25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव : पहले चरण की 20 में से 5 सीटें रेड अलर्ट क्षेत्र, जानें क्या हैं इसके मायने?

एडीआर की रिपोर्ट में बताया गया है कि कांकेर (एसटी) सीट पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), कांग्रेस और गोंडवाणा गणतंत्र पार्टी (जीजीपी) ने दागी उम्मीदवार उतारे हैं. चित्रकोट (एसटी) सीट पर बीजेपी के अलावा आम आदमी पार्टी (आप) और सर्व आदि दल ने दागी कैंडिडेट चुनाव में खड़े किए हैं.

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2023 के पहले चरण की वोटिंग सात नवंबर को होगी. इसकी तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है. मैदान में कुल 223 उम्मीदवार भाग्य आजमा रहे हैं. पहले चरण में जिन 20 विधानसभा सीटों पर वोटिंग होनी है, उसमें बस्तर संभाग की 12 सीटें शामिल हैं. इन 20 विधानसभा सीटों में 25 फीसदी यानी पांच विधानसभा क्षेत्र को रेड अलर्ट विधानसभा क्षेत्र घोषित किया गया है. ये पांच विधानसभा क्षेत्र हैं – उत्तर बस्तर कांकेर जिले की अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित कांकेर (एसटी) सीट, बस्तर (जगदलपुर) जिले की चित्रकोट (एसटी) सीट, खैरागढ़-चिरीमिरी-गांडेय जिले की पंडरिया और कवर्धा विधासनभा सीट. चुनाव में कबीरधाम जिले की दो विधानसभा सीटों को रेड अलर्ट विधानसभा घोषित किया गया है. बता दें कि कांकेर (एसटी) सीट पर 9 उम्मीदवारों के शपथ पत्र का विश्लेषण किया गया. इनमें से तीन ने बताया है कि उनके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं. चित्रकोट (एसटी) में सात प्रत्याशी हैं. इनमें से तीन के विरुद्ध क्रिमिनल केस चल रहे हैं. खैरागढ़ विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ रहे 11 में से तीन प्रत्याशियों ने कहा है कि उनके विरुद्ध आपराधिक मामले दर्ज हैं. कबीरधाम में 14 उम्मीदवार थे और उनमें से तीन के खिलाफ क्रिमिनल केस चल रहे हैं. कवर्धा के 16 में से तीन प्रत्याशियों पर क्रिमिनल केस दर्ज हैं. उम्मीदवारों ने खुद चुनाव आयोग को लिखित में यह बात बताई है कि उनके विरुद्ध आपराधिक मामले चल रहे हैं.

इन पार्टियों ने खड़े किए दागी उम्मीदवार

चुनाव सुधार पर काम कर रही गैर-सरकारी संस्था एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने उन शपथ पत्रों का विश्लेषण करने के बाद एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें बताया है कि किस पार्टी ने कितने दागी उम्मीदवारों को टिकट दिया है. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि कांकेर (एसटी) सीट पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), कांग्रेस और गोंडवाणा गणतंत्र पार्टी (जीजीपी) ने दागी उम्मीदवार उतारे हैं. चित्रकोट (एसटी) सीट पर बीजेपी के अलावा आम आदमी पार्टी (आप) और सर्व आदि दल ने दागी कैंडिडेट चुनाव में खड़े किए हैं.

57 उम्मीदवारों के 15 के खिलाफ आपराधिक मामले

खैरागढ़ में बीजेपी, निर्दलीय, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने दागी उम्मीदवार खड़े किए हैं, तो पंडरिया में कांग्रेस, भारतीय सर्वजन हिताय समाज पार्टी, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने और कवर्धा में बीजेपी, आम आदमी पार्टी और निर्दलीय उम्मीदवारों पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं. इस तरह पांच विधानसभा सीट पर नामांकन दाखिल करने वाले 57 उम्मीदवारों में 15 के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं. और इन्हीं 15 प्रत्याशियों की वजह से इन विधानसभा सीटों को रेड अलर्ट विधानसभा क्षेत्र घोषित किया गया है.

Also Read: भूपेश बघेल बुरे फंसे! ईडी का दावा- छत्तीसगढ़ के सीएम को महादेव ऐप के मालिकों से मिले 508 करोड़ रुपए

इस आधार पर घोषित होता है रेड अलर्ट विधानसभा क्षेत्र

एक विधानसभा सीट पर कितने दागी उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं, उसी के आधार पर किसी विधानसभा क्षेत्र को रेड अलर्ट क्षेत्र घोषित किया जाता है. चुनाव आयोग का प्रावधान है कि अगर किसी एक विधानसभा सीट पर तीन या उससे अधिक ऐसे उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं, जिनके खिलाफ आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं, तो उन असेंबली को रेड अलर्ट विधानसभा क्षेत्र घोषित कर दिया जाए. ऐसे क्षेत्रों में सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए जाते हैं.

कांग्रेस-बीजेपी ने सभी 20 सीटों पर उतारे उम्मीदवार

बता दें कि पहले चरण में जिन 20 विधानसभा सीटों पर वोटिंग हो रही है, वहां कांग्रेस और बीजेपी ने सभी 20-20 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं. जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के 15 उम्मीदवार हैं, आम आदमी पार्टी के 10, सर्व आदि दल और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) के आठ-आठ, हमार राज पार्टी के सात, गोंडवाणा गणतंत्र पार्टी के छह, भारतीय सर्वजन हिताय समाज पार्टी के एक और अन्य पार्टियों के 55 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं.

Also Read: छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने बीजेपी को बताया आरक्षण विरोधी, पूछा- जनगणना क्यों नहीं करा रहा केंद्र

16 उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले

अन्य दलों को छोड़ दें, तो सभी ने दागी उम्मीदवारों को टिकट दिया है. बीजेपी ने पांच, कांग्रेस ने दो, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने तीन, आप ने चार, सर्व आदि दल ने तीन, सीपीआई, हमार राज पार्टी, गोंडवाणा गणतंत्र पार्टी ने एक, भारतीय सर्वजन हिताय समाज पार्टी ने एक दागी उम्मीदवार दिया है. वहीं, पांच निर्दलीय उम्मीदवार भी हैं, जिन्होंने बताया है कि उनके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं. बीजेपी के चार, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के दो, आप के एक, सर्व आदि दल के तीन, सीपीआई के एक, गोंडवाणा गणतंत्र पार्टी के एक और भारतीय सर्वजन हिताय समाज पार्टी के एक प्रत्याशी के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं. इस तरह कुल 26 (12 फीसदी) ऐसे उम्मीदवार हैं, जिनके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं, जबकि 16 (7 फीसदी) के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले हैं.

गंभीर आपराधिक मामले क्या हैं?

  • ऐसे गुनाह, जिसकी अधिकतम सजा पांच साल या उससे अधिक हो.

  • अगर अपराध गैरजमानती हो.

  • अगर कोई चुनावी अपराध किया हो (आईपीसी की धारा 171ई या रिश्वतखोरी).

  • ऐसा गुनाह, जिसकी वजह से राजस्व को नुकसान पहुंचा हो.

  • छेड़खानी, हत्या, बलात्कार और अपहरण से संबंधित गुनाह.

  • ऐसा अपराध, जिसका विवरण रिप्रेजेंटेशन ऑफ द पीपुल एक्ट (सेक्शन 8) में दिया गया है, में शामिल हों.

  • प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट से जुड़े अपराध किए हों.

  • महिलाओं के खिलाफ अपराध किया हो.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें