1. home Hindi News
  2. national
  3. facebook row latest updates bjp congress hate speech controversy facebook has banned bjp mla t raja singh amh

Facebook Ban : दबाव के बाद 'हेट स्पीच' को लेकर फेसबुक की बड़ी कार्रवाई, भाजपा विधायक टी राजा बैन

By Agency
Updated Date
twitter

हेट स्पीच (घृणा भरे भाषण) को लेकर विवादों में घिरी फेसबुक ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक टी राजा सिंह के अकाउंट को बैन कर दिया है. जानकारी के अनुसार हेट स्पीच से निपटने के तौर-तरीकों को ले कर आलोचनाओं का सामना कर रही फेसबुक ने हिंसा और नफरत को बढ़ावा देने वाली सामग्री से जुड़ी अपनी नीतियों का उल्लंघन करने के मामले भाजपा नेता टी. राजा सिंह को अपने मंच और ‘इंस्टाग्राम' पर प्रतिबंधित कर दिया है.

फेसबुक के एक प्रवक्ता ने ईमेल के जरिए जारी किए एक मेल में कहा कि हमारी नीति हिंसा को बढ़ावा देने या हिंसा में संलग्न होने वालों की हमारे मंचों पर उपस्थिति प्रतिबंधित करने की हमारी नीति रही है और इसका उल्लंघन करने पर हमने राजा सिंह को फेसबुक पर प्रतिबंधित कर दिया है.

बयान के अनुसार संभावित उल्लंघनों का मूल्यांकन करने की प्रक्रिया व्यापक है और इसके जरिए फेसबुक ने भाजपा नेता का अकाउंट हटाने का निर्णय किया. गौरतलब है कि हाल ही में ‘बीबीसी', ‘वॉल स्ट्रीट जर्नल', ‘रॉयटर्स ' और ‘टाइम मैगजीन' ने खबरें प्रकाशित की थीं, जिनमें दावा किया गया था कि फेसबुक की भारतीय इकाई के कुछ पदाधिकारियों ने भाजपा को फायदा पहुंचाया है. इसके बाद से फेसबुक सवालों के घेरे में है.

भारत में 30 करोड़ से अधिक लोग फेसबुक का इस्तेमाल करते हैं. वहीं, सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग को पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि फेसबुक के कर्मचारी चुनावों में लगातार हार का सामना करने वाले लोगों तथा प्रधानमंत्री और वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों को ‘‘गाली'' देने वालों का समर्थन कर रहे हैं.

कंपनी के भारत प्रमुख से पूछताछ : इधर, फेसबुक के कथित पक्षपात को लेकर पैदा हुए विवाद के बीच इस सोशल मीडिया मंच के भारत प्रमुख अजीत मोहन से बुधवार को एक संसदीय समिति ने करीब दो घंटे तक पूछताछ की. समिति में भाजपा और कांग्रेस के सदस्यों ने फेसबुक पर सांठगांठ करने और विचारों को प्रभावित करने का आरोप लगाया, जिसका कंपनी ने खंडन किया. भाजपा के सदस्यों ने फेसबुक के कर्मचारियों के कथित राजनीतिक संबंधों को लेकर सवाल उठाए और दावा किया कि कंपनी के कई वरिष्ठ अधिकारी कांग्रेस और उसके नेताओं के लिए अलग अलग तरीकों से काम कर चुके हैं, जबकि विपक्षी सदस्यों ने पूछा कि घृणा भाषण वाले वीडियो और सामग्री अब भी ऑनलाइन उपलब्ध क्यों है ? तथा सोशल मीडिया कंपनी ने इन्हें हटाया क्यों नहीं ? सूत्रों ने बताया कि मोहन से समिति के सत्तारूढ़ और विपक्षी सदस्यों ने पूछताछ की. मोहन ने कुछ सवालों का मौखिक जवाब दिया, जबकि उन्हें तकरीबन 90 सवाल दिए गए हैं जिनका जवाब उन्हें लिखित में देना है.

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें