1. home Hindi News
  2. national
  3. pm modi wore a turban in the ncc program after uttarakhandi cap and manipuri gamcha vwt

Narendra Modi New Look: पीएम मोदी एनसीसी कार्यक्रम में पहनी पंजाबी पगड़ी और काला चश्मा, खूब हो रही चर्चा

नई दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में आयोजित एनसीसी की रैली में प्रधानमंत्री मोदी ने गार्ड ऑफ ऑनर का निरीक्षण किया. इसके साथ ही, उन्होंने एनसीसी टुकड़ियों के मार्च पास्ट की समीक्षा भी की. इसी दौरान उन्हें पंजाबी पगड़ी और काला चश्मा पहने देखा गया.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Narendra Modi New Look
Narendra Modi New Look
फोटो : ट्विटर

नई दिल्ली : 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के राजपथ और राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में उत्तराखंडी टोपी और मणिपुरी गमछे में नजर आए थे. उसके बाद आज यानी शुक्रवार को दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में आयोजित राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) की रैली में प्रधानमंत्री मोदी पंजाबी पगड़ी और काले चश्मे पहने हुए दिखाई दिए, जिसकी सोशल मीडिया पर चर्चा खूब हो रही है.

नई दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में आयोजित एनसीसी की रैली में प्रधानमंत्री मोदी ने गार्ड ऑफ ऑनर का निरीक्षण किया. इसके साथ ही, उन्होंने एनसीसी टुकड़ियों के मार्च पास्ट की समीक्षा भी की. इसी दौरान उन्हें पंजाबी पगड़ी और काला चश्मा पहने देखा गया.

इस दौरान एनसीसी के कैडेट्स को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस समय देश अपनी आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा है और जब एक युवा देश, इस तरह के किसी ऐतिहासिक अवसर का साक्षी बनता है, तो उसके उत्सव में एक अलग ही उत्साह दिखता है. यही उत्साह मैं अभी करियप्पा ग्राउंड में देख रहा हूं.

उन्होंने कहा, 'मुझे गर्व है कि मैं भी कभी आपकी तरह ही एनसीसी का सक्रिय कैडेट रहा हूं. मुझे एनसीसी में जो ट्रेनिंग मिली, जो जानने सीखने को मिला, आज देश के प्रति अपनी जिम्मेदारियों के निर्वहन में मुझे उससे असीम ताकत मिलती है.'

पीएम मोदी ने कहा कि अब देश की बेटियां सैनिक स्कूलों में एड्मिशन ले रही हैं. सेना में महिलाओं को बड़ी जिम्मेदारियां मिल रही हैं. एयरफोर्स में देश की बेटियां फाइटर प्लेन उड़ा रही हैं. ऐसे में हमारा प्रयास होना चाहिए कि एनसीसी में भी ज्यादा से ज्यादा बेटियाँ शामिल हों.

उन्होंने कहा कि आज इस समय जितने भी युवक-युवतियां एनसीसी में हैं, एनएसएस में हैं, उसमें से ज्यादातर इस शताब्दी में ही पैदा हुए हैं. आपको ही भारत को 2047 तक लेकर जाना है. इसलिए आपकी कोशिशें, आपके संकल्प, उन संकल्पों की सिद्धि, भारत की सिद्धि होगी, भारत की सफलता होगी.

उन्होंने कहा कि जिस स्कूल-कॉलेज में एनसीसी हो, एनएसएस हो, वहां पर ड्रग्स कैसे पहुंच सकती है. आप कैडेट के तौर पर खुद ड्रग्स से मुक्त रहें और साथ ही साथ अपने कैंपस को भी ड्रग्स से मुक्त रखें. आपके साथी, जो एनसीसी-एनएसएस में नहीं हैं, उन्हें भी इस बुरी आदत को छोड़ने में मदद करिए.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें