1. home Hindi News
  2. business
  3. rbi governor shaktikanta das press confrence live updates coronavirus narendra modi government economic package

EMI में राहत से लेकर महंगाई तक, जानें- आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास की बड़ी बातें

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास
File

Reserve Bank of India (RBI) Governor Shaktikanta Das देश में छाए कोरोना संकट और लॉकडाउन 4.0 के बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) गवर्नर शक्तिकांत दास ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रेपो रेट में कटौती का एलान किया. कोरोना के लॉकडाउन के बाद से यह तीसरी बार है जब आरबीआई ने राहत का ऐलान किया. पढ़ें उनके प्रेस कॉन्फ्रेंस की मुख्य बातें...

email
TwitterFacebookemailemail

CBDT ने किया 26,242 करोड़ रुपये का रिफंड

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने शुक्रवार को जानकारी दी कि आयकर विभाग ने एक अप्रैल 2020 से लेकर 21 मई 2020 तक 16 लाख 84 हजार 298 करदाताओं को कुल मिलाकर 26,242 करोड़ रुपये का रिफंड जारी किया है.

email
TwitterFacebookemailemail

खाद्य महंगाई काबू में रहेगी

देश के लिए कृषि के क्षेत्र में अच्छी खबर है. आरबीआई गवर्नर ने बताया कि खाद्यान्न उत्पादन में 3.7 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. मॉनसून के भी इस बार सामान्य रहने का अनुमान है. 10 मई तक खरीफ की बुआई पिछले साल की तुलना में 40 फीसदी अधिक रही है. इससे देश की खाद्य सुरक्षा मजबूत होगी और खाद्य महंगाई भी काबू में रहेगी.

email
TwitterFacebookemailemail

भारत के शीर्ष छह औद्योगिक राज्य रेड जोन में

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था मंदी की ओर बढ़ रही है और मुद्रास्फीति के अनुमान बेहद अनिश्चित हैं. उन्होंने कहा, दो महीनों के लॉकडाउन से घरेलू आर्थिक गतिविधि बुरी तरह प्रभावित हुई है. साथ ही उन्होंने जोड़ा कि शीर्ष छह औद्योगिक राज्य, जिनका भारत के औद्योगिक उत्पादन में 60 प्रतिशत योगदान है, वे मोटे तौर पर लाल या नारंगी क्षेत्र में हैं. दास ने कहा कि मांग में कमी और आपूर्ति में व्यवधान के चलते चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में आर्थिक गतिविधियां प्रभावित होंगी. उन्होंने कहा कि 2020-21 की दूसरी छमाही में आर्थिक गतिविधियों में कुछ सुधार की उम्मीद है. उन्होंने कहा, 2020-21 में जीडीपी वृद्धि के नकारात्मक रहने का अनुमान है, हालांकि 2020-21 की दूसरी छमाही में कुछ तेजी आएगी.

email
TwitterFacebookemailemail

अप्रैल में दी थीं कई राहतें

इससे पहले 17 अप्रैल को आरबीआई ने कोरोना संकट और लॉकडाउन से प्रभावित अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए कई तरह की राहत का ऐलान किया था. रिवर्स रेपो रेट में 25 आधार अंक की कटौती की गई थी जिससे यह 4 फीसदी से घटकर 3.75 फीसदी हो गया था.

email
TwitterFacebookemailemail

रेपो रेट का आप पर असर

जब बैंक को रिजर्व बैंक से कम ब्याज दर पर लोन मिलेगा तो उनके फंड जुटाने की लागत कम होगी. इस कारण से वे अपने ग्राहकों को सस्ता कर्ज दे सकते हैं. इसका मतलब यह है कि रेपो रेट कम होने पर आपके लिए होम, कार या पर्सनल लोन पर ब्याज की दरें कम हो सकती हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

वैश्विक व्यापार घटेगा

आरबीआई गवर्नर ने आगे कहा, 'दालों की कीमत में उछाल चिंता का विषय है. कृषि उत्पादन से सबको लाभ मिलेगा. WTO के मुताबिक, वैश्विक व्यापार 13 से 32 फीसदी तक घट सकता है. जीडीप ग्रोथ नेगेटिव रहने का अनुमान है. मानसून के सामान्य रहने का अनुमान है.

email
TwitterFacebookemailemail

बिजली, पेट्रोलियम उत्पाद की खपत में गिरावट

आरबीआई गवर्नर ने कहा, '2020-21 में जीडीपी ग्रोथ नकारात्मक क्षेत्र में रहने की उम्मीद है. छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति ने ब्याज दर में 0.40 प्रतिशत कटौती के पक्ष में 5:1 से मतदान किया. भारत में मांग घट रही है, बिजली, पेट्रोलियम उत्पाद की खपत में गिरावट, निजी खपत में गिरावट दर्ज की जा रही है. कोविड19 के प्रकोप के कारण निजी उपभोग को सबसे ज्यादा झटका लगा है. निवेश की मांग रुकी है. कोरोना के प्रकोप के बीच आर्थिक गतिविधियों में सुस्ती के कारण सरकार का राजस्व बुरी तरह प्रभावित हुआ है.'

email
TwitterFacebookemailemail

अर्थव्यवस्था को बड़ा नुकसान

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि कोरोना वायरस के वजह से अर्थव्यवस्था को बड़ा नुकसान हुआ है. एमपीसी ने रेपो रेट में कटौती करने का फैसला किया है. शक्तिकांत दास ने कहा कि रेपो रेट में भी कटौती की गई है. 4.4 फीसदी से कटकर अब 4 फीसदी कर दिया गया है.

email
TwitterFacebookemailemail

रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 40 बेसिस प्वाइंट की कटौती की

रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 40 बेसिस प्वाइंट की कटौती की है. रेपो रेट अब 4.4 से घटक अब 4.0 फीसद हुआ. वहीं आरबीआई ने रिवर्स रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया है. केंद्रीय बैंक ने बैंक ब्याज दरों में 0.4 फीसद की कटौती की है. आरबीआई ने कहा कि 6 बड़े प्रदेशों में औद्योगिक उत्पादन गिरा है. कोरोना की वजह से आर्थिक नुकसान हुआ है. मार्च में सीमेंट का उत्पादन गिरा है.

email
TwitterFacebookemailemail

एसबीआई की एक शोध रिपोर्ट

बता दें कि हाल ही में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की एक शोध रिपोर्ट आई थी. इस रिपोर्ट में कहा गया था कि देशव्यापी लॉकडाउन को 31 मई तक बढ़ाने के चलते भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) कर्ज अदायगी पर जारी ऋण स्थगन को और तीन महीनों के लिए बढ़ा सकता है. गौरतलब है कि कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप को रोकने के लिए देश में 31 मई तक लॉकडाउन लागू है. कोविड-19 से जंग के लिए देश में 24 मार्च को 21 दिनों के लिए लॉकडाउन लागू किया गया था.

email
TwitterFacebookemailemail

20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज नाकाफी

भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने गुरुवार को कोविड-19 से प्रभावित अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार की ओर से दिए गए 20.9 लाख करोड़ रुपये के पैकेज को नाकाफी बताया था. राजन ने कहा था कि प्रवासी मजदूरों को पैकेज के तहत मुफ्त खाद्यान्न दिया गया है, लेकिन लॉकडाउन की वजह से वे (मजदूर) बेरोजगार हो गए हैं. उन्हें दूध, सब्जी, खाद्य तेल खरीदने और किराया चुकाने के लिए पैसे की जरूरत है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें