1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. ayodhya ram mandir spiritual leader morari bapu announces a donation of rs 5 crores to shri ram janmabhoomi teerth kshetra trust

Ayodhya Ram Mandir: कथा वाचक मोरारी बापू ने राम मंदिर निर्माण के लिए 5 करोड़ रुपये दान देने का किया ऐलान

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की तैयारियां जोरों पर
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की तैयारियां जोरों पर
File

Ayodhya Ram Mandir: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की तैयारियां जोरों पर हैं. 5 अगस्त को मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम है. इस बीच मंदिर निर्माण के लिए प्रसिद्ध मशहूर कथा वाचक मोरारी बापू ने पांच करोड़ रुपये का दान करने का ऐलान किया है. राम जन्मभूमि पर रामलला के मंदिर की नींव अयोध्या में पांच अगस्त को रखी जाएगी, जिसके लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां पर पहुंचेंगे .भूमि पूजन के लिए पवित्र नदियों का जल और तीर्थ स्थलों की पवित्र मिट्टी लाने का सिलसिला भी शुरू हो गया है.

इसके साथ ही विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने बताया कि मंदिर निर्माण को लेकर पूरे देश के हिंदुओं से पैसे एकत्र किए जाएंगे. संत मोरारी बापू ने प्रवचन के दौरान कहा, 'राम मंदिर निर्माण के लिए हमारे आश्रम की ओर से 5 लाख रुपये दिए जाएंगे. साथ ही प्रभु श्रीराम के सभी भक्त की ओर से 5 करोड़ रुपये दान दिया जाएगा. ये प्रभु श्री राम के चरण में एक तुलसीपत्र के रूप में भेंट होगी.

सोने, चांदी की ईंटें न करें दान

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र अब चांदी सोने की ईंटें आदि का दान स्वीकार नहीं करेगा. ट्रस्ट के महासचिव चंपतराय ने सभी दानदाताओं से अपील की है कि वे सोने, चांदी व अन्य धातुओं की ईंटें दान के लिए लेकर न आएं. इसकी जगह रुपये ट्रस्ट के खाते में जमा करें. उन्होंने कहा कि जनवरी में लोगों ने चांदी की ईंटें दान की तो इसे सामान्य दान माना गया.

लेकिन अब सूचना मिली है कई दानकर्ता चांदी व सोने की सामग्री दान के लिए ला रहे हैं जिसका मूल्यांकन करना ट्रस्ट के लिए मुश्किल है. उन्होंने सभी दान दाताओं से अपील की है कि वे दान को ऑनलाइन अथवा कैश में ट्रस्ट के खाते में जमा करें.

डाला जाएगा टाइम कैप्‍सूल

राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य रामेश्वर चौपाल ने कहा है कि रामजन्मभूमि के इतिहास को सिद्ध करने के लिए जितनी लंबी लड़ाई कोर्ट में लड़नी पड़ी है, उससे यह बात सामने आई है कि अब जो मंदिर बनवाएंगे, उसमें एक 'टाइम कैप्सूल' बनाकर के 200 फीट नीचे डाला जाएगा. भविष्य में जब कोई भी इतिहास देखना चाहेगा तो रामजन्मभूमि के संघर्ष के इतिहास के साथ तथ्य भी निकल कर आएगा ताकि कोई भी विवाद यहां उत्पन्न न हो सके.

Posted By: Utpal kant

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें