1. home Hindi News
  2. life and style
  3. national unity day 2021 importance and history sardar vallabhbhai patel jayanti first home minister and deputy prime minister of independent india sry

National Unity Day: 31 अक्टूबर को मनाया जाता है राष्ट्रीय एकता दिवस, जानें इसका महत्व और इतिहास

राष्ट्रीय एकता दिवस या राष्ट्रीय एकता दिवस सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के रूप में मनाया जाता है. उन्होंने भारत को एक करने में अहम भूमिका निभाई. वह भारत के लौह पुरुष और भारत गणराज्य के संस्थापक नेताओं में से एक के रूप में भी प्रसिद्ध हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
National Unity Day 2021 importance and history
National Unity Day 2021 importance and history
Prabhat Khabar Graphics

भारत में, राष्ट्रीय एकता दिवस या राष्ट्रीय एकता दिवस 2014 से हर साल 31 अक्टूबर को भारत के लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के उपलक्ष्य में मनाया जाता . इस वर्ष उस महान नेता की 146वीं वर्षगांठ है, जिन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में और बाद में देश के एकीकरण के दौरान महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. सरदार वल्लभ भाई ने 565 रियासतों का विलय कर भारत को एक राष्ट्र बनाया था. यही कारण है कि वल्लभ भाई पटेल की जयंती के मौके पर राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है.

राष्ट्रीय एकता दिवस: महत्व

गृह मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, यह दिन "हमारे देश की एकता, अखंडता और सुरक्षा के लिए वास्तविक और संभावित खतरों का सामना करने के लिए हमारे राष्ट्र की अंतर्निहित ताकत और लचीलापन की फिर से पुष्टि करने का अवसर प्रदान करता है".

भारत एक विविध राष्ट्र है इसलिए एकता बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण है. भारत सरकार ने भारत के लौह पुरुष की स्मृति में गुजरात में नर्मदा नदी के पास सरदार वल्लभ भाई पटेल की एक विशाल प्रतिमा का निर्माण किया है.

राष्ट्रीय एकता दिवस: इसका इतिहास

सरदार वल्लभभाई पटेल की स्मृति में, भारत सरकार ने गुजरात में नर्मदा नदी के पास भारत के लौह पुरुष की एक विशाल मूर्ति का निर्माण किया है. साथ ही, स्वतंत्र भारत के प्रथम उप प्रधानमंत्री सरदार पटेल के संघर्षों और बलिदानों को याद रखते हुए भारत सरकार ने उनकी जयंती पर राष्ट्रीय एकता दिवस की घोषणा की थी. इस दिन, लोग सरदार पटेल के महान कार्यों को याद करते हैं और राष्ट्रीय एकता दिवस मनाते हैं. देश के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न कार्यक्रम, वेबिनार और सेमिनार आयोजित किए जाते हैं.

आपको बता दें कि देश की आजादी के बाद पटेल पहले उपप्रधानमंत्री और गृह मंत्री बने थे. सरदार पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के नडियाद में हुआ था। सरदार पटेल जी का निधन 15 दिसंबर, 1950 को मुंबई (महाराष्ट्र) में हुआ था। साल 1991 में सरदार पटेल को मरणोपरान्त 'भारत रत्न' से सम्मानित किया गया था.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें