1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. case filled against who tweeted video for arrest of amu assistant professor dr jitendra nrj

Aligarh News: AMU के सहायक प्रोफेसर डॉ जितेंद्र की गिरफ्तारी के लिए वीडियो ट्वीट करने वाले पर मुकदमा दर्ज

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जेएन मेडिकल कॉलेज में क्लास के दौरान आपत्तिजनक सामग्री पढ़ाने पर निलंबित किए गए सहायक प्रोफेसर डॉ जितेंद्र कुमार की गिरफ्तारी के लिए एएमयू गेट के सामने 24 अप्रैल को धरना करने का ऐलान किया गया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Aligarh
Updated Date
राष्ट्रीय सवर्ण परिषद के अध्यक्ष पंकज धवरैया (मध्य में).
राष्ट्रीय सवर्ण परिषद के अध्यक्ष पंकज धवरैया (मध्य में).
Social Media

Aligarh News: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जेएन मेडिकल कॉलेज में क्लास के दौरान आपत्तिजनक सामग्री पढ़ाने पर निलंबित किए गए सहायक प्रोफेसर डॉ जितेंद्र कुमार की गिरफ्तारी के लिए एएमयू गेट के सामने 24 अप्रैल को धरना करने का ऐलान किया गया है. वीडियो को ट्विट करने पर हाथरस के निवासी पंकज धवरैया पर अलीगढ़ में मुकदमा दर्ज किया गया है. हाथरस के राष्ट्रीय सवर्ण परिषद के अध्यक्ष पंकज धवरैया ने एएमयू के जेएन मेडिकल कॉलेज में सहायक प्रोफेसर डॉ जितेंद्र कुमार की गिरफ्तारी ना होने पर 24 अप्रैल को एएमयू के गेट के सामने धरना शुरू करने का ऐलान किया था और इसका एक वीडियो बनाकर ट्विटर पर पोस्ट कर दिया था.

हाथरस के युवक पर अलीगढ़ में मुकदमा दर्ज

सीओ तृतीय श्वेताभ पांडे ने बताया कि वीडियो के जरिए भड़काऊ भाषण देने वाले लोगों को उकसाने के लिए आपत्तिजनक टिप्पणी करने में हाथरस के निवासी पंकज धवरैया के खिलाफ अलीगढ़ के सिविल लाइन थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है और इस बारे में हाथरस के पुलिस अधीक्षक को पत्र भी लिखा गया है. राष्ट्रीय सवर्ण परिषद के अध्यक्ष पंकज धवरैया ने अपने ऊपर लगाए गए मुकदमे को गलत बताते हुए कहा कि एएमयू की छवि खराब करने वाले प्रोफ़ेसर को पुलिस गिरफ्तार नहीं कर पाई है. राष्ट्रीय सवर्ण परिषद ने शांतिपूर्ण ढंग से इसके विरोध में धरने की बात कही थी, इसमें भावना भड़काने वाली कोई भी बात नहीं है. जो भी मुकदमा दर्ज किया गया है, वह गलत है.

इंक्वायरी कमेटी कर रही जांच

एएमयू के कुलपति प्रो तारिक मंसूर ने जे एन मेडीकल कालिज के फोरेंसिक मेडिसिन विभाग के डाक्टर जितेन्द्र कुमार, जिन्हें कथित मिसकंडक्ट के लिये हाल ही में निलंबित कर दिया गया था, से सम्बन्धित मामले की जांच के लिये 4 सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग इंक्वायरी कमेटी बनाई थी, जो अभी तक जांच कर रही है. पुलिस ने एएमयू के सहायक प्रोफेसर डॉ जितेंद्र कुमार को पूछताछ के लिए बुलाया गया था. पुलिस ने एएमयू के सहायक प्रोफेसर डॉ जितेंद्र कुमार को एक नोटिस तामिल कराया था, जिसमें विवेचना के दौरान सहयोग करने, पुलिस जब बुलाए तब आने, पुलिस की बिना अनुमति के बाहर ना जाने की बात लिखी हैं. पुलिस ने एएमयू के प्रोफेसर डॉ जितेंद्र कुमार से वह विवादास्पद पीपीटी भी ले ली है, जिससे मेडिकल के छात्रों को पढ़ाया गया था.

जानें क्या है पूरा मामला?

एएमयू के जेएन मेडिकल कॉलेज में सहायक प्रोफेसर डॉ जितेंद्र कुमार पर यह आरोप है कि उन्होंने एमबीबीएस 2019 बैच के विद्यार्थियों को कक्षा में प्रोजेक्टर के माध्यम से दुष्कर्म विषय पर देवी-देवताओं के बारे में आपत्तिजनक आपत्तिजनक बातें पढ़ाई थीं. एक स्टूडेंट ने उस पीपीटी का फोटो खींचकर ट्वीट किया था, इसके बाद मामला गरमाया. एएमयू ने डॉ जितेंद्र कुमार को कारण बताओ नोटिस जारी कर निलंबित कर दिया था.

रिपोर्ट : चमन शर्मा

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें