : ट्विटर.

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार की सुबह 10 बजे राष्ट्र को संबोधित किया. इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारे देश ने एक तरफ कर्तव्य का पालन किया तो दूसरी तरफ उसे बड़ी सफलता मिली. कल 21अक्टूबर को भारत ने एक बिलियन कठिन लेकिन असाधारण लक्ष्य को हासिल किया है. इस उपलब्धि के पीछे देश की 130 करोड़ की आबादी की शक्ति लगी है. यह सफलता देशवासियों की सफलता है. मैं सभी देशवासियों को बधाई देता हूं.

उन्होंने कहा कि भारत ने जिस तेजी से 100 करोड़ का आंकड़ा पार किया है उसकी सराहना हो रही है, लेकिन हम इस दौरान अक्सर भूल जाते हैं कि इसकी शुरुआत हमने कहां से की है. वैक्सीनेशन को खोजना और रिसर्च करना बड़ी बात है. 100 साल की सबसे बड़ी महामारी जब सामने आई तो भारत को लेकर सवाल खड़े किए जाने लगे कि भारत कहां से वैक्सीन लाएगा. भारत के पास इतनी बड़ी आबादी के लिए वैक्सीन कहां से आएगा. भारत के पास पैसा कहां से आएगा, लेकिन 100 करोड़ डोज इन सभी सवालों का जवाब दे रहा है.

भारत ने एकजुटता के साथ दिखाई ताकत

उन्होंने कहा कि इस 100 करोड़ डोज से दुनिया भारत की इस ताकत को देख रहा है. भारत एक फार्मा हब के रूप में विकसित हो रहा है. भारत सबका साथ, सबका विश्वास और सबका विकास का जीता जागता उदाहरण है. दुनिया में कहा जा रहा था कि इस महामारी में भारत के लिए लड़ना मुश्किल होगा. कहा यह जा रहा था कि भारत में इतना संयम कैसे बरता जाएगा. लेकिन भारत में 130 करोड़ आबादी को मुफ्त में वैक्सीन दी गई.

वैक्सीनेशन में वीआईपी कल्चर को किया गया दूर

उन्होंने कहा कि बीमारी अगर भेदभाव नहीं करती तो वैक्सीन में भेदभाव क्यों. वैक्सीन में वीआईपी कल्चर को दूर किया गया. कहा यह भी जा रहा था कि यहां वैक्सीन लगाने के लिए कोई आएगा ही नहीं, लेकिन भारत के लोगों ने 100 करोड़ डोज लेकर ऐसे लोगों को निरुत्तर कर दिया है. ऐसे में सबका प्रयास एकजुट हो जाता है तो परिणाम अद्भुत होते हैं.

वैक्सीन बनाने से लेकर लगाने तक साइंटिफिक अप्रोच

वैक्सीन बनने से लेकर लगाने तक साइंस और साइंटिफिक अप्रोच रहा है. वैक्सीनेशन एक चुनौती थी. यह भगीरथ प्रयास से कम नहीं था. देश के सुदूर क्षेत्रों में इसे पहुंचाना कठिन था. किस देश में कैसे कितनी वैक्सीन पहुंचानी चाहिए, इसके लिए भी वैज्ञानिक तरीके का इस्तेमाल किया गया.

दुनिया में हो रही भारत की सराहना

पीएम मोदी ने कहा कि आज कई लोग भारत के वैक्सीनेशन प्रोग्राम की तुलना दुनिया के दूसरे देशों से कर रहे हैं. भारत ने जिस तेजी से 100 करोड़ का, 1 बिलियन का आंकड़ा पार किया, उसकी सराहना भी हो रही है. लेकिन, इस विश्लेषण में एक बात अक्सर छूट जाती है कि हमने ये शुरुआत कहाँ से की है. भारत के लोगों को वैक्सीन मिलेगी भी या नहीं? क्या भारत इतने लोगों को टीका लगा पाएगा कि महामारी को फैलने से रोक सके? भांति-भांति के सवाल थे, लेकिन आज ये 100 करोड़ वैक्सीन डोज, हर सवाल का जवाब दे रही है. जब 100 साल की सबसे बड़ी महामारी आई, तो भारत पर सवाल उठने लगे. क्या भारत इस वैश्विक महामारी से लड़ पाएगा? भारत दूसरे देशों से इतनी वैक्सीन खरीदने का पैसा कहां से लाएगा? भारत को वैक्सीन कब मिलेगी?

ताली-थाली ने दिखाई एकजुटता

पीएम मोदी ने कहा कि हमने महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई जन भागीदारी को अपनी पहली ताकत बनाया. देश ने अपनी एकजुटता को ऊर्जा देने के लिए ताली, थाली बजाई, दीए जलाए तब कुछ लोगों ने कहा था कि क्या इससे बीमारी भाग जाएगी? लेकिन हम सभी को उसमें देश की एकता दिखी, सामूहिक शक्ति का जागरण दिखा. आज भारतीय कंपनियों को न केवल रिकॉर्ड निवेश मिल रहा है, बल्कि रोजगार सृजन भी हो रहा है. स्टार्ट-अप में रिकॉर्ड निवेश के साथ-साथ रिकॉर्ड स्टार्टअप यूनिकॉर्न भी विकसित किए जा रहे हैं.

कॉविन प्लेटफॉर्म दुनिया में आकर्षण का केंद्र

उन्होंने कहा कि हमारे देश ने कॉविन प्लेटफॉर्म की जो व्यवस्था बनाई है, वो भी विश्व में आकर्षण का केंद्र है. भारत में बने कॉविन प्लेटफॉर्म ने न केवल आम लोगों को सहुलियत दी, बल्कि मेडिकल स्टाफ के काम को भी आसान बनाया है. भारत और विदेशों के विशेषज्ञ भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर काफी सकारात्मक हैं. आज भारतीय कंपनियों में न केवल रिकॉर्ड निवेश आ रहा है बल्कि युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर भी पैदा हो रहे हैं.

सावधानी से मनाएं त्योहार, वैक्सीन के लिए करें प्रोत्साहित

मैं सभी से अनुरोध करता हूं कि आने वाले त्योहारों को अत्यंत सावधानी के साथ मनाएं. मैं उन सभी लोगों से अपील करता हूं, जिन्होंने अभी तक कोविड-19 वैक्सीन की पहली खुराक नहीं ली है, उन्हें टीका लगवाने को सर्वोच्च प्राथमिकता देनी चाहिए. टीकाकरण कराने वालों को चाहिए कि वे दूसरों को प्रोत्साहित करें.

इसके पहले शुक्रवार की सुबह प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी गई थी. हालांकि, पीएमओ की ओर से इस बात की जानकारी नहीं दी गई है कि वे किस मसले पर राष्ट्र को संबोधित करेंगे, लेकिन मीडिया की खबरों में इस बात को लेकर कयास लगाया जा रहा है कि वे राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में 2 से 18 साल के आयुवर्ग के बच्चों को वैक्सीन का डोज देने को लेकर कोई बड़ा ऐलान कर सकते हैं.

बता दें कि गुरुवार 21 अक्टूबर 2021 को 100 करोड़ से अधिक कोरोना डोज देकर भारत ने टीकाकरण अभियान में एक नया इतिहास रच दिया है. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के चिकित्सकों, चिकित्साकर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स, शोधकर्ताओं, वैज्ञानिकों और दवा निर्माता कंपनियों को बधाई और धन्यवाद ज्ञापित किया.

25 फीसदी आबादी ने नहीं लगाई है एक भी खुराक

शुक्रवार की सुबह 10 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन को लेकर मीडिया में इस बात को लेकर कयास लगाया जा रहा है कि दिवाली का त्योहार आने वाला है और देश की करीब 25 फीसदी आबादी ने अभी तक कोरोना की एक भी खुराक नहीं लगवाई है. ऐसे में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन लोगों से वैक्सीन लगवाने की अपील कर सकते हैं, जिन लोगों ने अभी तक इसकी एक भी खुराक नहीं लगवाई है.

बच्चों के वैक्सीनेशन पर कर सकते हैं बड़ा ऐलान

इसके साथ ही, अटकलें यह भी लगाई जा रही हैं कि देश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में गिरावट तो आई है, लेकिन तीसरी लहर का खतरा अब भी बना हुआ है. वैज्ञानिकों ने पहले ही इस बात की आशंका जाहिर कर दी है कि तीसरी लहर के दौरान बच्चे सबसे अधिक संक्रमित हो सकते हैं. हालांकि, 2 से 18 साल आयुवर्ग के बच्चों को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए देश की कई दवा निर्माता कंपनियों ने वैक्सीन तैयार कर ली है और उसमें से एकाध को इमरजेंसी यूज की मंजूरी भी मिल गई है. ऐसे में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बच्चों के टीकाकरण को लेकर भी कोई बड़ा ऐलान कर सकते हैं.

कोरोना वैक्सीनेशन में भारत आगे केवल चीन

गौरतलब है कि कोरोना टीकाकरण के मामले में भारत से आगे केवल चीन है. भारत ने अपने यहां करीब 100 करोड़ से अधिक डोज लगा दिए हैं, जबकि चीन में 222 करोड़ से अधिक कोरोना डोज लगाई जा चुकी है. चीन और भारत के बाद अमेरिका तीसरे नंबर पर आता है और उसके बाद जापान, ब्राजील और जर्मनी आते हैं.

नोटबंदी हो या लॉकडाउन... चौंकाते रहे हैं मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में चौकाने वाले फैसले जनता को बताने के लिए जाने जाते हैं. 2016 में 8 नवंबर को उन्होंने नोटबंदी की घोषणा राष्ट्र के नाम संबोधन में ही की थी. इसके बाद 2020 में उन्होंने देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान भी ऐसे ही एक संबोधन में किया था.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें