18.1 C
Ranchi
Thursday, February 22, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeबड़ी खबरDemat Account में नॉमिनी का नाम भरने के लिए न हो परेशान, घर बैठे होगा काम, जानें पूरा प्रोसेस

Demat Account में नॉमिनी का नाम भरने के लिए न हो परेशान, घर बैठे होगा काम, जानें पूरा प्रोसेस

Demat Account Nominee Update: डीमैट खाताधारक के लिए नॉमिनेशन फॉर्म भरना काफी आसान है. इसके लिए आप, अपने डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट या ऑनलाइन किसी भी वेबसाइट से फॉर्म को डाउनलोड कर सकते हैं. इसमें खाताधारक को अपने डीमैट खाते का नंबर के साथ निजी जानकारी देनी होती है.

Demat Account Nominee Update: शेयर बाजार की रेगुलेटरी अथॉरिटी सेबी ने मौजूदा डीमैट खाताधारकों के लिए नॉमिनी भरने के विकल्प भरने की की समयसीमा को बढ़ाकर दिसंबर कर कर दिया है. इसके अतिरिक्त, व्यापार सहज बनाने की दिशा में एक कदम के रूप में नियामक द्वारा ट्रेडिंग खातों के लिए नामांकन का विकल्प प्रस्तुत करना स्वैच्छिक बना दिया गया है. इससे पहले, मौजूदा पात्र ट्रेडिंग और डीमैट खाताधारकों के लिए नामांकन का विकल्प प्रदान करने की समय सीमा 30 सितंबर थी. ऐसे में जिनके पास भी व्यक्तिगत डीमैट अकाउंट है, उन्हें नॉमिनी का डिटेल भरना पड़ेगा. इसके साथ ही, संयुक्त डीमैट खाताधारक भी नॉमिनी भर सकते हैं, मगर उनके खातों में नॉमिनी का नाम भरना संभव नहीं है. ऐसे में अगर आपने अभी तक अपने डिमैट खाते में नॉमिनी का नाम अपडेट नहीं किया है तो आसानी से घर बैठे कर सकते हैं. खाताधारक परिवार के सदस्य, दोस्त या उससे जुड़ा कोई अन्य व्यक्ति भी नॉमिनी बना सकते हैं. साथ ही, एक से ज्यादा नॉमिनी होने की स्थिति में डीमैट अकाउंट में संपत्ति में अनुपात तय करना होगा.

कैसे भरें ऑनलाइन नॉमिनेशन

किसी भी खाताधारक के लिए नॉमिनेशन फॉर्म भरना काफी आसान है. इसके लिए आप, अपने डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट या ऑनलाइन किसी भी वेबसाइट से फॉर्म को डाउनलोड कर सकते हैं. इसमें खाताधारक को अपने डीमैट खाते का नंबर के साथ निजी जानकारी देनी होती है. खाताधारक जिसे नॉमिनी बान रहा है उस व्यक्ति का नाम,उससे रिश्ता, जन्मतिथि और पता आदि बताना होगा. साथ ही, अगर नॉमिनी की संख्या एक से ज्यादा है तो खाते कुल संपत्ति में उनका अनुपात भी तय करना होगा. इस फॉर्म को आप आसानी से ऑनलाइन जमा कर सकते हैं. इसके लिए, डिपॉजिटरी की वेबसाइट पर जाकर नॉमिनेशन भर सकते हैं. फॉर्म में मांगी गयी जानकारी भरने के बाद, इसे सब्मिट करना होगा. जानकारी के सत्यापन के लिए आपके पास एक ओटीपी आएगा. ओटीपी डालने के बाद, आपके खाते में नॉमिनी का नाम दर्ज हो जाएगा.

डीमैट खाता क्या होता है

डीमैट खाता एक ऐसा खाता है जो शेयर बाजार में सुरक्षाओं को उधार और खरीदने की सुविधा प्रदान करता है, लेकिन विद्यमान शेयरों को फिजिकल रूप से देखने और छूने की अनुमति नहीं देता है. डीमैट खाता एक व्यक्ति या निगम के बीच एक इंटरफेस प्रदान करता है जिसके माध्यम से शेयर बाजार में व्यापार किया जा सकता है.

इस तरह के खातों के दो प्रमुख प्रकार होते हैं:

  • डीमैट खाता (Demat Account): यह खाता उस व्यक्ति को देता है जिसने शेयरों को खरीदा है, ताकि उन्हें उनके विद्यमान रूप को शेयर बाजार की व्यवस्था के अनुसार इलेक्ट्रॉनिक रूप में संरक्षित किया जा सके.

  • ट्रेडिंग खाता (Trading Account): यह खाता व्यक्ति को शेयर बाजार में व्यापार करने की अनुमति देता है. इसके माध्यम से व्यक्ति शेयरों को खरीद सकता है और उन्हें बेच सकता है.

इन खातों को विभिन्न वित्तीय संस्थाओं द्वारा प्रबंधित किया जाता है और ये भारत में शेयर बाजार के नियमों और विनियमों का पालन करते हैं. डीमैट खाता शेयर बाजार की वर्चुअल रिप्रेजेंटेशन होता है जो व्यक्तियों को उनके शेयरों की संपत्ति का संरक्षण करने में मदद करता है.

Also Read: केंद्र सरकार ने बढ़ा दिया निवेश पर ब्याज,जानें PPF, Sukanya Samriddhi Yojana, NSC पर कितना मिलेगा इंटरेस्ट रेट

डीमैट खाते में नॉमिनी अपडेट करने के क्या फायदे हैं

सेबी के द्वारा आदेश दिया गया है कि डीमैट खाते में नॉमिनी अपडेट करने के कई फायदे हो सकते हैं:

  • विरासत में सुरक्षा: डीमैट खाते में नॉमिनी जोड़ने से विरासत में सुरक्षा होती है. अगर खाते का मालिक अचानक नहीं रहता है, तो नॉमिनी को विरासत का हिस्सा मिल सकता है.

  • पैसों का निर्धारण: डीमैट खाते में नॉमिनी जोड़ने से खाते में जमा की गई धनराशि के निर्धारण में सहायता होती है. यह विवादों को और भी जटिल बनाता है.

  • समय की बचत: नॉमिनी जोड़ने से विरासत के प्रक्रिया में समय की बचत होती है. बिना नॉमिनी के, विरासत के प्रक्रिया कुछ समय लग सकती है.

  • सरकारी विधानों का पालन: नॉमिनी की उपस्थिति से, सरकार के विधानों और निर्देशों का पालन करना आसान होता है जिनका मालिकों को अनुसरण करना आवश्यक है.

  • विवादों का निवारण: अगर विरासत के समय किसी प्रकार की विवादित स्थिति उत्पन्न होती है, तो नॉमिनी जोड़ने से विवादों का समाधान सरल हो सकता है.

  • बिना दिक्कतों के विरासत: डीमैट खाते में नॉमिनी जोड़ने से विरासत की प्रक्रिया बिना दिक्कतों के सम्पन्न हो सकती है. यह वारिसों को जल्दी और सरलता से मालिकी मिलने की अनुमति देता है.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें