1. home Home
  2. election
  3. up assembly elections
  4. purvanchal expressway gifted to uttar pradesh read the highlights of prime minister narendra modi s speech acy

उत्तर प्रदेश को पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की सौगात, पढ़ें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की प्रमुख बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश को पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की सौगात दी. इस दौरान उन्होंने जनसभा को भी संबोधित किया. पढ़ें प्रधानमंत्री के भाषण की प्रमुख बातें..

By Prabhat Khabar Digital Desk, Lucknow
Updated Date
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया
सोशल मीडिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को सुल्तानपुर के करवाल खेरी में पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का लोकार्पण किया. इस दौरान उन्होंने जनसभा को भी संबोधित किया. पीएम मोदी ने लोगों से कहा कि तीन साल पहले जब मैंने पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का शिलान्यास किया था तब मैंने नहीं सोचा था कि इस एक्सप्रेसवे पर ही मैं विमान से उतरूंगा भी. उन्होंने कि ये एक्सप्रेसवे यूपी के विकास का एक्सप्रेसवे है. ये एक्सप्रेसवे यूपी के प्रगति का एक्सप्रेसवे है. ये एक्सप्रेसवे यूपी की मजबूत होती अर्थ व्यवस्था का एक्सप्रेसवे है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे यूपी की शान है. ये यूपी का कमाल है. पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को यूपी की जनता को समर्पित करते हुए मैं अपने आप को धन्य महसूस कर रहा हूं. हमारे जिन किसान भाई-बहनों की भूमि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे में लगी है, जिन श्रमिकों का पसीना इसमें लगा है, जिन इंजीनियरों का कौशल इसमें लगा है, उनका भी मैं बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की प्रमुख बातें

  • उत्तर प्रदेश में जिस तरह से राजनीति हुई, जिस तरह से लंबे समय तक सरकारें चलीं, उन्हाेंने यूपी के सर्वांगीण विकास पर ध्यान ही नहीं दिया.

  • यूपी के इस क्षेत्र को माफियावाद और यहां के लोगों को गरीबी के हवाले कर दिया गया था.

  • गरीबों को पक्के घर मिलें, गरीबों के घर में शौचालय हों, महिलाओं को खुले में शौच के लिए बाहर ना जाना पड़े, सबके घर में बिजली हो, ऐसे कितने ही काम थे, जो यहां किए जाने जरूरी थे, लेकिन मुझे पीड़ा है कि तब की सरकारों ने मेरा साथ नहीं दिया.

  • मुझे मालूम था कि जिस तरह तब की सरकार में यूपी के लोगों के साथ नाइंसाफी की जा रही है, विकास में भेदभाव किया जा रहा है, जिस तरह सिर्फ अपने परिवार का हित साधा जा रहा है, यूपी के लोग ऐसा करने वाली सरकार को हमेशा-हमेशा के लिए यूपी के विकास के रास्ते से हटा देंगे.

  • आज मैं देख रहा हूं कि कुछ लोग अपना आपा खो रहे हैं, विचलित हो रहे हैं, ये वही लोग हैं लोग अपने समय में सफल नहीं हुए तो योगी जी की सफलता देख कर परेशान हैं.

  • आज प्रदेश में विकास हो रहा है तो इसका सबसे अधिक लाभ हमारी बहनों-बेटियों को मिल रहा है. घर, बिजली पानी, शौचालय, रसोइ गैस मिलने से उनको सबसे बड़ी परेशानी से छुटकारा मिला है.

  • भाजपा सरकार में जिस तरह से उत्तर प्रदेश को #एक्सप्रेस_प्रदेश बनाया जा रहा है, वह आजादी के बाद पहली बार हो रहा है.

  • पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की विशेषता सिर्फ यही नहीं है कि यह 9 जनपदों को जोड़ेगा बल्कि यह एक्सप्रेसवे लखनऊ को उन शहरों से भी जोड़ेगा जहां विकास की असीम संभावनाएं हैं.

यूपी की सड़कों पर राह नहीं, राहजनी होती थी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कौन भूल सकता है कि पहले यूपी में कितनी बिजली कटौती होती थी. कौन भूल सकता है कि यूपी में कानून व्यवस्था की क्या हालत थी, कौन भूल सकता है कि यूपी में मेडिकल सुविधाओं की क्या स्थिति थी. यूपी में तो हालात ऐसे बना दिये थे कि यहां सड़कों पर राह नहीं होती थी, राहजनी होती थी.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ये भी एक सच्चाई थी कि यूपी जैसा विशाल प्रदेश, पहले एक-दूसरे से काफी हद तक कटा हुआ था. अलग-अलग हिस्सों में लोग जाते तो थे लेकिन एक-दूसरे से कनेक्टिविटी ना होने की वजह से परेशान रहते थे. पूरब के लोगों के लिए लखनऊ पहुंचना भी महाभारत जीतने जैसा होता था. प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले मुख्यमंत्रियों के लिए विकास वहीं तक सीमित था, जहां उनका घर था. लेकिन आज जितनी पश्चिम की पूछ है, उतनी ही पूर्वांचल के लिए भी प्राथमिकता है. पूर्वांचल एक्सप्रेसवे आज यूपी की इस खाई को पाट रहा है, यूपी को आपस में जोड़ रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि एक व्यक्ति घर भी बनाता है तो पहले रास्तों की चिंता करता है, मिट्टी की जांच करता है, दूसरे पहलुओं पर विचार करता है, लेकिन यूपी में हमने लंबा दौर, ऐसी सरकारों का देखा है जिन्होंने कनेक्टिविटी की चिंता किए बिना ही औद्योगीकरण के सपने दिखाए. परिणाम ये हुआ कि ज़रूरी सुविधाओं के अभाव में यहां लगे अनेक कारखानों में ताले लग गए. इन परिस्थितियों में ये भी दुर्भाग्य रहा कि दिल्ली और लखनऊ, दोनों ही स्थानों पर परिवारवादियों का ही दबदबा रहा. सालों-साल तक परिवारवादियों की यही पार्टनरशिप, यूपी की आकांक्षाओं को कुचलती रही.

Posted By: Achyut Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें