1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand government 1 year 367 medical officers of jharkhand received new year gift health minister said villagers get a lot of benefits smj

Jharkhand Government 1 Year : झारखंड के 367 मेडिकल ऑफिसर्स को मिले नये साल का तोहफा, हेल्थ मिनिस्टर बोले- ग्रामीणों को मिलेगा काफी लाभ

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता राज्य के नये 367 मेडिकल ऑफिसर्स को नियुक्त पत्र सौंपते हुए.
Jharkhand news : झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता राज्य के नये 367 मेडिकल ऑफिसर्स को नियुक्त पत्र सौंपते हुए.
सोशल मीडिया.

Jharkhand Government 1 Year, Jharkhand News, Ranchi News, रांची : झारखंड की हेमंत सरकार के एक साल के कार्यकाल के दूसरे दिन बुधवार (30 दिसंबर, 2020) को राज्य के 367 नये मेडिकल ऑफिसरों को नियुक्ती पत्र सौंपा गया. इन चिकित्सकों को नियुक्ति पत्र झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने एक समारोह में प्रदान किया. नये चिकित्सकों में जेपीएससी की ओर से 280 चिकित्सा पदाधिकारी नियुक्त किये गये हैं, जबकि बाकी बचे 87 चिकित्सकों का चयन राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (National Health Mission- NHM) द्वारा हुआ है.

राजधानी रांची के नामकुम स्थित IPH सभागार में JPSC द्वारा नियुक्त 280 चिकित्सक और NHM द्वारा नियुक्त शेष 87 चिकित्सक पदाधिकारियों में 44 स्पेशल मेडिकल ऑफिसर और 43 मेडिकल ऑफिसर को नियुक्ति पत्र झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने प्रदान किया. मंत्री ने कोरोना वायरस संक्रमण के दौरान सरकारी स्वास्थ्य सेवा से जुड़े लोगों के समर्पण के लिए बधाई भी दिया.

इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री श्री गुप्ता ने कहा कि नये चिकित्सकों से वर्तमान सरकार को काफी उम्मीद है. सभी नवनियुक्त चिकित्सक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (Primary Health Centers), सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (Community Health Centers) तथा अपने पदस्थापित केंद्रों में गरीबों व ग्रामीणों को सेवा देंगे और सरकार के स्तंभ के रूप में काम करेंगे. साथ ही झारखंड के विकास में काम करेंगे.

वहीं, स्वास्थ्य चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रधान सचिव डाॅ नितिन कुलकर्णी ने कहा कि वर्ष 2015 के बाद चिकित्सकों की नियुक्ति की जा रही है. ये राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए शुभ संकेत है. नियुक्त होने वाले चिकित्सकों को बहुत सोच- समझ कर पोस्टिंग दी गयी है. इन्हें ग्रामीण क्षेत्रों में काम करना है. इस कारण पारिवारिक जीवन में कोई असर नहीं पड़े, इसलिए पति और पत्नी चिकित्सकों को एक ही जिले में पोस्टिंग दी गयी है. उन्होंने कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में कोई मरीज आयें, तो अस्पताल में रह कर ग्रामीणों की सच्ची सेवा में जुटे एेसी आशा है.

प्रधान सचिव ने कहा कि कोविड-19 प्रकोप के दौरान 4 महीनों तक केवल सरकारी अस्पताल ही अपनी सेवा देते रही है. उस दौरान लगभग सभी निजी अस्पताल बंद थे. सरकारी अस्पतालों में मरीजों का इलाज हो रहा था. डिलिवरी हो रही थी. उन्होंने चिकित्सकों से कहा कि आप नये लोग हैं, नये सोच के साथ काम करें.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (NHM) के अभियान निदेशक रविशंकर शुक्ला ने कहा कि झारखंड में चिकित्सकों की संख्या में सुधार की गुंजाइश है. इसी का प्रयास करते हुए NHM तथा विभाग द्वारा चिकित्सकों की नियुक्ति की जा रही है. उन्होंने कहा कि जहां चिकित्सकों की पोस्टिंग की गयी है, वहां वो अपने कर्तव्य का पालन अवश्य करें और सरकार के सिस्टम के अंतर्गत काम करें.

इस अवसर पर वैश्विक महामारी कोविड-19 के नियंत्रण तथा रोकथाम में योगदान के लिए माइक्रोबायोलाॅजिस्ट एचओडी डाॅ मनोज कुमार, IDSP के स्टेट इपिडेमोलाॅजिस्ट डाॅ प्रवीण कर्ण तथा सीएम हेल्थ एडवाइजर तेजकरण चारण को प्रशस्ति प्रमाण पत्र प्रदान किया गया.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें