1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. these birds including pied myna black drongo guests have started coming to gumla will stay for four months srn

गुमला में आने लगे हैं पाइड मैना, ब्लैक ड्रोंगो मेहमान सहित ये पक्षी, चार माह तक करेंगे प्रवास

इन दिनों हमारे गुमला जिला के जंगलों में रेड भेंटेड बुलबुल, पाईड मैना (एशियन पाईड स्टारली), ब्लैक ड्रोंगो, स्केली ब्रस्टेड मुनिया, स्पोटेड डभ (पनडुक), ग्रीन बी ईटर (मधुमक्खी खाने वाली पक्षी) व गिद्ध जैसे प्रवासी पक्षियों का बसेरा बना हुआ है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
Jharkhand News:  आने लगे हैं मेहमान पक्षी
Jharkhand News: आने लगे हैं मेहमान पक्षी
Prabhat Khabar

इन दिनों हमारे गुमला जिला के जंगलों में रेड भेंटेड बुलबुल, पाईड मैना (एशियन पाईड स्टारली), ब्लैक ड्रोंगो, स्केली ब्रस्टेड मुनिया, स्पोटेड डभ (पनडुक), ग्रीन बी ईटर (मधुमक्खी खाने वाली पक्षी) व गिद्ध जैसे प्रवासी पक्षियों का बसेरा बना हुआ है. ये प्रवासी पक्षी हमारे जिले के जंगलों में प्रत्येक वर्ष ठंड के मौसम में आते हैं और मेहमान के रूप में चार महीने तक रहने के बाद चले जाते हैं. इनमें से रेड भेंटेड बुलबुल व पाईड मैना को जंगलों के समीप देखा जा सकता है.

ये पक्षी जंगल से सटे बाहरी हिस्से में रहते हैं. इसी प्रकार ब्लैक ड्रोंगो को खुला जंगल अथवा खेत में देखा जा सकता है. वहीं स्केली ब्रस्टेड मुनिया छोटी प्रजाति की पक्षी है., जो जंगल में चारों ओर से घिरे पेड़े पर अपना घोसला बना कर रहती हैं और वहीं अपने बच्चे को भी जन्म देती है. इस पक्षी की खासियत यह है कि ये कभी भी खुले खेत, घर के मुंडेर अथवा छत पर नहीं बैठती है. ये सिर्फ पेड़ पर ही बैठती है. स्पोटेड डभ (पनडुक) एक कॉमन पक्षी है.

ये सभी पक्षी हमारे गुमला जिला में सिर्फ ठंड के मौसम में ही नजर आते हैं. वहीं गिद्ध को खुले आसमान में परवाज करते हुए देखा जा सकता है. वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग गुमला मेहमान पक्षियों की सुरक्षा पर विशेष ध्यान दे रही है. ठंड का मौसम है. इस मौसम में कई प्रकार के प्रवासी पक्षी गुमला आते हैं. फिर फरवरी माह में ठंड का प्रभाव जैसे-जैसे कम होने लगता है. वैसे ही प्रवासी पक्षी अपने नये ठिकाने की ओर चले जाते हैं. ऐसे तो प्रवासी पक्षियों का आना अक्टूबर माह में ही शुरू हो जाता है.

परंतु नवंबर एवं दिसंबर माह में प्रवासी पक्षियों की भरमार रहती है. कुछ प्रवासी पक्षी जंगल में चारों ओर से घिरे पेड़ पर अपना घोंसला बनाते हैं तो कुछ पक्षी जंगल के बाहरी हिस्से में अपना घोंसला बनाकर रहते हैं. वहीं जिले में आने वाले नये मेहमान पक्षियों की बात करें तो रेड भेंटेड बुलबुल, पाईड मैना (एशियन पाईड स्टारली), ब्लैक ड्रोंगो, स्केली ब्रस्टेड मुनिया, स्पोटेड डभ (पनडुक), बगुला व गिद्ध जैसे प्रवासी पक्षी हैं. ये हर साल यहां आते हैं. डीएफओ श्रीकांत ने कहा कि ठंड के मौसम में गुमला जिला में कई तरह के प्रवासी पक्षी आते हैं. मौसम जब तक उनके अनुकूल रहता है. तब तक रहने के बाद वे चले जाते हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें