14.1 C
Ranchi
Sunday, February 25, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeबड़ी खबरकार्डियो या फिर वेट लिफ्टिंग, वजन घटाने के लिए कौन सा ऑप्शन है बेस्ट? यहां जानें

कार्डियो या फिर वेट लिफ्टिंग, वजन घटाने के लिए कौन सा ऑप्शन है बेस्ट? यहां जानें

अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो आपके लिए अपने बॉडी को एक्टिव रखना और उसे किसी तरह के फिजिकल एक्टिविटी में लगाए रखना काफी जरुरी है. आज इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं कि वजन घटाने के मामले में आपको कौन सा ऑप्शन चुनना चाहिए कार्डियो या फिर वेट लिफ्टिंग में से.

Cardio Vs Weight Lifting for Weight Loss: अगर आप भी अपना वजन घटाना चाहते हैं लेकिन, कन्फ्यूज हैं कि आपको कार्डियो या फिर वेट लिफ्टिंग में से कौन सा ऑप्शन चुनना चाहिए तो ऐसे में यह आर्टिकल आपकी काफी मदद कर सकता है. आज हम आपको इन दोनों में से आपके लिए कौन का बेहतर ऑप्शन है इस बात की जानकारी देने वाले हैं. तो चलिए डीटेल से जानते हैं.

वेट लॉस के लिए वर्कआउट जरुरी, लेकिन

वजन घटाने के लिए रेगुलर वर्कआउट जरुरी हैं क्योंकि वे कैलोरी बर्निंग के प्रोसेस को तेज करते हैं, केवल यहीं नहीं वर्कआउट फैट लोस को भीबढ़ावा देते हैं. केवल यहीं नहीं वर्कआउट आपके मेटाबोलिज्म फंक्शन में भी सुधार करता हैं. अगर आप नहीं जानते हैं तो बता दें एक्ससरसाइज कैलोरी डेफिसिट की स्थिति को पैदा करने में मदद करता है, जो अतिरिक्त वजन कम करने के लिए जरुरी है. इसके अतिरिक्त, वर्कआउट लीन मसल मास का निर्माण करता है, जो मेटाबोलिज्म को बढ़ावा देता है, जिससे आराम करने पर भी अधिक एफिसियेन्टली कैलोरी बर्न होती है. वर्कआउट जरुरी है लेकिन सही तरह का वर्कआउट न करने से वजन कम करने में मदद नहीं मिल सकती है. जब वजन घटाने की बात आती है, तो कार्डियो और वेटलिफ्टिंग के बीच बहस जारी रहती है. एक्ससरसाइज के दोनों रूप अद्वितीय लाभ प्रदान करते हैं और अलग-अलग तरीकों से वजन घटाने में आपकी मदद कर सकते हैं.

फैट लॉस के लिए कार्डियो एक्ससरसाइज जरुरी

कार्डियो जिसे कार्डियोवैस्कुलर एक्ससरसाइज के लिए शॉर्ट टर्म के लिए इस्तेमाल किया जाता है. इसमें, दौड़ना, साइकिल चलाना, तैराकी और तेज चलना जैसी एक्टिविटीज शामिल हैं. कार्डियो एक्सरसाइज कैलोरी बर्न करने के लिए बेहतरीन हैं. दौड़ने और साइकिल चलाने जैसी एक्टिविटीज अपेक्षाकृत कम समय में बड़ी संख्या में कैलोरी बर्न कर सकती हैं, जो उन्हें वजन घटाने के लिए इफेक्टिव बनाती हैं. हालांकि, समय के साथ, आपका शरीर कार्डियो एक्ससरसाइज के अनुकूल हो सकता है, जिसके वजह से वजन कम होने में रुकावट आती है. प्रोग्रेस देखना जारी रखने के लिए, अपने वर्कआउट में बदलाव करना, इंटेंसिटी बढ़ाना या एक्ससरसाइज के अन्य रूपों को शामिल करना जरुरी है.

Also Read: Benefits of Eating Papaya in Hindi: ग्लोइंग स्किन से लेकर शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिए फायदेमंद है पपीता
​कार्डियो अलग-अलग तरह के एक्ससरसाइज प्रदान करता है

कार्डियो आपके चुनने के लिए एक्टिविटीज की एक वाइड रेंज प्रोवाइड करता है, जिससे आप ऐसे एक्ससरसाइज ढूंढ सकते हैं जो आपकी प्रायोरिटी और फिटनेस लेवल के अनुरूप हों. चाहे वह पार्क में जॉगिंग करना हो, पूल में तैराकी करना हो, या स्थिर बाइक पर साइकिल चलाना हो, आपके वर्कआउट को दिलचस्प और आकर्षक बनाए रखने के लिए बहुत सारे ऑप्शंस हैं.

अधिक कार्डियो मसल लॉस का कारण

लंबे समय तक कार्डियो सेशन संभावित रूप से मसल लॉस का कारण बन सकता है, खासकर अगर स्ट्रेंथ ट्रेनिंग के साथ नहीं किया जा रहा हो तो. जबकि, कार्डियो मुख्य रूप से एनर्जी के लिए फैट स्टोर्स को टारगेट करता है, यह मसल टिश्यू को भी तोड़ सकता है, जो मेटाबोलिज्म और ओवरऑल स्ट्रेंथ में बाधा उत्पन्न कर सकता है.

लीन मसल मास बनाने के लिए वेट लिफ्टिंग जरुरी

वेट लिफ्टिंग, जिसे स्ट्रेंथ या रेजिस्टेंस ट्रेनिंग के रूप में भी जाना जाता है, इसमें मसल्स की ताकत और सहनशक्ति बनाने के लिए वजन या रेजिस्टेंस बैंड का इस्तेमाल करना शामिल है. जैसे-जैसे आप मसल्स को बढ़ाते हैं, आपके शरीर की रेस्टिंग मेटाबोलिज्म रेट (आराम के समय जली हुई कैलोरी की संख्या) भी बढ़ जाती है, जिससे वजन घटाने और लंबे समय तक वजन बनाए रखने में आसानी होती है.

Also Read: Pomegranate Benefits And Side Effects: यहां जानिए अनार के फायदे और नुकसान
वेटलिफ्टिंग एक आफ्टरबर्न इफ़ेक्ट पैदा करता है

वेटलिफ्टिंग के बाद, शरीर को आफ्टरबर्न इफ़ेक्ट महसूस होता है, जिसे अतिरिक्त एक्ससरसाइज के बाद ऑक्सीजन की खपत (ईपीओसी) के रूप में भी जाना जाता है, जहां वर्कआउट पूरा होने के बाद आपका शरीर हायर रेट पर कैलोरी बर्निंग जारी रखता है. यह घटना तब घटित होती है जब आपका शरीर मसल टिश्यू की मरम्मत और एनर्जी सोर्स को फिर से भरने के लिए काम करता है, जिससे अतिरिक्त कैलोरी खर्च करने में योगदान मिलता है.

आसान शब्दों में समझें तो

कार्डियो और वेटलिफ्टिंग दोनों यूनिक फायदे प्रदान करते हैं, और सबसे अच्छा ऑप्शन इंडिविजुअल फिटनेस टार्गेट्स और प्रयोरिटीज पर निर्भर करता है. दौड़ना, साइकिल चलाना और तैराकी जैसे हार्ट रिलेटेड एक्ससरसाइज हार्ट हेल्थ में सुधार, कैलोरी बर्न करने में और सहनशक्ति बढ़ाने के लिए उत्कृष्ट हैं. दूसरी ओर, वेटलिफ्टिंग या रेजिस्टेंस ट्रेनिंग मसल की ताकत बनाता है, मेटाबोलिज्म बढ़ाता है और शरीर की संरचना को बढ़ाता है. आदर्श रूप से, कार्डियो और वेटलिफ्टिंग दोनों के संयोजन को वर्कआउट रूटीन में शामिल करने से व्यापक फिटनेस फायदा मिलता है, जिसमें बेहतर हार्ट हेल्थ, मसल टोनिंग और ओवरऑल फिजिकल परफॉरमेंस शामिल है. कार्डियो और वेटलिफ्टिंग के बैलेंस को शामिल करने के लिए एक्ससरसाइज दिनचर्या को अनुकूलित करने से परिणाम अधिकतम होते हैं और ओवरऑल वेल-बींग को बढ़ावा मिलता है.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें