1. home Home
  2. business
  3. 161st income tax day two percent indian do not pay tax in india smb

Income Tax Day: आमदनी छुपाने में भारतीय आगे!, विदेश यात्रा, महंगी प्रॉपर्टी खरीदने वालों की बढ़ रही संख्या

161st Income Tax Day देशभर में 161वां आयकर दिवस धूमधाम से सेलिब्रेट किया जा रहा है. आयकर दिवस के अवसर पर देश में टैक्स वसूली की हालत पर नजर डालें, तो चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए है. जानकारी के मुताबिक, करीब 130 करोड़ की जनसंख्या में दो फीसदी लोग भी इनकम टैक्स नहीं देते है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Income Tax
Income Tax
फाइल फोटो.

161st Income Tax Day देशभर में 161वां आयकर दिवस धूमधाम से सेलिब्रेट किया जा रहा है. आयकर दिवस के अवसर पर देश में टैक्स वसूली की हालत पर नजर डालें, तो चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए है. जानकारी के मुताबिक, करीब 130 करोड़ की जनसंख्या में दो फीसदी लोग भी इनकम टैक्स नहीं देते है. वहीं, विदेश यात्रा और महंगी प्रॉपर्टी खरीदने वालों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है.

आजतक की रिपोर्ट में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर (CBDT) बोर्ड के हवाले से बताया गया है कि वर्ष 2018-19 में देश में सिर्फ 1.46 करोड़ लोगों ने इनकम टैक्स दिया था. यानि 130 करोड़ की जनसंख्या में दो फीसदी लोग भी इनकम टैक्स नहीं देते है. जबकि, देश में विदेश यात्रा करने वालों और महंगी प्रॉपर्टी खरीदने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है. हालांकि, सरकार की ओर से इस बारे में ताजा आंकड़े जारी नहीं किए हैं, लेकिन माना जा रहा है कि पिछले दो-तीन साल में इसमें कोई चमत्कारिक बढ़त हुई होगी.

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर के अनुसार, साल 2018-19 में सिर्फ 46 लाख इंडिविजुअल टैक्सपेयर्स ने अपनी आमदनी 10 लाख से ऊपर दिखाई थी. वहीं, एक करोड़ लोगों ने अपनी आमदनी 5-10 लाख रुपये के बीच दिखाई थी. इस दौरान कुल 5.78 करोड़ लोगों ने आईटीआर दाख‍िल किया था. इसमें से 1.03 करोड़ लोगों ने अपनी आमदनी 2.5 लाख से नीचे दिखाई थी. वहीं, करीब 3.29 करोड़ लोगों ने अपनी आमदनी 2.5 लाख से नीचे दिखाई थी. साथ ही करीब 3.29 करोड़ लोगों ने अपनी सालाना आय 2.5 लाख से 5 लाख के बीच दिखाई थी.

विकास की तेज दौड़ लगाने पर उठ रहे सवाल

आजतक की रिपोर्ट में ग्लोबल टैक्सपेयर्स ट्रस्ट के चेयरमैन मनीष खेमका के मुताबिक, आजादी के 74 साल के बाद भी भारत के प्रत्यक्ष कर राजस्व में करीब 98 फीसदी नागरिकों का कोई योगदान नहीं है. जबकि, विकसित देशों में प्राय: 50 प्रतिशत से ज्यादा नागरिक आयकर देते हैं. ऐसे में सवाल खड़ा करते हुए उन्होंने कहा कि करीब 1.5 करोड़ करदाता भारत की 130 करोड़ जनता को अपने कंधों पर बैठाकर विकास की तेज दौड़ लगा सकते हैं. पर्यटन मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2019 में 2.69 करोड़ भारतीयों ने विदेश यात्रा की थी. यानी हर दिन 73 हजार से ज्यादा लोगों ने विदेश यात्रा की.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें