1. home Hindi News
  2. business
  3. gold sell in corona pandemic wants to gold ornaments sell for money in corona pandemic and you dont have a bill then follow this method can get good price vwt

पैसों के लिए बिना बिल के बेचना चाहते हैं GOLD तो अपनाएं यह तरीका, मिलेगी अच्छी कीमत...

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
संकट की घड़ी का असली साथी सोना.
संकट की घड़ी का असली साथी सोना.
प्रतीकात्मक फोटो.

Gold sell in Corona pandemic : वैसे तो भारत में सोना की ज्वेलरी (Gold Jewellery) की खरीद और बिक्री की पुरानी परंपरा है और देश में बीते दो साल के दौरान सोने की कीमतों (Gold prices) में तेजी भी आई है. लेकिन, कई बार आदमी संकट की घड़ी में या फिर जरूरी काम पूरा करने के लिए भी पैसों की खातिर सोने के गहनों को बेचना चाहता है.

खासकर, इस समय कोरोना महामारी के दौरान कई लोग आर्थिक तंगी या जरूरी कामों के लिए पैसों की खातिर सोना बेचना चाहते होंगे. ऐसे में, ज्वेलरी शॉप वाले जौहरी अपनी शर्तों पर बाजार भाव से इतर औने-पौने दामों पर इसे खरीदने की फिराक में लगे रहे हैं. ऐसे में आदमी को उसकी पूरी कीमत नहीं मिल पाती है. इसलिए जरूरी यह भी है कि यदि आप सोना खरीदें, तो उसका बिल संभालकर रखें. इसमें सोने की शुद्धता को लेकर जानकारी दी गयी होती है.

इसके साथ ही, कई लोग सोना खरीदते समय बिल लेते तो हैं, लेकिन वक्त आने पर वह नहीं मिलता है या फिर खो जाता है. इधर, सरकार ने बिना बिल और बिना हॉलमार्क के सोने की खरीद-बिक्री पर रोक लगा दी है. अगर इस कोरोना महामारी की घड़ी में किसी को पैसों की खातिर सोना बेचना पड़ रहा है और उसके पास उसका बिल नहीं है, तो वह अन्य विकल्पों पर भी विचार कर सकता है. आइए जानते हैं वे कौन से विकल्प हैं, जिन्हें अपनाकर आप पैसों की जरूरत को पूरा कर सकते हैं...

गोल्ड के बदले में सोना एक्सचेंज करने का विकल्प

किसी भी कारण से गोल्ड ज्वेलरी, सोने के सिक्के या गोल्ड बार का बिल नहीं है, तो आप बिल्कुल भी नहीं घबराइए. आप बिल के बिना भी अच्छी कीमत पर सोना बेच सकते हैं, लेकिन इसके लिए आपको किसी रजिस्टर्ड और भरोसेमंद ज्वेलरी स्टोर पर जाना होगा, जहां आप अपने सोने के बदले में सोना एक्सचेंज करके फिर उसे बेच सकते हैं. ये ज्वेलरी स्टोर आपके सामने ही आपके सोने को पिघलाकर उसका वजन करते हैं और उसकी शुद्धता जांचते हैं.

हालांकि, इसके बदले वे आपसे मेल्टिंग चार्ज और मेकिंग चार्ज वसूल करते हैं. अगर आप सोना बेच रहे हैं या एक्सचेंज कर रहे हैं, तो आपने जिस दुकान से सोने की खरीद की है, वहीं पर उसे बेचना ज्यादा फायदेमंद होता है. इससे आपको सोने की लगभग वही कीमत मिल सकती है, जितने में आपने उसे खरीदा है. फिर भी, अगर आपने सोना किसी बैंक से खरीदा है, तो आप दोबारा बैंक को अपना सोना नहीं बेच सकते, क्योंकि बैंक इसका कारोबार नहीं करते.

सबसे पहले पता करें सोने की कीमत

भारत में सोना खरीदने वाली कई ऐसी कंपनियां हैं, जो वैलिड आईडी प्रूफ दिखाने पर सोने के बदले कैश देती हैं. अधिक जरूरी होने पर आप इन कंपनियों को अपना सोना बेच सकते हैं, लेकिन इसमें आपको ध्यान देना होगा कि सोना खरीदने वाली कंपनी रजिस्टर्ड है या नहीं. धोखाधड़ी से बचने के लिए रजिस्टर्ड कंपनी के पास ही उसको बेचें. इससे आपको अच्छे दाम मिलेंगे. कभी भी सोना बेचने से पहले बाजार में उसकी कीमत का पता जरूर लगा लें. कई ज्वैलर्स के यहां सोने की अलग-अलग कीमतें होती हैं.

हॉलमार्क होना जरूरी है

सोने को बेचने से पहले आपको उसकी शुद्धता के बारे में सही जानकारी होनी चाहिए. ज्यादातर ज्वेलर 91.6 फीसदी मात्रा वाले 22 कैरेट सोने को खरीदने को प्राथमिकता देते हैं. ऐसे सोने पर 915 हॉलमार्क का चिह्न लगा होता है. आप यह सुनिश्चित कर लें कि आपके सोने पर हॉलमार्क का चिह्न लगा है या नहीं. अगर नहीं है, तो आप अपने नजदीकी रजिस्टर्ड बीआईएस सेंटर (भारतीय मानक ब्यूरो केंद्र) पर जाएं और सोने की हॉलमार्किंग कराएं. इससे आपको सोने की सही कीमत मिल जाएगी.

Posted By : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें