1. home Hindi News
  2. business
  3. power generation 660 mw from second unit of npgc ntpc says no shortage of electricity in bihar smb

NGPC के 660 मेगावाट की दूसरी इकाई से शुरू होगा विद्युत उत्पादन, बिहार में नहीं होगी बिजली की कमी

By Samir Kumar
Updated Date
बिहार में नहीं होगी बिजली की कमी : NTPC
बिहार में नहीं होगी बिजली की कमी : NTPC
FILE

NTPC News एनटीपीसी के पूर्ण स्वामित्व वाली नबीनगर पावर जेनेरटिंग कंपनी (NPGC) थर्मल पावर स्‍टेशन के 660 मेगावाट की दूसरी इकाई से वाणिज्‍यिक प्रचालन की उद्घोषणा के साथ ही इस प्लांट की दूसरी इकाई से विद्युत उत्‍पादन आज (दिनांक 22-23 जुलाई 2021 की) रात्रि 00:00 बजे शुरू हो जाएगा.

बिजली प्लांट की किसी इकाई से वाणिज्यिक प्रचालन की उद्घोषणा करना अर्थात संबंधित इकाई से विद्युत उत्पादित कर संबंधित राज्य को विद्युत आपूर्ति शुरू करना, जिसे भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय ने तय आवंटन दे रखा हो. सुपरक्रिटिकल तकनीक पर आधारित 660 मेगावॉट की तीन इकाईयों के साथ कुल 1980 मेगावॉट की यह कोयला आधारित परियोजना बिहार के औरंगाबाद जिले के बारून प्रखंड में स्थित है. भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय ने इस परियोजना की 84.8 प्रतिशत बिजली गृह राज्‍य बिहार को आबंटित की है, शेष बिजली उत्तर प्रदेश, झारखंड और सिक्‍किम राज्‍यों को आबंटित की गई है.

उल्लेखनीय है कि इसकी पहली इकाई का वाणिज्यिक प्रचालन सितम्बर 2019 में केन्द्रीय विद्युत मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), आर. के. सिंह द्वारा बिहार के ऊर्जा मंत्री की उपस्थिति में किया गया था, जिससे बिहार की वर्तमान में तय आवंटन के हिसाब से 559 मेगावाट से भी अधिक विद्युत की निरंतर आपूर्ति की जा रही है. नबीनगर परियोजना के मुख्य कार्यकरी अधिकारी विजय सिंह ने बताया कि इस परियोजना की दूसरी 660 मेगावॉट  इकाई के आज आधी रात से वाणिज्यिक उत्पादन के शुरुआत के पश्चात अतिरिक्त 559 मेगावॉट की आपूर्ति भी बिहार को होने लगेगी.

नबीनगर परियोजना के मुख्य कार्यकरी अधिकारी विजय सिंह ने बताया कि इससे बिहार में बिजली की खपत में लगातार बढ़ रही मांग को पूरी करने में मदद मिलेगी. इस प्रकार से  नबीनगर पावर जेनेरटिंग कंपनी की कुल उत्पादन क्षमता 1320 मेगावॉट हो जाएगी. इस परियोजना की 660 मेगावॉट की तीसरी व अंतिम इकाई का निर्माण कार्य भी अपने अंतिम चरण में है इस यूनिट से भी आने वाले छः महीने में विद्युत उत्पादन शुरू हो जाएगा.

इस अवसर पर नबीनगर परियोजना के कंट्रोल रूम से इस उपलब्धि को साझा करते हुए एनटीपीसी पूर्वी क्षेत्र-1 के क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक व नबीनगर पावर जेनेरटिंग कंपनी के निदेशक प्रवीण सक्सेना ने जानकारी देते हुए बताया कि टीम एनपीजीसी व सहायक एजेंसियों ने कोरोना महामारी की चुनौतियों के बीच इस उपलब्धि को जिस टीम स्प्रिट और जुझारूपन के साथ हासिल किया है, वह अद्भुत है तथा इसके लिए बधाई के लिए सभी बधाई के पात्र हैं. हमें तीसरी यूनिट को भी जल्द-से-जल्द लाने के लिए अभी से ही तय रणनीति से आगे बढ़ना होगा.

गौरतलब है कि एनटीपीसी के पूर्वी क्षेत्र-1 के तहत बिहार, झारखंड एवं पश्चिम बंगाल में कुल 9 परियोजनाएं में से 7 परियोजनाओं की 9160 मेगावाट की विद्युत उत्पादन क्षमता है, जबकि 7270 मेगावाट की परियोजनाएं निर्माणाधीन है. वर्तमान में एनटीपीसी से बिहार को 4000 मेगावाट से भी अधिक का विद्युत का आबंटन है.

देश की सबसे बड़ी बिजली कंपनी एनटीपीसी देश की बिजली जरूरतों को पूरा करने में एक अग्रणी व प्रभावी भूमिका निभा रही है और आर्थिक और सामाजिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है. वर्तमान में एनटीपीसी की 74 विद्युत संयंत्रों जिनमें 29 से भी अधिक नबीकरणीय विद्युत संबंधित परियोजनाएं शामिल हैं, के माध्‍यम से 66085 मेगावाट की स्‍थापित क्षमता है. देश भर में स्‍थित कंपनी की विभिन्‍न परियोजनाओं में 18,000 मेगा वॉट क्षमता के अलावा 5000 से भी अधिक मेगावाट की सौर परियोजनाएं निर्माणाधीन हैं.

Upload By Samir Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें