1. home Hindi News
  2. career
  3. bhu and michigan state university launch part time online course on fundamentals of social design here are all detail for admission pwn

BHU में होगी फंडामेंटल्स ऑफ सोशल डिजाइन की पढ़ाई, मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के साथ लॉन्च किया कोर्स

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
BHU में होगी फंडामेंटल्स ऑफ सोशल डिजाइन की पढ़ाई, मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के साथ लॉन्च किया कोर्स
BHU में होगी फंडामेंटल्स ऑफ सोशल डिजाइन की पढ़ाई, मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के साथ लॉन्च किया कोर्स
Twitter

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) ने तीन महीने का पार्ट टाइम सर्टिफिकेट कोर्स लॉन्च किया है. इस कोर्स का नाम फंडामेंटल्स ऑफ सोशल डिजाइन है. कोर्स की शुरूआत 17 मई से होगी जो 18 अगस्त तक पूरा होगा. इसके लिए आवेदन की पूरी प्रक्रिया की जानकारी bhu.ac.in पर उपलब्ध है. मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी और बीएचयू ने संयुक्त रूप से इस कोर्स को लॉन्च किया है.

पाठ्यक्रम में शिक्षार्थियों को समाज, प्रोद्योगिकी, मानव व्यवहार में बदलाव, समकालीन भारत और इसके कई पहलुओ के डिजाइन पेश किया जाएगा. बीएचयू का दावा है कि छात्रों को समानता और सामाजिक न्याय के बारे में जानाकारी दी जायेगी, ताकि को रचनात्मक बदलाव करने में सक्षम हो.

इस कोर्स में छात्रों के अलावा वर्किंग प्रोफेसनल भी नामांकन ले सकते हैं. नामांकन लेने के बाद 70 प्रतिशत उपस्थिति के साथ कोर्स को पास करने वाले छात्रों को बीएचयू और मेरीलैंड इंस्टीच्यूट कॉलेज ऑफ आर्ट्स मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी की तरफ से ई सर्टिफिकेट दिया जाएगा.

फिलहाल कोरोना संक्रमण के कारण बीएचयू कैंपस बंद है और कक्षाएं स्थगित की गयी हैं. छात्र ऑनलाइन क्लास के जरिये पढ़ाई कर रहे हैं. Basic Skill Development on Animation-visualizing thoughts for communication विषय पर बीएचयू एक सप्ताहिक कार्यशाला का भी आयोजन करने वाला है. इसकी शुरूआत भी 17 मई से होगी.

इस ऑनलाइन कार्यशाला का उद्देश्य छात्रों को एनिमेशन के बारे में बेसिक जानकारी दी जाएगी. ताकि इसके इस्तेमाल से छात्र कई प्रकार की समस्याओं का समाधान कर सकें.

इसके साथ ही IGNOU के School of Gender and Development Studies ने एक सर्टिफिकेट इन जेंडर, एग्रीकल्चर एंड सस्टेनेबल डेवलवपमेंट (CGAS) विषय पर कोर्स लॉन्च किया है. छात्र इस कोर्स को दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से पूरा कर सकते हैं. यह छह महीने के लिए होगा. कोर्स में कृषि में लैंगिक पूर्वाग्रह, कृषि का नारीकरण और ग्रामीण विकास अन्य वैश्विक मुद्दों के बारे में जानकारी दी जाएगी.

Posted By: Pawan Singh

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें