1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. 34 days long election ends with phase 8 voting in bengal election 2021 exit poll result to clear who wins who loses mtj

8वें चरण की वोटिंग के साथ बंगाल में 34 दिन का चुनाव पर्व संपन्न, मतगणना से पहले Exit Poll Result में जानें- कौन जीत रहा, किसकी होगी हार

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
युवा मतदाताओं ने किया अपने मताधिकार का इस्तेमाल
युवा मतदाताओं ने किया अपने मताधिकार का इस्तेमाल
PTI

कोलकाता : बंगाल चुनाव 2021 के आठवें चरण का मतदान गुरुवार (29 अप्रैल) को संपन्न हो गया. इस चरण में छिटपुट हिंसा के बीच अब तक का सबसे कम 76.07 फीसदी मतदान रिकॉर्ड किया गया. हालांकि, मतदान प्रतिशत कल बढ़ भी सकता है, क्योंकि ये आंकड़े शाम 5 बजे तक के ही हैं. अपडेट आंकड़े चुनाव आयोग शुक्रवार (30 अप्रैल) को जारी करेगा.

आठवें चरण की वोटिंग के साथ ही पश्चिम बंगाल में 34 दिन का चुनाव महापर्व समाप्त हुआ. ममता बनर्जी की कैबिनेट के चार मंत्रियों डॉ आशीष बनर्जी, चंद्रनाथ सिन्हा, साधन पांडेय और डॉ शशि पांजा समेत बीरभूम, कोलकाता उत्तर, मुर्शिदाबाद और मालदा जिला की कुल 35 सीट पर चुनाव लड़ रहे 283 उम्मीदवारों की किस्मत इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (इवीएम) में लॉक हो गयी.

मतदान समाप्त होने के बाद अब लोगों की निगाहें एग्जिट पोल पर टिकी हैं. एग्जिट पोल के बाद 2 मई को मतगणना का सबको इंतजार रहेगा. एग्जिट पोल में इस बात का अनुमान मिल जायेगा कि बंगाल में ममता बनर्जी की सत्ता बरकरार रहेगी या उनकी कुर्सी चली जायेगी और किसी और पार्टी के हाथ में बंगाल की बागडोर जनता सौंप देगी.

आठवें और अंतिम चरण के मतदान के दौरान बीरभूम और उत्तर कोलकाता जिला से सबसे ज्यादा हिंसा की खबरें आयीं. कोलकाता के जोड़ासांको में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उम्मीदवार मीना देवी पुरोहित पर जानलेवा हमला हुआ, तो इंटाली की भाजपा प्रत्याशी प्रियंका टिबड़ेवाल ने आरोप लगाया कि कोलकाता पुलिस ने उनका पीछा किया.

पहली बार एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट और केंद्रीय बलों की निगरानी में बीरभूम के बड़बोले तृणमूल कांग्रेस नेता अणुव्रत मंडल उर्फ केष्टो मंडल ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. मतदान शुरू होने से पहले ही बीरभूम के नानूर में रात भर बमबाजी की खबर आयी. हिंसा की तमाम घटनाओं के बावजूद लोगों ने जमकर मतदान किया.

शाम 5 बजे तक के आंकड़ों के मुताबिक, बीरभूम में सबसे ज्यादा 81.87 फीसदी मतदान हुआ. इसके बाद मालदा में 80.06 फीसदी और मुर्शिदाबाद में 78.07 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. राजधानी कोलकाता के मतदाता घरों से नहीं निकले. यहां सिर्फ 57.53 फीसदी लोगों ने वोट किया.

पश्चिम बंगाल चुनावों में प्रथम चरण में 84.13 प्रतिशत, दूसरे चरण में 86.11 प्रतिशत, तीसरे चरण में 84.61 प्रतिशत, चौथे चरण में 79.90 प्रतिशत, पांचवें चरण में 82.49 फीसदी, छठे चरण में 82 फीसदी और सातवें चरण में 76.90 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था.

उल्लेखनीय है कि बंगाल में इस बार 8 चरणों में चुनाव कराये गये. पहले चरण की वोटिंग 27 मार्च को हुई, जबकि दूसरे, तीसरे, चौथे, पांचवें, छठे, सातवें और आठवें चरण की वोटिंग क्रमश: 1 अप्रैल, 6 अप्रैल, 10 अप्रैल, 17 अप्रैल, 22 अप्रैल, 26 अप्रैल और 29 अप्रैल को हुई. 292 सीटों की मतगणना 2 मई को करायी जायेगी.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें