1. home Hindi News
  2. national
  3. amit shah in puducherry says to understand the soul of india then listen read sri aurobindo smb

Amit Shah in Puducherry: अमित शाह बोले- भारत की आत्मा को समझने के लिए श्री अरबिंदो को पढ़ें और सुनें

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पुडुचेरी में रविवार को श्री अरबिंदो की 150वीं जयंती समारोह के अवसर पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि अगर आप भारत की आत्मा को समझना चाहते हैं, तो आपको श्री अरबिंदो को सुनना और पढ़ना चाहिए.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Amit Shah in Puducherry: अमित शाह बोले- श्री अरबिंदो को सुनना और पढ़ना चाहिए.
Amit Shah in Puducherry: अमित शाह बोले- श्री अरबिंदो को सुनना और पढ़ना चाहिए.
ट्वीटर

Amit Shah in Puducherry: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पुडुचेरी में रविवार को श्री अरबिंदो की 150वीं जयंती समारोह के अवसर पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि अगर आप भारत की आत्मा को समझना चाहते हैं, तो आपको श्री अरबिंदो को सुनना और पढ़ना चाहिए. गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी और द्वारका से लेकर बंगाल तक, कहीं न कहीं यही संस्कृति हम सबको बांधती है.

श्री अरबिंदो के सपनों का भारत बनाने का प्रयास जारी

गृह मंत्री अमित शाह ने आगे कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हम स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में श्री अरबिंदो के सपनों का भारत बनाने का प्रयास कर रहे हैं. जब तक हम श्री अरविंदो के विचारों को नई पीढ़ी तक नहीं पहुंचाते, उनके मन में जानने की जिज्ञासा नहीं पैदा करते, तब तक श्री अरविंदो की 150वीं जयंती मनाने का उद्देश्य पूरा नहीं हो सकता.

महाकवि सुब्रह्मण्य भारती देशभक्ति के प्रतीक हैं : अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि पुडुचेरी में महाकवि भारथियार स्मारक संग्रहालय का दौरा करना सौभाग्य की बात है. सुब्रमण्य भारती देशभक्ति, एकता और सामाजिक सुधारों के प्रतीक हैं. उनके देशभक्ति गीतों ने अनगिनत लोगों को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रेरित किया. उनके विचार हम सभी को प्रेरित करते रहते हैं. इससे पहले अमित शाह ने ट्वीट किया, पुडुचेरी में अरबिंदो आश्रम का दौरा किया. श्री अरबिंदो एक महान बौद्धिक और आध्यात्मिक दिग्गज थे. उन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में स्थायी योगदान दिया. श्री अरबिंदो के कार्य और विचार सभी के लिए प्रासंगिक हैं और वे हमारे मार्गदर्शक प्रकाश बने हुए हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें