1. home Hindi News
  2. national
  3. coronavirus second wave is still not over central government warns those who do not follow the covid 19 protocol aml

कोरोना की दूसरी लहर अब भी खत्म नहीं हुई, केंद्र सरकार ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने वालों को चेताया

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
मुंबई के कोरोना जांच केंद्र पर सैंपल लेता एक स्वास्थ्यकर्मी.
मुंबई के कोरोना जांच केंद्र पर सैंपल लेता एक स्वास्थ्यकर्मी.
PTI

India Corona Update नयी दिल्ली : पिछले सप्ताह देश में आए कोरोना संक्रमण (Coronavirus Pandemic) के कुल नये मामलों में आधे मामले महाराष्ट्र (Maharashtra) और केरल (Kerala) से आए हैं. यह जानकारी केंद्र ने शुक्रवार को दी, केंद्र ने जोर देकर कहा कि महामारी (Pandemic) खत्म नहीं हुई है और नहीं कर रहे हैं. यह चिंता का गंभीर कारण है. ऐसे में लोग खुद की कोरोना को आमंत्रित कर रहे हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार सरकार ने राज्यों को भी चेतावनी दी है.

सरकार ने कोविड-उपयुक्त व्यवहार और सामाजिक दूरी का पालन नहीं करने वाले लोगों के साथ भीड़-भाड़ वाले स्थानों के नजारों पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि इस तरह की किसी भी लापरवाही से संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में, स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि देश अभी भी दूसरी लहर से निपट रहा है और हमें आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है कि क्या हम इस गलत धारणा को बर्दाश्त कर सकते हैं कि कोविड-19 खत्म हो गया है.

भीड़-भाड़ वाली जगहों पर कोविड-19 के नियमों का पालन नहीं करने पर चिंता व्यक्त करते हुए पीएम मोदी ने भी गुरुवार को कहा कि लापरवाही के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए और एक भी गलती का दूरगामी प्रभाव पड़ेगा और इससे महामारी के खिलाफ लड़ाई कमजोर हो सकती है. बता दें कि भारत में नये कोविड के लगभग 80 फीसदी मामले 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 90 जिलों से सामने आ रहे हैं.

अग्रवाल ने कहा कि ये जिले महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडु, ओड़िशा, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक शामिल हैं, जो इन क्षेत्रों में ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह कुल मामलों में से 53 फीसदी मुख्य रूप से दो राज्यों - महाराष्ट्र (21 फीसद) और केरल (32 फीसद) से सामने आए हैं, जो चिंता का विषय है. उन्होंने कहा कि हम गहन रोकथाम उपायों के माध्यम से संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए राज्यों के साथ समन्वय स्थापित कर रहे हैं.

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वी के पॉल ने कहा कि मामलों में कमी पहले तेज थी, लेकिन अब यह गति कम हो गई है, जो दर्शाता है कि किसी को भी स्थिति को हल्के में नहीं लेना चाहिए. डॉ पॉल ने कहा कि अब दर्ज किये जा रहे मामलों की संख्या अभी भी एक तिहाई है जो पहले चरम पर थी. इसका एहसास हमें भी हो गया है. लड़ाई खत्म नहीं हुई है, दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है. यह कुछ जिलों और दो विशेष राज्यों और पूर्वोत्तर में छोटे राज्यों में अधिक दिखाई दे रहा है और जब तक यह बढ़ रहा है, देश सुरक्षित नहीं है.

Posted By: Amlesh Nandan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें