1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. after dhanbad scholarship scam of 34 lakhs in garhwa srn

धनबाद के बाद अब गढ़वा में भी 34 लाख का छात्रवृत्ति घोटाला

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
गढ़वा में 34 लाख का छात्रवृत्ति घोटाला
गढ़वा में 34 लाख का छात्रवृत्ति घोटाला
सांकेतिक तस्वीर

गढ़वा : डंडई प्रखंड के दो निजी स्कूलों में ‘नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल’ के जरिये अल्पसंख्यक विद्यार्थियों को मिलनेवाली छात्रवृत्ति में करीब 34 लाख रुपये का फर्जीवाड़ा सामने आया है. इसमें जरही गांव के ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल से 141 और एक अन्य निजी स्कूल के 177 विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति देने की बात कही जा रही है.

ये सभी विद्यार्थी छठी से आठवीं कक्षा तक के बताये जा रहे हैं. खास बात यह है कि इनमें से कोई भी विद्यार्थी उक्त दोनों स्कूलों में नहीं पढ़ता है और न ही इन दोनों स्कूलों में आठवीं कक्षा की पढ़ाई होती है.

जानकारी के अनुसार, दोनों स्कूलों के 10,700 रुपये प्रति अल्पसंख्यक छात्र के हिसाब से राशि दी गयी है. इस प्रकार करीब 34 लाख रुपये का घोटाला हुआ है. ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल में मात्र तीन अल्पसंख्यक विद्यार्थी पढ़ते हैं, जबकि, यहां 141 अल्पसंख्यक विद्यार्थियों के नाम पर पैसों की निकासी की गयी है. इस संबंध में ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल के प्रभारी प्राचार्य चंदन कुमार ने बताया कि अल्पसंख्यक विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दिलाने को लेकर सत्र 2020-21 के लिए केवाइसी का आवेदन दिया गया है.

इसके पहले की कोई जानकारी उन्हें नहीं है और न ही स्कूल के एक भी विद्यार्थी का कभी भी छात्रवृत्ति के लिए फार्म भेजा गया है. उन्होंने बताया कि उनके स्कूल में पहली से पांचवीं कक्षा तक ही पढ़ाई होती है. जबकि, इस संबंध में जिला कल्याण पदाधिकारी सुबास कुमार ने कहा कि इस मामले में जांच दल गठित कर विधिवत जांच होगी. दोषी लोगों के ऊपर निश्चित रूप से कार्रवाई की जायेगी.

छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर सकती है सीआइडी

रांची. सीआइडी के एडीजी अनिल पालटा ने धनबाद में हुए करीब 10 करोड़ रुपये के अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति घोटाले की समीक्षा शुरू कर दी है. इसके लिए उन्होंने धनबाद पुलिस से जांच रिपोर्ट और प्राथमिकी की कॉपी मांगी है. समीक्षा के बाद धनबाद में दर्ज विभिन्न मामलों को टेकओवर कर सभी की जांच के लिए टीम गठित की जा सकती है.

गौरतलब है कि वर्ष 2019-20 के दौरान अल्पसंख्यक विद्यार्थियों को दी गयी प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति में हुए घोटाले की अंतरिम जांच धनबाद में जिला प्रशासन की ओर से करायी गयी थी. जांच में प्रथम दृष्टया 9.99 करोड़ रुपये की गड़बड़ी की बात सामने आयी थी. इस गड़बड़ी में कई लोगों के नाम सामने आये थे. इस घोटाले के साजिशकर्ता के रूप में सादिक खान उर्फ शाहिद का नाम सामने आया है. वह चतरा का रहनेवाला बताया जाता है. उसके गिरोह में 20 से 25 सदस्यों के होने की बात सामने आयी है.

posted by : sameer oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें