17.1 C
Ranchi
Tuesday, March 5, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

नींद न आने की वजह से हैं परेशान? ये योगा के आसन कर सकते हैं आपकी मदद, करें ट्राई

अगर आप भी नींद न आने की समस्या से जूझ रहे हैं तो यह स्टोरी आपके लिए बहुत ही ज्यादा काम की साबित होने वाली है. आज हम आपको कुछ ऐसे योगा के आसनों के बारे में बताने वाले हैं जिन्हे आप सोने से पहले एक बार जरूर ट्राई कर सकते हैं.

Yoga For Insomnia and Sleep Disorders: भारतीय संस्कृति में योग का महत्व बहुत ही ज्यादा है. यहां आपको हर घर- परिवार में लोग योगा करते हुए दिखाई दे जाते हैं. वैसे तो योग के कई तरह के फायदे हैं जिनकी वजह से आपका शरीर लंबे समय तक स्वस्थ तो रहता ही है और साथ ही योग की मदद से आ कई तरह की शारीरिक समस्याओं को भी दूर कर सकते हैं. आज की यह स्टोरी उन सभी लोगों के लिए काम की साबित होने वाली है जो कि रात में नींद न आने की वजह से परेशान हैं. आज हम आपको ऐसे योगासन के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें आपको सोने से पहले एक बार जरूर ट्राई करना चाहिए. एक अच्छी नींद और अनिद्रा से छुटकारा पाने में ये सभी आपकी काफी मदद कर सकते हैं. तो चलिए इन आसनों के बारे में विस्तार से जान लेते हैं.

विपरीत करणी योगासन

अपनी पीठ के बल लेटें और अपने पैरों को दीवार के सहारे ऊपर रखें, अपनी भुजाओं को अपने बगल में रखें. यह मुद्रा रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देती है, तंत्रिका तंत्र को आराम देती है और दिमाग पर इसके शांत प्रभाव के लिए जानी जाती है. यह अनिद्रा से जूझ रहे व्यक्तियों के लिए विशेष रूप से सहायक है.

Also Read: कन्फ्यूजन को करें दूर, जानें वाइट, ब्राउन, रेड और ब्लैक राइस में से हेल्थ के लिए कौन सा है बेस्ट

बालासन

चटाई पर घुटनों के बल बैठकर इस योगासन की शुरुआत करें, अपनी एड़ियों के बल बैठें और अपने माथे को जमीन पर टिकाते हुए अपनी भुजाओं को आगे की ओर फैलाएं. यह मुद्रा मन को शांत करने, तनाव से राहत देने और रीढ़ की हड्डी को धीरे से फैलाने में मदद करती है, जिससे बेहतर नींद के लिए अनुकूल आराम की भावना को बढ़ावा मिलता है.

सवासना

अपनी पीठ के बल सीधे लेट जाएं, अपनी बाहों को बगल में रखें और अपने हाथों को ऊपर की ओर रखें. अपनी आंखें बंद करें और अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करें. शवासन शरीर से तनाव दूर करने और मन को शांत करने में मदद करता है, जिससे आप आरामदायक नींद के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाते हैं.

पश्चिमोत्तानासन

अपने पैरों को अपने सामने फैलाकर बैठें और अपने पंजों तक पहुंचने के लिए अपने कूल्हों पर टिका लें. यह आगे की ओर झुकने से रीढ़ और हैमस्ट्रिंग में खिंचाव होता है, जिससे तंत्रिका तंत्र पर सुखदायक प्रभाव पड़ता है. यह तनाव और चिंता को कम करने के लिए फायदेमंद है.

Also Read: Tips and Tricks: चंद मिनटों में ऐसे साफ करें बारबेक्यू ग्रिल, ये हैं सबसे आसान तरीका

सुप्त बद्ध कोणासन

अपनी पीठ के बल लेटें, अपने पैरों के तलवों को एक साथ लाएं और अपने घुटनों को खुला रहने दें. यह मुद्रा कूल्हों और कमर को खोलती है, जिससे इन जगहों से तनाव दूर होता है. यह एक सौम्य मुद्रा है जो विश्राम को प्रोत्साहित करती है और नींद संबंधी विकार वाले व्यक्तियों के लिए फायदेमंद हो सकती है.

नाड़ीशोधन

आराम से बैठें और अपनी दाहिनी नासिका को बंद करने के लिए अपने दाहिने अंगूठे का इस्तेमाल करें. बायीं नासिका से श्वास लें, फिर इसे अपनी दाहिनी अनामिका से बंद करें. दाहिनी नासिका खोलें और उससे सांस छोड़ें. यह प्राणायाम तकनीक मस्तिष्क के बाएं और दाएं गोलार्धों को संतुलित करने, विश्राम और मानसिक स्पष्टता को बढ़ावा देने में मदद करती है.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें