1. home Home
  2. video
  3. daughters day 2021 jharkhand daughters shown their talents in this year tokyo olympics 2020 watch special show rts

जब झारखंड की बेटियों ने हाथ में थामा धनुष और हॉकी स्टिक, टोक्यो ओलंपिक में बदला इतिहास...

इस डॉटर्स डे हम झारखंड की उन बेटियों की बात करेंगे, जिन्होंने खेल कूद के क्षेत्र में पुरुषों को पछाड़ते हुए टोक्यो ओलंपिक में नई इबारत लिखी. सुविधाओं की घोर कमी की आंधी भी इन्हें रोक नहीं पाई. दरअसल, बात हो रही है टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचने वाली झारखंड की बेटियां निक्की प्रधान और सलीमा टेटे की.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date

Daughter’s Day 2021: खेलकूद ऐसा क्षेत्र है, जिसमें पुरुषों का वर्चस्व रहा है. अगर बात करें इस बार के टोक्यो ओलंपिक की तो इस बार बेटियां बेटों से आगे निकल गई. इस बार ओलंपिक के इतिहास में पहली बार 49 फीसदी महिला खिलाड़ी प्रतिभागी बनीं. इस डॉटर्स डे हम झारखंड की उन बेटियों की बात करेंगे, जिन्होंने खेल कूद के क्षेत्र में पुरुषों को पछाड़ते हुए टोक्यो ओलंपिक में नई इबारत लिखी. सुविधाओं की घोर कमी की आंधी भी इन्हें रोक नहीं पाई. दरअसल, बात हो रही है टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचने वाली झारखंड की बेटियां निक्की प्रधान और सलीमा टेटे की.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें