1. home Home
  2. national
  3. kisan andolan live updates today in hindi tikri singhu ghazipur borders amh

Kisan Andolan: टीकरी सीमा से घर लौट रहे पंजाब के दो किसानों की हिसार में मौत

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Kisan Andolan Updates
Kisan Andolan Updates
pti
मुख्य बातें

Kisan Andolan: किसान अपने-अपने घरों को लौट गये हैं. जगह-जगह रास्ते में उनका स्वागत किया गया. पंजाब सरकार ने आंदोलन में मारे गये 11 किसानों के परिजनों को नौकरी दी. ताजा अपडेट के लिए बनें रहें हमारे साथ...

लाइव अपडेट
email
TwitterFacebookemailemail

किसानों के घर लौटते ही सिंघू बॉर्डर पर कबाड़ियों की चांदी

एक वर्ष के लंबे प्रदर्शन के बाद शनिवार को प्रदर्शनकारी किसानों के घर लौटने के बाद सिंघू बॉर्डर पर कबाड़ी बांस के खंभे, तिरपाल, प्लास्टिक और लकड़ियां इकट्ठा करने में व्यस्त दिखे. सोनीपत के कुंडली में सिंघू बॉर्डर पर हरियाणा की तरफ करीब पांच किलोमीटर लंबी सड़क किसानों का धरना स्थल थी, जिन्होंने वहां अस्थायी ढांचे खड़े कर रखे थे. इनमें प्रसाधन कक्ष और रसोई घर सहित आवास सुविधा भी थी.

email
TwitterFacebookemailemail

किसानों पर विमान से हुई पुष्पवर्षा, NRI ने की जहाज की व्यवस्था

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों के सिंघू बॉर्डर (पंजाब-हरियाणा सीमा) छोड़ने से पहले उन पर हवाई जहाज से फूलों की बारिश की गयी. इसके लिए एक एनआरआई ने जहाज की व्यवस्था की थी.

email
TwitterFacebookemailemail

दिल्ली-उत्तर प्रदेश बॉर्डर खाली करने से पहले किसानों ने की अरदास

दिल्ली-उत्तर प्रदेश सीमा को खाली करने से पहले किसानों ने गाजीपुर में प्रदर्शन स्थल पर ‘अरदास’ की.

email
TwitterFacebookemailemail

टीकरी सीमा से घर लौट रहे पंजाब के दो किसानों की हिसार में मौत

हरियाणा के हिसार जिले में एक ट्रक और ट्रैक्टर ट्रॉली के बीच टक्कर में ट्रॉली सवार कम से कम दो किसानों की मौत हो गयी. किसान आंदोलन की समाप्ति की घोषणा के बाद दिल्ली की टीकरी सीमा से ये लोग वापस अपने घर लौट रहे थे. पुलिस ने बताया कि इस हादसे में एक किसान गंभीर रूप से घायल हो गया. घटना हिसार जिले के धंदूर गांव में हुई. किसान पंजाब के मुक्तसर जिले के रहने वाले थे और किसान आंदोलन की समाप्ति के बाद अपने घर लौट रहे थे.

email
TwitterFacebookemailemail

अरविंद केजरीवाल का ट्वीट

किसानों की घर वापसी पर अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया है. उन्होंने कहा है कि उनकी दृढ़ इच्छाशक्ति और जीवटता को मेरा सलाम...

email
TwitterFacebookemailemail

किसानों की घर वापसी के कारण सड़कों पर भीड़, दिल्ली-सोनीपत-करनाल हाईवे पर ट्रैफिक जाम

आंदोलन की समाप्ति के बाद किसान अपने घर की ओर कूच कर रहे हैं. इस कारण दिल्ली-सोनीपत-करनाल राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) पर शनिवार को भीड़ बढ़ गई जिसका असर ट्रैफिक पर नजर आ रहा है. आपको बता दें कि किसान आज से ट्रैक्टरों और अन्य वाहनों के काफिले से अपने गृह राज्यों पंजाब और हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ओर लौट रहे हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

किसानों की रवानगी जारी

बॉर्डर से किसानों की रवानगी जारी है. इसको लेकर कई वीडियो आ रहे हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

भावनाएं उत्साह बनकर उमड़ रही है

एक सफल आंदोलन के बाद पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश सहित विभिन्न राज्यों में किसानों के अपने घरों के लिए रवाना होने के साथ ही भावनाएं उत्साह बनकर उमड़ने लगीं. रंग-बिरंगी रोशनी से सजे ट्रैक्टर जीत के गीत गाते हुए विरोध स्थलों से निकल रहे हैं और रंगीन पगड़ियां बांधे बुजुर्ग युवाओं के साथ नृत्य करते नजर आ रहे हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

किसानों ने विजय मार्च निकाला

किसानों ने सिंघू, टिकरी और गाजीपुर सीमाओं पर राजमार्गों पर नाकेबंदी हटा दी और तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करने और फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानूनी गारंटी के लिए एक समिति गठित करने सहित उनकी अन्य मांगों को पूरा करने के लिए केंद्र के लिखित आश्वासन का जश्न मनाने के लिए एक 'विजय मार्च' निकाला.

email
TwitterFacebookemailemail

साल भर के आंदोलन के बाद घर लौटने लगे किसान

ट्रैक्टरों के बड़े-बड़े काफिलों के साथ पिछले साल नवंबर में दिल्ली की सीमाओं पर पहुंचे आंदोलनरत किसानों ने शनिवार की सुबह अपने-अपने गृह राज्यों की तरफ लौटना शुरू कर दिया. साल भर से ज्यादा वक्त तक अपने घरों से दूर डेरा डाले हुए ये किसान अपने साथ जीत की खुशी और सफल प्रदर्शन की यादें लेकर लौट रहे हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

हम 15 दिसंबर को घर जाएंगे वापस : राकेश टिकैत

गाज़ीपुर बॉर्डर से भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि आज से किसान अपने-अपने घर जा रहे हैं लेकिन हम 15 दिसंबर को घर जाएंगे क्योंकि देश में हज़ारों धरने चल रहे हैं, हम पहले उन्हें समाप्त करवाएंगे और उन्हें घर वापस भेजेंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

‘बोले सो निहाल' का नारा

युवा और बुजुर्गों ने पिछले एक साल में दिल्ली-करनाल सड़क के लंबे धूल भरे खंड पर बनाए गए मजबूत अस्थायी ढांचे को तोड़ने के लिए एक साथ मिलकर काम किया. जोश पैदा करने के लिए वे लगातार ‘बोले सो निहाल' का नारा लगा रहे थे.

email
TwitterFacebookemailemail

नेता राकेश टिकैत ने कहा

गाजीपुर बॉर्डर पर बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों का एक बड़ा समूह कल सुबह 8 बजे इलाके को खाली कर देगा. आज की बैठक में, हम बात करेंगे, प्रार्थना करेंगे और उन लोगों से मिलेंगे जिन्होंने हमारी मदद की है. किसानों ने इलाके को खाली करना शुरू कर दिया है. पूरी प्रक्रिया में 4-5 दिन लगेंगे. उन्होंने कहा कि मैं 15 दिसंबर को यहां से निकलूंगा.

email
TwitterFacebookemailemail

किसानों का जश्‍न

किसान बॉर्डर पर जश्‍न मना रहे हैं. टिकरी बॉर्डर से यह वीडियो सामने आया है.

email
TwitterFacebookemailemail

भारी यातायात जाम

शुक्रवार को बड़ी संख्या में ट्रैक्टरों के रवाना होने से भारी यातायात जाम लग गया. इसी तरह प्रदर्शन की शुरुआत में तब लंबा जाम लग गया था जब विभिन्न राज्यों से प्रदर्शनकारियों ने यहां के लिए कूच किया था.

email
TwitterFacebookemailemail

बरनाला के हरजोत सिंह ने कहा

पंजाब के बरनाला के हरजोत सिंह ने कहा कि जिन लोगों के पास थोड़ा सामान था, वे बृहस्पतिवार शाम को घर के लिए रवाना हो गए. कुछ शुक्रवार को गये. जिन्होंने बड़े तंबू लगाए थे और जिनके पास ज्यादा सामान है, वे शनिवार को जाएंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

किसान आज घर जाएंगे

किसान संघों की संस्था संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने गुरुवार को प्रदर्शन खत्म करने की घोषणा की थी. केंद्र के कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर एक साल पहले उन्होंने विरोध प्रदर्शन शुरू किया था. सरकार द्वारा विवादास्पद कानूनों को वापस लेने के हफ्तों बाद किसान आज घर जाएंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

तंबू उखाड़नेे शुरू  

कुछ रंगबिरंगी रोशनी से जगमग ट्रैक्टर प्रदर्शन स्थल से शुक्रवार को रवाना हुए. इनमें जीत का जश्न मनाने वाले गीत बज रहे थे. बुजुर्गों ने रंगबिरंगी पगड़ियां पहनी और युवाओं के साथ नाचे. किसानों के इस प्रदर्शन स्थल पर शुक्रवार को सीढ़ी, तिरपाल, डंडे और रस्सियां बिखरी पड़ी थीं क्योंकि कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन खत्म होने के बाद किसानों ने अपने तंबू उखाड़ लिए, अपना सामान बांध कर उन्हें ट्रकों पर लादना शुरू कर दिया है.

email
TwitterFacebookemailemail

सिंघू बॉर्डर पर किसानों ने तंबू उखाड़ने शुरू किए

तीनों कृषि कानून केंद्र सरकार द्वारा वापस लिये जानें के बाद किसानों के प्रदर्शन स्थल में से एक सिंघू बॉर्डर का बड़ा हिस्सा शुक्रवार को खाली हो गया. बड़ी संख्या में किसान अपना सामान बांधकर ट्रैक्टरों पर घरों की ओर रवाना हो गए जबकि अन्य लोग अपने तंबुओं को उखाड़ने के काम में घंटों लगे रहे, जो उन्होंने प्रदर्शन शुरू होने पर पिछले साल लगाए थे.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें