25.1 C
Ranchi
Monday, February 26, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Ram Mandir Pran Pratishtha : ट्रस्ट ने की अपील, 22 जनवरी के बाद आएं अयोध्या, काशी के 21 पंडित कराएंगे पूजा

22 जनवरी को अयोध्या के राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में भाग लेने के लिए तैयार हैं. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने 22 जनवरी को अयोध्या में होने वाले प्राण प्रतिष्ठा समारोह की तैयारी तेज कर दी है. श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अपील की है कि लोग 22 जनवरी के बाद अयोध्या आएं.

लखनऊ : अयोध्या में आगामी 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर लोगों से अपील की है. उनके द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि हम नहीं जानते अयोध्या में 22 जनवरी को 25 हजार लोग आयेंगे या 25 लाख, लेकिन हमारा निवेदन यही है कि 22 जनवरी के बाद अयोध्या आएं. चंपत राय ने कहा है कि रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के कार्यक्रम के दिन अपने स्थान पर आनंद मनाइये, भजन कीर्तन कीजिए, मिठाई बांटिए, त्योहार मनाइये. देश के करोड़ों घरों के दरवाजे दीपक से प्रकाशित करें. हम समाज को ये सूचित कर रहे हैं 22 जनवरी के बाद अयोध्या आइये. चंपत राय का कहना है कि यदि लाखों लोग आएंगे तो उनको शीत से कौन बचाएगा. खाना कौन खिलाएगा. श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट 25 हजार लोगों के लिए अपना इंतजाम कर रहा है. श्री काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के ट्रस्टी दीपक मालवीय का कहना है कि प्रतिष्ठित वैदिक विद्वान पं. लक्ष्मीकांत दीक्षित उस टीम का नेतृत्व करेंगे, जिसमें उनके दो बेटे, पं. जयकृष्ण दीक्षित और सुनील दीक्षित,दोनों वेदों के निपुण विद्वान, काशी के 18 अन्य पंडितों के साथ शामिल हैं. वेदों के प्रसिद्ध विद्वान पं. लक्ष्मीकांत दीक्षित ने अपने दोनों पुत्रों को वैदिक अध्ययन में मार्गदर्शन किया है. मालवीय ने कहा, पंडितों की टीम के साथ वे भगवान श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह का आयोजन करेंगे.

टीम में काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के पांच सदस्य

इसके अतिरिक्त, टीम में काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के पांच सदस्य शामिल होंगे, जो मालवीय के अनुसार, अयोध्या समारोह को देखने के लिए उत्सुक हैं. वेद, संस्कृत, ज्योतिष और दर्शनशास्त्र के बुद्धिजीवियों और विद्वानों के संगठन काशी विद्वत परिषद का एक दल भी अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में वाराणसी टीम में शामिल होगा. काशी विद्वत परिषद (केवीपी) के महासचिव प्रोफेसर रामनारायण द्विवेदी ने कहा, “काशी विद्वत परिषद के आठ पदाधिकारी, जिनमें इसके अध्यक्ष पद्म पुरस्कार विजेता प्रोफेसर वशिष्ठ त्रिपाठी, उपाध्यक्ष प्रोफेसर रामचंद्र पांडे, प्रोफेसर रामकिशोर त्रिपाठी, प्रोफेसर भगवत शरण शुक्ल और शामिल हैं. दिनेश कुमार गर्ग सहित अन्य लोग अयोध्या में भगवान श्रीराम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होंगे. प्रोफ़ेसर द्विवेदी ने कहा, “हम प्राण प्रतिष्ठा समारोह देखने के लिए समारोह से एक दिन पहले अयोध्या पहुंचेंगे. यह एक अत्यंत विशिष्ट अवसर है.” काशी के विभिन्न मठों के प्रमुख भी समारोह में मौजूद रहेंगे.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें

Ram Mandir Pran Pratishtha : ट्रस्ट ने की अपील, 22 जनवरी के बाद आएं अयोध्या, काशी के 21 पंडित कराएंगे पूजा

22 जनवरी को अयोध्या के राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में भाग लेने के लिए तैयार हैं. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने 22 जनवरी को अयोध्या में होने वाले प्राण प्रतिष्ठा समारोह की तैयारी तेज कर दी है. श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अपील की है कि लोग 22 जनवरी के बाद अयोध्या आएं.

लखनऊ : अयोध्या में आगामी 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर लोगों से अपील की है. उनके द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि हम नहीं जानते अयोध्या में 22 जनवरी को 25 हजार लोग आयेंगे या 25 लाख, लेकिन हमारा निवेदन यही है कि 22 जनवरी के बाद अयोध्या आएं. चंपत राय ने कहा है कि रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के कार्यक्रम के दिन अपने स्थान पर आनंद मनाइये, भजन कीर्तन कीजिए, मिठाई बांटिए, त्योहार मनाइये. देश के करोड़ों घरों के दरवाजे दीपक से प्रकाशित करें. हम समाज को ये सूचित कर रहे हैं 22 जनवरी के बाद अयोध्या आइये. चंपत राय का कहना है कि यदि लाखों लोग आएंगे तो उनको शीत से कौन बचाएगा. खाना कौन खिलाएगा. श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट 25 हजार लोगों के लिए अपना इंतजाम कर रहा है. श्री काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के ट्रस्टी दीपक मालवीय का कहना है कि प्रतिष्ठित वैदिक विद्वान पं. लक्ष्मीकांत दीक्षित उस टीम का नेतृत्व करेंगे, जिसमें उनके दो बेटे, पं. जयकृष्ण दीक्षित और सुनील दीक्षित,दोनों वेदों के निपुण विद्वान, काशी के 18 अन्य पंडितों के साथ शामिल हैं. वेदों के प्रसिद्ध विद्वान पं. लक्ष्मीकांत दीक्षित ने अपने दोनों पुत्रों को वैदिक अध्ययन में मार्गदर्शन किया है. मालवीय ने कहा, पंडितों की टीम के साथ वे भगवान श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह का आयोजन करेंगे.

टीम में काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के पांच सदस्य

इसके अतिरिक्त, टीम में काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के पांच सदस्य शामिल होंगे, जो मालवीय के अनुसार, अयोध्या समारोह को देखने के लिए उत्सुक हैं. वेद, संस्कृत, ज्योतिष और दर्शनशास्त्र के बुद्धिजीवियों और विद्वानों के संगठन काशी विद्वत परिषद का एक दल भी अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में वाराणसी टीम में शामिल होगा. काशी विद्वत परिषद (केवीपी) के महासचिव प्रोफेसर रामनारायण द्विवेदी ने कहा, “काशी विद्वत परिषद के आठ पदाधिकारी, जिनमें इसके अध्यक्ष पद्म पुरस्कार विजेता प्रोफेसर वशिष्ठ त्रिपाठी, उपाध्यक्ष प्रोफेसर रामचंद्र पांडे, प्रोफेसर रामकिशोर त्रिपाठी, प्रोफेसर भगवत शरण शुक्ल और शामिल हैं. दिनेश कुमार गर्ग सहित अन्य लोग अयोध्या में भगवान श्रीराम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होंगे. प्रोफ़ेसर द्विवेदी ने कहा, “हम प्राण प्रतिष्ठा समारोह देखने के लिए समारोह से एक दिन पहले अयोध्या पहुंचेंगे. यह एक अत्यंत विशिष्ट अवसर है.” काशी के विभिन्न मठों के प्रमुख भी समारोह में मौजूद रहेंगे.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें