1. home Home
  2. national
  3. india covid19 task force chairman dr nk arora says comprehensive policy on additional and booster doses for corona virus made public in the next 2 weeks by the ntagi smb

भारत में कोरोना वैक्सीन के बूस्टर डोज पर जल्द फैसला, NTAGI के चेयरमैन बोले- 2 हफ्ते में सार्वजनिक होगी पॉलिसी

Booster Doses for COVID 19 कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के चलते बढ़ी चिंताओं के बीच केंद्र सरकार जल्द ही कोविड वैक्‍सीन की बूस्‍टर डोज के लिए जल्द पॉलिसी लाने वाली है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Dr. N K Arora, India COVID19 Task Force Chairman
Dr. N K Arora, India COVID19 Task Force Chairman
twitter

Booster Doses for COVID 19 कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के चलते बढ़ी चिंताओं के बीच केंद्र सरकार जल्द ही कोविड वैक्‍सीन की बूस्‍टर डोज के लिए जल्द पॉलिसी लाने वाली है. भारत में कोविड-19 टास्क फोर्स के अध्यक्ष डॉ एनके अरोड़ा ने सोमवार को इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि कोविड वैक्सीन के बूस्टर डोज के अलावा एडिशनल खुराक पर एक व्यापक नीति की घोषणा दो सप्ताह में की जाएगी.

डॉ एनके अरोड़ा ने कहा कि नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑन इम्यूनाइजेशन (NTAGI) अगले 2 हफ्तों में बूस्टर और अतिरिक्त खुराक पर एक व्यापक नीति लेकर आ रहा है. नीति के जरिए ये तय किया जाएगा कि किसे, कब और कैसे टीके की जरूरत होगी. वहीं, बच्चों के टीकाकरण के मुद्दे पर डॉ एनके अरोड़ा ने कहा, जैसा कि मैं बार-बार कह रहा हूं कि बच्चे हमारी सबसे महत्वपूर्ण संपत्ति हैं और हमने 18 साल से कम उम्र के अपने 44 करोड़ बच्चों के टीकाकरण के लिए एक व्यापक योजना विकसित की है. एक प्राथमिकता प्रक्रिया भी बनाई जा रही है, ताकि को-मोरबिटीज वाले बच्चों को प्राथमिकता दी जा सके और स्वस्थ बच्चों का टीकाकरण किया जा सके.

बता दें कि दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना के नए वेरिएंट के बाद भारत में भी चिंता काफी बढ़ गई है. जिसके बाद बूस्टर खुराक की चर्चा शुरू हो गई है. पिछले दिनों दिल्ली एम्स में कोविड टास्क फोर्स के अध्यक्ष डॉ नवनीत ने कहा था कि लोगों की उम्र और अलग-अलग तरह के रोगियों के आधार पर स्टडी शुरू की जानी चाहिए. दरअसल, कोरोना का नया वेरिएंट पहले से ज्यादा खतरनाक बताया जा रहा है. इसी के मद्देनजर देश में बूस्टर खुराक पर चर्चा तेज हो गई है. वहीं बच्चों के वैक्सीनेशन पर भी चर्चा जोरों पर है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें