1. home Hindi News
  2. business
  3. after the increase in the prices of domestic gas it may be expensive to build houses including goods of grocery fmcg home appliances ksl

घरेलू गैस की कीमतों में बढ़ोतरी के बाद अब किराना, एफएमसीजी, होम एप्लायंसेस के सामान समेत घर बनाना हो सकता है महंगा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
सोशल मीडिया

नयी दिल्ली : कोरोना काल में घरेलू गैस की कीमतों में बढ़ोतरी के बाद अब किराना, रोजमर्रा की सामान, होम एप्लायंसेस से लेकर इस्पात और सीमेंट के दाम बढ़ने के आसार हैं. इनमें से कुछ उत्पादों के दाम बढ़ाये भी जा चुके हैं. इनमें और बढ़ोतरी भी संभव है. एक फरवरी को बजट पेश होना है. ऐसे में उपभोक्ताओं की नजर भी वित्त मंत्री पर अभी से टिक गयी हैं.

जानकारी के मुताबिक, नये साल में खाद्य तेल में प्रति टीन करीब 200 रुपये की बढ़ोतरी देखी गयी. राइस ब्रान ऑयल, सोयाबीन में भी बढ़ोतरी देखी जा रही है. मूंगफली तेल की कीमत ज्यादा होने से होटल और रेस्टोरेंट के कारोबारी मुनाफे के लिए पामोलिन ऑयल खरीदना बेहतर समझ रहे हैं.

रोजमर्रा के सामान की कीमतों में भी बढ़ोतरी के आसार हैं. एफएमसीजी उत्पादक कंपनियों का कहना है कि कच्चे माल के मूल्य में बढ़ोतरी के कारण कीमतों में इजाफा किया जा सकता है. मैरिको समेत कुछ कंपनियां पहले ही मूल्य में बढ़ोतरी कर चुकी है. खाद्य तेलों में बढ़ोतरी का असर एफएमसीजी उत्पाद पर भी पड़ सकता है.

पारले प्रॉडक्ट्स के मुताबिक, खाद्य तेलों की कीमतों में बढ़ोतरी का असर मार्जिन और लागत पर पड़ रहा है. कच्चे माल के मूल्य में बढ़ोतरी जारी रहती है, तो उत्पाद में चार से पांच फीसदी की बढ़ोतरी संभव है.

आंवला के मूल्य में बढ़ोतरी देखी जा रही है. अन्य जिंसों के मूल्य में बढ़ोतरी भी संभव है. अगर कच्चे माल के मूल्य में बढ़ोतरी होती है, तो डाबर, पतंजलि, झंडू जैसे ब्रांड भी मूल्य में बढ़ोतरी कर सकते हैं. फिलहाल इन कंपनियों की नजर बाजार मूल्य और प्रतिस्पर्धा पर है. सभी कंपनियां 'वेट एंड वाच' पॉलिसी पर चल रही हैं. कच्चे माल के मूल्य में वृद्धि नहीं रूकीं, तो इनके उत्पादों के मूल्य में भी बढ़ोतरी संभव है.

होम एप्लायंसेस के मूल्य में भी नये साल में बढ़ोरी संभव है. पिछले माह दिसंबर में ही होम एप्लायंसेस कंपनियों ने अपने उत्पादों की कीमत बढ़ाने के संकेत दे चुकी हैं. टीवी पैनल्स की कीमतों में करीब 200 फीसदी की वृद्धि का असर जनवरी माह में देखने को मिल सकता है. कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतरी से एलईडी टीवी, फ्रिज, वॉशिंग मशीन समेत कई होम एप्लायंसेस के मूल्य 10 फीसदी तक बढ़ सकते हैं.

बिल्डिंग मैटेरियल्स की कीमतों में भी बढ़ोतरी देखी जा रही है. गिट्टी, सरिया के दाम बढ़ चुके हैं. वहीं, गिट्टी के मूल्य में प्रति 100 स्क्वायर फीट करीब एक हजार रुपये की बढ़ोतरी हो गयी है. वहीं, 100 स्क्वॉयर फीट बालू की कीमत में भी करीब एक हजार रुपये की बढ़ोतरी हो चुकी है. पीवीसी पाइव, विद्युत तारों और माड्यूलर स्विच, सॉकेट के मूल्य में भी 25 से 30 फीसदी की बढ़ोतरी देखी जा रही है. प्लाईवुड और सेनेटरी के सामान में भी 15 से 20 फीसदी की बढ़ोतरी देखी जा रही है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें