1. home Hindi News
  2. life and style
  3. captain abhilasha barak first female combat aviator of indian army know inspiring story in hindi tvi

कौन हैं Captain Abhilasha Barak? जानें देश की पहली महिला कॉम्बैट एविएटर की प्रेरक कहानी डिटेल में

26 वर्षीय कैप्टन अभिलाषा बराक भारतीय सेना में पहली महिला कॉम्बैट एविएटर (लड़ाकू पॉयलट) बनीं. 25 मई का वह दिन पूरे देश के लिए गर्व का क्षण था खास तौर पर महिलाओं के लिए 26 वर्षीय कैप्टन अभिलाषा ने एक और नई राह खोल दी है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Captain Abhilasha Barak
Captain Abhilasha Barak
Twitter

Captain Abhilasha Barak: हरियाणा की 26 वर्षीय कैप्टन अभिलाषा बराक (Captain Abhilasha Barak) भारतीय सेना में पहली महिला लड़ाकू पॉयलट बनीं. कैप्टन अभिलाषा ने हेलीकॉप्टर पायलट के रूप में आर्मी एविएशन कॉर्प्स में शामिल होने के लिए अपने छह महीने लंबे कॉम्बैट आर्मी एविएशन कोर्स को सफलतापूर्वक पूरा किया. कॉम्बैट आर्मी एविएशन ट्रेनिंग स्कूल, नासिक में आयोजित एक सम्मान समारोह के दौरान उन्हें डायरेक्टर जनरल और कर्नल कमांडेंट आर्मी एविएशन लेफ्टिनेंट जनरल ए के सूरी ने अन्य 36 आर्मी पायलटों के साथ सम्मानित किया. कैप्टन बराक को ध्रुव एडवांस्ड लाइट हेलीकॉप्टर (ALH) ऑपरेट करने वाली 2072 आर्मी एविएशन स्क्वाड्रन की सेकंड फ्लाइट के लिए असाइन किया गया है.

कैप्टन अभिलाषा के अनुसार- यह वह क्षण था जब महसूस हुआ कि क्या बनना चाहती हूं...

देश भर के विभिन्न सैन्य छावनियों में पली-बढ़ी कैप्टन अभिलाषा का रक्षा बलों में शामिल होना एक नैचुरल करियर ऑप्शन था. इंडियन आर्मी (Indian army) की ओर से शेयर किए गए इनहाउस इंटरव्यू में कैप्टन अभिलाषा ने कहा था कि 2011 में जब मेरे पिता रिटार्ड हुए और जब तक हमारा परिवार सैन्य जीवन से बाहर नहीं चला गया, तब तक मुझे इसका एहसास नहीं हुआ कि यह बिल्कुल अलग था. 2013 में भारतीय सैन्य अकादमी में मेरे बड़े भाई की पासिंग आउट परेड देखने के बाद यह भावना और मजबूत हुई. यही वह क्षण था जब मुझे पता चल गया कि मैं जीवन में क्या करना चाहती हूं. कैप्टन अभिलाषा के पिता कर्नल एस ओम सिंह (सेवानिवृत्त) हैं.

दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से बी टेक की पढ़ाई पूरी की

कैप्टन बराक द लॉरेंस स्कूल, सनावर की पूर्व छात्रा हैं. उन्होंने 2016 में दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग में बी टेक में स्नातक की पढ़ाई पूरी की. 2018 में, उन्हें ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी, चेन्नई से भारतीय सेना में शामिल किया गया था. कोर ऑफ आर्मी एयर डिफेंस के साथ उनके लगाव के दौरान, उन्हें राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा आर्मी एयर डिफेंस के लिए कलर्स की प्रस्तुति के लिए एक आकस्मिक कमांडर के रूप में चुना गया था. उन्होंने आर्मी एयर डिफेंस यंग ऑफिसर्स कोर्स में 'ए' ग्रेडिंग, एयर ट्रैफिक मैनेजमेंट और एयर लॉज कोर्स में 75.70 प्रतिशत हासिल किया और अपने पहले प्रयास में प्रमोशनल परीक्षा, पार्ट बी पास की.

2018 में ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी, चेन्नई से पूरी हुई ट्रेनिंग

अपने इंटरव्यू में अभिलाषा कहती हैं कि 2018 में ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी, चेन्नई से अपना प्रशिक्षण पूरा करने के बाद, मैंने आर्मी एविएशन कॉर्प्स को चुना. जब मैं फॉर्म भर रही थी, मुझे पता था कि मैं केवल ग्राउंड ड्यूटी के लिए योग्य हूं, लेकिन मुझे हमेशा से पता था कि वह दिन दूर नहीं जब भारतीय सेना महिलाओं को लड़ाकू पायलटों के रूप में शामिल करना शुरू करेगी. दो साल बाद, जब पायलटों के रूप में महिलाओं को शामिल करने की घोषणा की गई, तो कैप्टन बराक का यह सपना पूरा हो गया.

कुछ समय तक महिलाएं भारतीय सेना में सिर्फ ग्राउंड ड्यूटी का हिस्सा थीं

जहां भारतीय वायु सेना और भारतीय नौसेना में महिला अधिकारी लंबे समय से हेलीकॉप्टर उड़ा रही हैं, वहीं भारतीय सेना ने 2021 में 'आर्मी एविएशन कोर्स' शुरू करके महिला पायलटों के लिए रास्ता खोला. कुछ समय पहले तक, भारतीय सेना में महिलाएं केवल ग्राउंड ड्यूटी का हिस्सा थीं.

आर्मी एविएशन में भर्ती के लिए 2021 में शुरू हुआ कोर्स

आर्मी एविएशन में महिला अधिकारियों की भर्ती के लिए, भारतीय सेना ने जुलाई 2021 में कोर्स शुरू किया. दिलचस्प बात यह है कि भारतीय वायु सेना में 10 महिला फाइटर पायलट हैं, जिनमें से तीन महिला फाइटर पायलट, फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ, अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह हैं. जून 2016 में तीनों एक साथ भारतीय वायु सेना में शामिल हुईं थीं.

नवंबर 2021 तक भारतीय सेना में 577 महिला ऑफिसर्स को स्थायी कमीशन मिला

फरवरी 2020 में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से नवंबर 2021 तक, भारतीय सेना ने 577 महिला अधिकारियों को 'स्थायी कमीशन' दिया.

क्या है स्थायी कमीशन ?

एक स्थायी आयोग एक अधिकारी के सेवानिवृत्त होने तक सेना में पूर्णकालिक कैरियर देता है. इसका सीधा सा मतलब है कि यदि कोई अधिकारी स्थायी कमीशन प्रविष्टि के माध्यम से चयनित हो जाता है, तो वह सेवानिवृत्ति की आयु (60) तक देश की सेवा कर सकता है.

आर्मी एविएशन कॉर्प्स: भारतीय सेना की सबसे युवा कोर

01 नवंबर 1986 को अस्तित्व में आया, आर्मी एविएशन कॉर्प्स भारतीय सेना की सबसे युवा कोर है. पिछले कुछ वर्षों में, चीता, एडवांस्ड लाइट हेलीकॉप्टर (एएलएच) ध्रुव, हथियारयुक्त एएलएच रुद्र और लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर जैसी नई यूनिट्स और इक्विप्मेंट को शामिल करने के साथ इसका विस्तार हुआ है. अगस्त 2021 में, आर्मी एविएशन कॉर्प्स को सेना के मानवरहित हवाई वाहनों (Unmanned Aerial Vehicles) का कंट्रोल मिला, जो पहले आर्टिलरी का हिस्सा थे.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें