1. home Hindi News
  2. business
  3. railtel prepaid wifi service days spent using free internet at railway stations railtel launches prepaid wifi service at 4000 stations vwt

रेलवे स्टेशनों पर फ्री में इंटरनेट यूज करने के लद गए दिन, रेलटेल ने 4000 स्टेशनों पर शुरू की प्रीपेड वाईफाई सर्विस

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
रेलवे स्टेशनों पर इंटरनेट यूज करना पड़ेगा महंगा.
रेलवे स्टेशनों पर इंटरनेट यूज करना पड़ेगा महंगा.
प्रतीकात्मक फोटो.

Railtel Prepaid WiFi Service : रेलवे स्टेशनों पर अपने स्मार्टफोन से दबदबा के फ्री इंटरनेट यूज करने वालों के लिए एक बुरी खबर है. अब रेलवे स्टेशनों पर फ्री में इंटरनेट यूज करने के दिन लद गए. इसका कारण यह है कि भारतीय रेल (Indian Railways) के सार्वजनिक उद्यम रेलटेल (Railtel) ने अपनी प्रीपेड वाई सेवा (Prepaid WiFi Service) शुरू कर दी. इसके तहत फिलहाल देश के 4,000 रेलवे स्टेशनों (Railway station) पर यात्री पहले भुगतान करके हाई-स्पीड इंटरनेट सेवा (High speed internet service) का उपयोग कर सकेंगे.

रेलटेल पहले से ही देश के 5,950 स्टेशनों को मुफ्त वाईफाई सेवा (Free WiFi service) दे रहा है, जिसका उपयोग कोई भी स्मार्टफोन धारक कर सकता है. इसके लिए उपयोक्ता को ओटीपी (OTP) आधारित सत्यापन कराना पड़ता है. नयी प्रीपेड योजना (New Prepaid Scheme) के तहत उपयोक्ता रोजाना अधिकतम 30 मिनट के लिए 1एमबीपीएस की स्पीड पर इंटरनेट का उपयोग कर सकता है. इसके बाद 34 एमबीपीएस स्पीड तक के लिए उपयोक्ता को बेहद कम शुल्क का भुगतान करना होगा.

ये योजनाएं हैं

  • एक दिन के लिए 10 रुपये में 5GB,

  • एक दिन के लिए 10 रुपये में 10GB,

  • पांच दिन की वैधता के साथ 20 रुपये में 10GB,

  • पांच दिन की वैधता के साथ 30 रुपये में 20GB,

  • 10 दिन की वैधता के साथ 40 रुपये में 20GB,

  • 10 दिन की वैधता के साथ 50 रुपये में 30GB

  • 30 दिनों की वैधता के साथ 70 रुपये में 60GB

4000 स्टेशनों पर इंटरनेट के लिए देने होंगे पैसे

रेलटेल के सीएमडी पुनीत चावला ने कहा कि हमने उत्तर प्रदेश के 20 स्टेशनों पर प्रीपेड वाईफाई का परीक्षण किया और उससे मिली प्रतिक्रिया तथा विस्तृत परीक्षण के साथ हम इस योजना को भारत में 4,000 से ज्यादा स्टेशनों पर शुरू कर रहे हैं. हमारी योजना सभी स्टेशनों को रेलवायर वाईफाई से जोड़ने की है.

ऐसे करना होगा पैसे का भुगतान

उन्होंने कहा कि डेटा योजना इस तरह से बनाई गई है कि कोई भी यूजर अपनी जरूरत के हिसाब से चुन सकता है. प्रीपेड भुगतान के लिए नेट-बैंकिंग, ई-वॉलेट और क्रेडिट कार्ड किसी का भी उपयोग किया जा सकता है. इसे ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है. चावला ने बताया कि कोविड-19 से पहले हर महीने करीब तीन करोड़ लोग इस योजना का उपयोग कर रहे थे. उन्होंने कहा कि हालात सामान्य होने और यात्रियों की संख्या पहले की तरह होने पर प्रीपेड वाईफाई सेवा से 10-15 करोड़ रुपये वार्षिक राजस्व प्राप्त होने का अनुमान है.

Posted by : Vishwat sen

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें