कर्नाटक : विवादित बयान देने वाले कांग्रेस विधायक को कारण बताओ नोटिस

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

बेंगलुरु : कर्नाटक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं विधायक रोशन बेग ने एक्जिट पोल में दिखाये जा रहे पार्टी के प्रदर्शन को आधार बना कर पार्टी के खराब प्रदर्शन का ठीकरा मंगलवार को राज्य इकाई के प्रमुख पर फोड़ा और एआईसीसी महासचिव केसी वेणुगोपाल को मसखरा बताया, जिसके बाद पार्टी ने उन्हें कारण बताओे नोटिस थमा दिया है.

बेग ने पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने हिंदू समाज को बांटा है क्योंकि उन्होंने लिंगायत समाज को अलग धर्म का दर्जा देने का प्रयास किया और वोक्कालिंगा समुदाय को अपने कार्यकाल में अपशब्द कहे. बेग ने मुसलमानों से कहा वे हालात से समझौता करें (भाजपा नीत संप्रग की सत्ता में) और मवेशियों की तरह न रहें जिसे वोट बैंक के लिए हांका जाता है. उनकी इन टिप्पणियों से कांग्रेस की कर्नाटक इकाई को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा है और उसने बेग की टिप्पणी पर कड़ा रुख दिखाते हुए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया है. नोटिस में कहा गया है कि बेग के बयानों को पार्टी विरोधी गतिविधि के रूप में काफी गंभीरता से लिया जा रहा है. बेग से एक सप्ताह के भीतर यह बताने के लिए कहा गया है कि उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई क्यों न की जाये.

राज्य कांग्रेस के महासचिव वीवाई घोरपड़े द्वारा हस्ताक्षर किये गये नोटिस में कहा गया है, जवाब नहीं देने पर आपके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जायेगी. कर्नाटक में सत्तारूढ़ जदएस के अध्यक्ष एएच विश्वनाथ ने बेग की नाराजगी का स्वागत करते हुए कहा कि उनकी टिप्पणियां सत्य हैं और वास्तविक हैं. उन्होंने बेग का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि उन्होंने जो कहा है उसमें कुछ गलत नहीं है. भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा ने इस मामले पर टिप्पणी करते हुये कहा कि बेग की नाराजगी से राज्य की राजनीति को नयी दिशा मिल सकती है. भाजपा उन सभी का स्वागत करती है जो भगवा दल की विचारधारा का समर्थन करते हैं. उन्होंने कहा कि सत्य को और वास्तविक घटनाओं को छिपाया नहीं जा सकता है.

बेग ने कहा था कि वेणुगोपाल जैसे मसखरे और सिद्धारमैया जैसी मनोवृत्ति और कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव के फ्लाॅप शो और इसका परिणाम (लोकसभा एक्जिट पोल) यह है. बेग की नाराजगी की वजह मुसलमानों को टिकट देने की कांग्रेस की नीति को भी माना जा रहा है. कांग्रेस ने मौजूदा लोकसभा चुनाव में केवल एक मुसलमान रिजवान अरशद को ही टिकट दिया था, जबकि इस समुदाय को तीन सीटें देने की मांग की जा रही थी. कांग्रेस को छोड़ने के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि इस बारे में उन्होंने कोई फैसला नहीं किया है. राव ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अभी परिणाम नहीं आये हैं पर वे बयानबाजी कर रहे हैं. बेग इससे पहले राज्य मंत्रिमंडल में कांग्रेस के कोटे के मंत्रियों में शामिल न किये जाने पर भी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें